सोमवार, 1 अक्तूबर 2012

चर्खी हुई चाकरी

चर्खी हुई चाकरी

श्यामनारायण मिश्र

छूटे खेत खाद

सावन के मेह

चर्खी हुई चाकरी निचुड़ी गन्ने जैसी देह।

 

लापरवाही वाले लमहे

ओसारे की खाट

पर्वों के मेले

कस्बे की हफ़्तेवारी हाट

दूर छोड़ आई है गाड़ी अपने ग्यौंड़े गेह।

 

अपने मस्तक और हाथ हैं

नाम दफ़्तरों के

हम तो बकरी भेड़

चढ़े हैं नाम अफ़सरों के

उबर नहीं पाता अपने ही बच्चों को स्नेह।

12 टिप्‍पणियां:

  1. आभार सर जी

    आदरणीय मिश्र जी की उत्कृष्ट कृति पर

    एक तुच्छ प्रस्तुति

    नारकीय यह नौकरी, खाय जान अध्यक्ष ।

    नए नए हर दिन पड़े, यक्ष-प्रश्न मम कक्ष ।

    यक्ष-प्रश्न मम कक्ष, सुबह से शाम हो रही ।

    होता दही दिमाग, युधिष्ठिर कथा अनकही ।

    करे पलायन नित्य, छोड़कर जान चार की ।

    नित चिक चिक फटकार, वहां भी सुनूँ नार की ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमेशा की तरह मिश्रजी की यह कविता भी माटी के गंध से भरपूर..

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहाँ है वो अब
    ओसारे की खाट
    और लापरवाही
    वाले लम्हे
    है तो बस यहाँ
    सुबह से शाम
    चिक चिक चिक चिक
    कई बार लगता है
    यूँ चल देने में
    क्या है तुक ?
    सुंदर रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  4. छूटे खेत खाद

    सावन के मेह

    चर्खी हुई चाकरी निचुड़ी गन्ने जैसी देह।

    बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ तो मजबूरियां रहीं होंगी...वर्ना हम भी आदमी काम के थे...

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक और बेहतरीन प्रस्तुति मिश्र जी की,,,,,

    RECECNT POST: हम देख न सके,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. मिश्र जी की खूबसूरत रचना पढ़वाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. मिश्र जी की कविता सदैव प्रभावित करती है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।