बुधवार, 25 दिसंबर 2013

तुम न जाने किस जहाँ में खो गये

तुम न जाने किस जहाँ में खो गये

- सलिल वर्मा

दिल ढ़ूँढ़ता है फिर वही फ़ुर्सत के रात-दिन,

बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए!

चचा ग़ालिब और फिर उनके बाद चचा गुलज़ार, दोनों इसी शे’र के मार्फ़त समझा गये हैं कि ज़िन्दगी में चाहे सब-कुछ मिल जाए फ़ुर्सत मिलना मुश्किल है. और ऐसे में बस फ़ुर्सत के पुराने दिनों को याद करने और मन मसोस कर रह जाने के अलावा हाथ आता भी क्या है. इन फ़ैक्ट, कभी-कभी तो मुझे भी शक़ होता था कि जितनी आसानी से अनुज मनोज कुमार जी धड़ाधड़ फुर्सत में लिख लिया करते थे, उतनी फ़ुर्सत क्या वास्तव में मिल पाती होगी? और मिलती भी हो तो “तसव्वुरे जानाँ” या “दीदारे यार” से निजात पाकर पोस्ट लिख लेते होंगे? और आज पहली बार ब्लॉग देवता/देवी को हाज़िर नाज़िर जानकर कहता हूँ कि मनोज जी से जलन भी होती थी कि यार कहाँ से इन्होंने फ़ुर्सत की खदान का अलॉटमेण्ट हासिल किया है, एकाध टोकरी हमारे पास भी भिजवा देते तो कौन सा अकाल पड़ जाता.

अब पता नहीं देश में कौन सी ईमानदारी की बयार चली कि कोयला खदान पर छापे पड़ने लगे और हमारी बुरी नज़र लग गई कि जो मोहर हम यहाँ फुर्सत में लूटते थे, उनपर मनोज जी ने ताले लगवा दिये. एकाध लाइसेंसी पोस्ट दिखाई भी दी, लेकिन उसमें वो बात कहाँ. छुप-छुप के पीने का मज़ा कुछ और था. और ये मासिक वेतन जैसी पोस्टों से भला किसी की प्यास बुझी है, अरे इस ब्लॉग की असली पोस्टें तो वो हैं, जो ऊपरी आय की तरह बहती हुई नदी रही हैं. जो मुसाफ़िर आया उसकी प्यास बुझी.

और यही नहीं, इस नदिया के घाट अनेक, जहाँ से पियें, वही मिठास और वही तृप्ति. आचार्य परशुराम राय जी की ‘शिवस्वरोदय’ एक ऐसी दुर्लभ श्रृंखला थी जिसे उन्होंने हमारे लिये सरल भाषा में उपलब्ध करवाया. यही नहीं काव्य-शास्त्र की कड़ियों में जिस सिलसिलेवार ढ़ंग से उन्होंने लिखा है वो ख़ास तौर मेरे लिये किसी क्लासरूम में बैठकर सीखने से कम नहीं था. बल्कि काव्यशास्त्र की जमात में बैठकर ही मैंने अपने बारे में जाना कि अहमक़ उन जगहों पर दरवाज़ा धकेलकर दाख़िल हो जाते हैं. जहाँ फ़रिश्ते भी पेशक़दमी से डरते हैं. आचार्य जी की आँच पर की गई ब्लॉग पर प्रकाशित कविताओं की समीक्षा अपने आप में एक मानदण्ड रही हैं. कोई उनकी समीक्षा से सहमत हो या न हो, वे अपनी तालीम और समझ से हमेशा सहमत रहे हैं. अब परशुराम हैं तो कठोर तो होंगे ही, किंतु कभी रिश्तों के नाम पर समझौता नहीं किया और अपने फ़ैसले को कभी किसी के दबाव में आकर नहीं बदला.

मेरा फोटोइसी कड़ी में एक और नाम है श्री हरीश चन्द्र गुप्त का. “आँच” पर इनकी समीक्षायें पैनी, गहरी, गम्भीर और साहित्यिक हुआ करती थीं. यह अलग बात है कि “मनोज” पर इस अल्प-विराम के पूर्व भी इन्होंने एक लम्बी छुट्टी ले रखी थी. इन्हें कम पढ़ने का मौक़ा मिला, लेकिन जो भी मिला वो एक सीखने जैसा तजुर्बा रहा. अगर कोई रचना हरीश जी की कलम की कसौटी पर परख ली जाए और उसे यदि ये अच्छा कहें तो कोई सन्देह नहीं कि वह रचना चौबीस कैरेट होगी.

मेरा फोटो“मनोज” पर एक और नियमित स्तम्भ रहा है देसिल बयना. ठेठ भाषा में कहें तो देसी कहावतें. कहावतें सिर्फ शब्दों को सजाकर एक निरर्थक से लगने वाले वाक्य का निर्माण नहीं है, बल्कि इसके पीछे एक लम्बी दास्तान होती है, एक परम्परा और एक गुज़रे ज़माने की खुशबू. यह खुशबू लेकर आपके सामने लगातार आते रहे श्री करण समस्तीपुरी. इनके देसिल बयना को अगर तस्वीर के रूप में आपके सामने रखूँ तो बस यही कह सकता हूँ कि जहाँ बाकी सारे लेख, समीक्षाएँ और संस्मरण मॉडर्न पार्टी हैं, वहीं देसिल बयना ज़मीन बैठकर पत्तल में खाने का आनन्द. रेवाखण्ड की बोली में पगा, मिठास का वह पकवान, जिसे जो न खाए बस वो पछताए. व्यक्तिगत रूप से मैंने हमेशा करण जी से ईर्ष्या की है कि आंचलिक बोली में लिखने की बावजूद भी मैं उनकी मिठास तक कभी नहीं पहुँच पाया. फिर दिल को यह कहकर तसल्ली दे लेता हूँ कि राजधानी (पटना) और गाँव में फर्क तो होता ही है. गुलिस्तान के गुलाब और गुलदस्ते के गुलाब की ख़ुशबू भी जुदा होती है.

मेरा फोटोअंत में यदि मनोज कुमार जी का ज़िक्र न किया जाए तो मेरी पोस्ट ही अधूरी रह जायेगी. कोलकाता में बैठे हुए तू ना रुकेगा कभी, तू ना झुकेगा कभी वाले स्टाइल में एक मैराथन लेखन, बिना इस बात की परवाह किये कि कौन पढ़ता है कौन नहीं. हर आलेख एक सम्पूर्ण शोध के बाद और विषय पर पूरे अधिकार के साथ लिखा हुआ. कविता और कहानी, संस्मरण और साक्षात्कार, जीवनी और दर्शन किसी भी विषय को इन्होंने अनछुआ नहीं रखा. कई बार तो लगने लगता है कि साहित्य (विज्ञान भी) की विधाओं में शायद कोई भी पत्थर इन्होंने बिना पलटे नहीं छोड़ा. केवल साहित्य को ही नहीं समेटा इन्होंने, बल्कि रिश्तों को भी समेटा.. स्वयम कोलकाता में रहकर कानपुर, बेंगलुरू, दिल्ली जैसी जगहों से सम्पर्क बनाए रखा और आचार्य जी, गुप्त जी, करण जी और मुझे जोड़े रखा.

मैंने भी दुबारा ब्लॉग लिखना शुरू कर दिया है. फ़ुरसत मिले न मिले, एकाकी जीवन (बाध्यता) ने इतना समय तो फिलहाल मुझे दिया है कि हफ्ते में एक पोस्ट लिख लेता हूँ. ऐसे में जब कभी उन पुरानी गलियों से गुज़रता हूँ तो एक अजीब सा सन्नाटा दिखाई देता है. आँखें फेरकर आगे बढ़ता हूँ तो लगता है कि कोई आवाज़ देकर बुला रहा है पीछे से. लेकिन पलटकर देखता हूँ तो वही ख़ामोशी. सर्दियाँ अपने शबाब पर हैं. तो फिर आइये रिश्तों की गरमाहट महसूस करें सम्बन्धों की “आँच” तापते हुये कविता-कहानी सुने-सुनायें और याद करें अपनी जड़ों को जहाँ न जाने कितना देसिल बयना आपका बाट जोह रहा है.

आज के दिन तो एक सफ़ेद बालों वाला और लाल कपड़ों वाला बाबा कन्धे पर बड़ा सा मोज़ा लिये तोहफ़े बाँटता फिरता है. आप सब लोगों से गुज़ारिश है. मेरे लिये सैण्टा बन जाइये और मुझे मेरा तोहफा दे ही डालिये. तभी तो होगी “मेरी क्रिसमस!!”

33 टिप्‍पणियां:

  1. सलिल भाई के जिससे रिश्ते बने, अटूट बने हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलो कोई तो भटका वापस घर पहुंचा...कुछ और भी पहुंचेंगे..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस पहुंच ही गया समझिए! बिल्कुल बड़े भाई की भूमिका में आ खड़े हुए हैं, अब इस आदेश को नज़‍र‍अंदाज़ किया जा सकता है क्या?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. bare bhaiji..........karan babua aur 'acharyaji' ke bhi gher' kar le aayal jai...........

      salil bhaiji.........abhar.


      pranam.

      हटाएं
  4. इस ब्लॉग का सन्नाटा आखर रहा था .... देखते हैं कब शबाब पर आता है पुन; ये ब्लॉग

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी क्रिसमस पर ये तोहफा हम सबों के लिए है..

    उत्तर देंहटाएं
  6. संबंध कभी कभी बेकफुट पे चले जाते हैं पर सदा रहते हैं ... मिलते ही फूल अपने आप खिल उठते हैं ...
    आपने इस ब्लॉग के सभी स्तंभ पुनः याद करा दिए ... क्रिसमस की बधाई .. फिर से बहार आएगी फिजां पर भी और ब्लॉग पर भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. शायद फिर गुलशन गुलज़ार हो जाये ………क्रिसमस की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. चलने का नाम ही जिंदगी हैं ..
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..
    क्रिसमस की शुभकामनायें! ”

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं प्रतीक्षा कर रहा हूँ कि कब सब ब्लॉगर पूरी तरह सक्रिय होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सभी अग्रजों (ब्लॉग्गिंग के) को ब्लॉग साहित्य में अमूल्य योगदान के लिए...धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुबह का भुला शाम को घर आ जाय तो उसे भुला नहीं कहते।सभी का इंतजार है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मैरी क्रिसमस ! अब ईसा आयेगा इंतजार करिये इसके बाद !

    उत्तर देंहटाएं
  13. आनंद दायक पोस्ट। अब ऐसी पोस्ट पढ़ने को मिले तो कौन ब्लॉगर चुप रह सकता है भला !

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 26-12-2013 को चर्चा मंच की चर्चा - 1473 ( वाह रे हिन्दुस्तानियों ) पर दिया गया है
    कृपया पधारें
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुंदर पोस्ट काफी दिनों बाद पढने को मिली ...!
    =======================
    RECENT POST -: हम पंछी थे एक डाल के.

    उत्तर देंहटाएं
  16. सलिल भाई को उनके सुखद वचनों के लिए बहुत-बहुत साधुवाद और क्रिसमस की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (25 दिसंबर, 2013) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  18. बड़े दिन की हार्दिक शुभकामनायें ! सेंटा बन कर पाठकों को यही तोहफा आप देने के बारे में सोच रहे हैं तो फिर और क्या चाहिये ! शुभकामनायें व अभिनन्दन !

    उत्तर देंहटाएं
  19. मैंने कल ही लिखा है कि पाठक नहीं है, इसलिए ब्‍लाग पर लिखना बन्‍द ही करना पड़ेगा। यदि लोग पहले की तरह जुटेंगे तो लिखने में भी आनन्‍द आएगा। आपका स्‍वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. नियमित पढ़े जाने वाले ब्लॉग्स पर चुप्पी अखरती ही है !
    अच्छा है कि अच्छे लौटें !

    उत्तर देंहटाएं
  21. सोलह आने सच कोई गुंजाइश कहाँ

    उत्तर देंहटाएं
  22. प्रणाम !

    एक तऽ बोखार लगा हुआ था और दोसर कि निवेदन लिखा था इसीलिए हम थोड़ा कनफ़ूज हो गए। आज चाचा जी ने कलकत्ता से फोन कर के बताया कि धर्र बुरबक उ निवेदन नहीं आदेश था। अब बताइए कौनो आप्शन है हमरे पास ? चलिए नया साल में नया तेवर आ पुराना फ़्लेवर के साथ मिलेंगे।

    लेकिन एगो बात कहें? ई पूरा चिट्ठा पढ़ गए मगर बुझाया एक्कहि गो बात। उ लगा कि आप ई सब लिखे नहीं है बस माइक धर के बोल दिए। फ़ोटुओ मुखर है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत बढिया....…क्रिसमस की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  24. यह साल तो जैसा बिता सो बिता ... अगले साल की तैयारी मे लगा जाये ... ब्लॉग जगत की गलियों मे अब यह सन्नाटा न रहे यही दुआ है |

    मनोज दादा और सलिल दादा को प्रणाम |

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।