सोमवार, 3 सितंबर 2012

एक दिन के वास्ते ही गांव आना


एक दिन के वास्ते ही गांव आना
श्यामनारायण मिश्र

ऊब जाओ  यदि कहीं ससुराल में
एक दिन के वास्ते ही गांव आना 
लोग कहते  हैं  तुम्हारे  शहर में 
हो  गये  दंगे  अचानक  ईद को 
हाल  कैसे  हैं  तुम्हारे क्या पता 
रात भर तरसा विकल मैं नींद को
और  वैसे  ही  सरल  है आजकल
बम पटकना  या छुरा चाकू चलाना 

शहर  के  ऊंचे मकानों के तले 
रेंगते  कीड़े    सरीखे   लोग 
औ उगलते हैं विषैला सा धुंआ 
ये  निरंतर   दानवी  उद्योग
छटपटाती  चेतना  होगी भटकती
ढूंढ़ने को  मुक्त सा कोई ठिकाना 

बाग  के  फूले कदंबों  के  तले 
झूलने की लालसा होगी तुम्हारी 
पांव लटका बैठ मड़वे के किनारे
भूल जाओगी शहर की ऊब सारी
बैठ  कर   चट्टान  में  निर्झर  तले
मुक्त क्रीड़ा मग्न होकर खिलखिलाना
***  ***  ***
चित्र : आभार गूगल सर्च

21 टिप्‍पणियां:

  1. रात भर तरसा विकल मैं नींद को.... MAIN BHI ABHI EK DIN KE LIYE GAAON GAYA THA.. BADI ACHHI NEEND AAI THEE... AAJ BHI GAAON KOLAHAL SE DUR HAIN.. BADHIYA GEET MISHRA JI KA

    उत्तर देंहटाएं
  2. छटपटाती चेतना होगी भटकती
    ढूंढ़ने को मुक्त सा कोई ठिकाना

    बैठ कर चट्टान में निर्झर तले
    मुक्त क्रीड़ा मग्न होकर खिलखिलाना

    bahut sundar abhivyakti ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऊब जाओ यदि कहीं ससुराल में
    एक दिन के वास्ते ही गांव आना bahut sunder.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऊब जाओ यदि कहीं ससुराल में
    एक दिन के वास्ते ही गांव आना,,,,,आभार मनोज जी,,,

    RECENT POST-परिकल्पना सम्मान समारोह की झलकियाँ,

    उत्तर देंहटाएं
  5. शहर की ऊब को बखूबी वर्णित किया है ...सुंदर रचना पढ़वाने का आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. गांव की पुकार और मिट्टी की गंध की याद दिलाती एक अच्‍छी कविता । धन्‍यवाद मनोज जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गांव अपनी बेटियों को हमेशा याद करता है। जब तक गांव है समझो बेटियों के पैर तले की जमीन कोई खिसका नहीं सकता।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऐसी पुकार कि मन भाग चला पुकारने वाले के पास.. मिश्र जी की कविता ह्रदय से संवाद करती है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक पुराना फ़िल्मी गीत याद आ गया..
    बता दूं क्या लाना/तुम लौट के आ जाना/एक छोटा सा नज़राना, पिया/याद रखोगे कि भूल जाओगे..
    और जब गाँव की ओर लौटने को इतने आकर्षण हों जो अन्यत्र दुर्लभ हों तो कोई कैसे दूर रह सकता है..
    मजबूरियाँ बेडी बन जाती हों तो और बात है, वरना गाँव से दूर कौन खुश है!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 4/9/12 को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.inपर की जायेगी|

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थक प्रस्तुति ... आभार
    मोहब्बत यह मोहब्बत - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  12. लोग कहते हैं तुम्हारे शहर में
    हो गये दंगे अचानक ईद को
    हाल कैसे हैं तुम्हारे क्या पता
    रात भर तरसा विकल मैं नींद को
    पहले ही देख लेता है कवि आनागत को बमपात को ,उत्पात को ,बेहतरीन रचना -
    लोग कहते हैं तुम्हारे शहर में
    हो गये दंगे अचानक ईद को
    हाल कैसे हैं तुम्हारे क्या पता
    रात भर तरसा विकल मैं नींद को

    उत्तर देंहटाएं
  13. पहले ही देख लेता है कवि आनागत को बमपात को ,उत्पात को ,बेहतरीन रचना -
    लोग कहते हैं तुम्हारे शहर में
    हो गये दंगे अचानक ईद को
    हाल कैसे हैं तुम्हारे क्या पता
    रात भर तरसा विकल मैं नींद को
    मनोज भाई ब्लड प्रेशर के प्रबंधन में नियम निष्ठ हो दवा खाना ज़रूरी है .ड्रग कम्प्लाइयन्स बेहद ज़रूरी रहती है .बीटाब्लोकर्स आज हर तीसरा आदमी खाता है .

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक एक शब्द प्रिय है गीत का ...एक एक भाव

    बाग के फूले कदंबों के तले
    झूलने की लालसा होगी तुम्हारी
    पांव लटका बैठ मड़वे के किनारे
    भूल जाओगी शहर की ऊब सारी
    बैठ कर चट्टान में निर्झर तले
    मुक्त क्रीड़ा मग्न होकर खिलखिलाना

    उत्तर देंहटाएं
  15. मन को छूती हुई रचना ... सार्थक रचना ... शुक्रिया इस रचना के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. गांव में सुकून है, शहर में नफरत? कुछ लोग कहते हैं कि अब मामला उलट होता जा रहा है। पंचायती राज की पार्टीबन्दी वहां जहर घोल गयी है?

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।