मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012

कविता - श्रद्धा-सुमन


श्रद्धा-सुमन
आचार्य परशुराम राय




क्या कहूँ
बापू,
आपके बन्दरों ने
जीना हराम कर दिया -
एक सुनता नहीं,
एक देखता नहीं
और
एक कुछ कहता नहीं।
जो देखता है, बोलता नहीं,
जो बोलता है, सुनता नहीं
और
जो सुनता है,
वह न देखता है, न बोलता है।


इन तीनों से
आ मिले हैं
दो और बन्दर,
एक बात-बात पर
देता रहता है
बन्दर-घुड़की
और दूसरा
सब कुछ
छीन लेता है।

अब तो
इनकी जनसंख्या भी
इतनी हो गई है
कि क्या कहूँ,
इनके आतंक से
त्रस्त जनता
किंकर्तव्यविमूढ़ है।
इनके द्वारा
आपकी समाधि पर
चढ़ाने के लिए फूल
लाए गए हैं
उजाड़कर
फुलवारियों को।
पर, पास मेरे
जो बचे श्रद्धा सुमन,
स्वीकार करें इनको
बापू।
**** 
       

31 टिप्‍पणियां:

  1. इनके द्वारा
    आपकी समाधि पर
    चढ़ाने के लिए फूल
    लाए गए हैं
    उजाड़कर
    फुलवारियों को।
    पर, पास मेरे
    जो बचे श्रद्धा सुमन,
    स्वीकार करें इनको
    बापू।

    BAHUT SUNDAR SHRADDHANJALI .SAADAR PRANAM.

    उत्तर देंहटाएं
  2. विश्व-वन्द्य महात्मा गाँधी और परमादरणीय भारत के सपूत लालबहादुर शास्त्री जी को सादर कोटि-कोटि नमन।

    उत्तर देंहटाएं

  3. पर, पास मेरे
    जो बचे श्रद्धा सुमन,
    स्वीकार करें इनको
    बापू।
    हृदय से सादर नमन ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. गुरुवर की चिंता सही, मूक बधिर कपि सूर |
    जनसंख्या बढती चली, भारत माँ मजबूर |
    भारत माँ मजबूर, पुकारे बापू आजा |
    सत्ता शासक क्रूर, बजाये सबका बाजा |
    तीन चिकित्सक श्रेष्ठ, बुलाये अब तो रविकर |
    आँख कान सह कंठ, ठीक कर देवे गुरुवर ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. इन तीनों से
    आ मिले हैं
    दो और बन्दर,
    एक बात-बात पर
    देता रहता है
    बन्दर-घुड़की
    और दूसरा
    सब कुछ
    छीन लेता है।
    vaah bahut badhiya ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. पर, पास मेरे
    जो बचे श्रद्धा सुमन,
    स्वीकार करें इनको

    आदरणीय महात्मा गाँधी और लालबहादुर शास्त्री जी को मेरा भी नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  7. गांधी जी के वर्त्तमान लोकतंत्र में औचित्य पर यह कविता, राष्ट्र के गांधीवाद के मृतप्राय, विद्रूप स्वरुप को इतनी सरलता और सहजता से प्रस्तुत करती है कि ह्रदय आंदोलित हो जाता है.. आचार्य जी की कविता पहली बार पढ़ने को मिली (इन दिनों फेसबुक पर छिटपुट रचनाएँ दिख जाती हैं)और मन श्रद्धा से भर आया..
    आज के दिन राष्ट्र के उस विस्मृत सपूत को भी इसी मंच से स्मरण करना चाहूँगा जिसका नाम लाल बहादुर था!! हे भारत के लाल, तुम्हें शत शत नमन!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. लगता है कि आप भूल रहे हैं। मेरी कई कविताएँ इसी ब्लॉग पर प्रकाशित हुई हैं और उनपर आपकी बड़ी प्यारी उत्साहवर्धक टिप्पणियाँ भी मैंने पढ़ी हैं।

      हटाएं
    2. ओह! तब तो भूल हुई या स्मृति ने छल किया है मेरे साथ!!

      हटाएं
  8. इससे पहले कि इस टिप्पणी को स्पैम खा जाए, कृपया इसे बचा लें!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. अब तो वो तीनों बन्दर कटहे भी हो गए हैं.
    बापू को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  10. इन तीनों से
    आ मिले हैं
    दो और बन्दर,
    एक बात-बात पर
    देता रहता है
    बन्दर-घुड़की
    और दूसरा
    सब कुछ
    छीन लेता है।
    bahut hi sundar rachana .....bapu ko shat shat pranam

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच ही ऐसे बंदरों की संख्या बढ़ती ही जा रही है ... बापू और शास्त्री जी को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ पुष्प बचे हैं मन के ..करने को अर्पित तुम्हें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. sach bandaron ki bheed bahut hai ..bandar bant khoob chal rahi hai ..
    bahut badiya samyik prastuti
    Baapu ko naman!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बापू के जन्मदिन पर हमारी ओर से भी श्रद्धा सुमन...

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपके साथ मैं भी बापू को श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. जो कुछ बचे हैं श्रद्धा सुमन ...
    नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बापू और शास्त्र जी के जन्मदिवस के अवसर पर उन्हें आदर सहित श्रद्धासुमन समर्पित।

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक गूंगा बन्दर देश डूबा रहा है बाकि मिलकर को लूट रहे हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  19. तृप्त हुई होगी बापू की आत्मा इस कविता को पढ़कर। कोई तो है जो देख-बोल-सुन सब सकता है!

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी समाधि पर
    चढ़ाने के लिए फूल
    लाए गए हैं
    उजाड़कर
    फुलवारियों को।katu satya ....

    उत्तर देंहटाएं

  21. फैलती रहें अनीतियाँ ,अमर बेल की तरह
    छल्ले फँसाती शाखा-प्रशाखाओं में बिना किसी अवरोध के !
    सच के कँटीले रास्ते से भाग ,
    यहाँ बैठे रहें ,अंध, मूक,बधिर बने,
    गज़ब का संयम ओढ़े ,
    सबसे तटस्थ,निर्लिप्त !
    इस कमरे के अंदर ;
    परम संत बने आत्ममुग्ध ,
    ये तीन बंदर !

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।