सोमवार, 4 अप्रैल 2011

किरण लिखे नवगीत

किरण लिखे नवगीतSn Mishra

श्यामनारायण मिश्र

घंटियां बजाती,

लौटती कलोरों पर

पर्वत के छोरों पर

        उतरी है शाम।

धूप-छांव ने

बातचीत के लिए चार पल खोजे।

गूंज उठे घाटी में

ग्वालों के वंशी – अलगोजे।

पंख फड़फड़ाती,

दुधिया हिलोरों पर

झील के कटोरों पर

        उतरी है शाम।

पुल के नीचे

अबाबील का गूंज उठा संगीत।

सरपत की निब से

पानी पर किरण लिखे नवगीत।

चौक पूरने लगीं

टोलियां खेल खेल मैदानों पर।

मंडप जैसी तनी धुएं की

दुहरी पर्त मकानों पर।

डुगडुगी बजाती,

गांव – गली  खोरों   पर

नृत्य पर के ढ़िढोरों पर

          उतरी है शाम।

22 टिप्‍पणियां:

  1. क्या खूब, इन पंक्तियों में उतरी और सब ओर छलक गयी शाम!

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्राकृतिक सौंदर्य को समेटे सुन्दर नव गीत

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्राकृतिक बिम्बों से सुसज्जित मनभावन नवगीत।

    उत्तर देंहटाएं
  4. धूप-छांव ने
    बातचीत के लिए चार पल खोजे।
    गूंज उठे घाटी में
    ग्वालों के वंशी – अलगोजे ...

    वाह ... धूप छाँव और अल्गोज़ो की तान .... क्या खूब उतारा है प्राकृति के रंगों को इस रचना में ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वह वह बहुत ही खूब लिखा है आपने !हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर गीत....
    मनोभावों को खूबसूरती से पिरोया है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शाम उतरने पर ली है किरनों ने विदाई की आज्ञा, सुन्दर पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर शब्दचित्र उकेरा है...बहुत सुन्दर गीत

    उत्तर देंहटाएं
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 05 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत स्पष्ट लेखन है ...
    जैसे आँखों के सामने से गुज़र रही है -सांझ......
    पर्वत की छोटी से उतर रही है सांझ....
    बहुत सुंदर नवगीत.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर नवगीत!
    --
    नवरात्र के प्रथम दिन माँ शैलपुत्री को प्रणाम करता हूँ!
    --
    नवसम्वतसर सभी का, करे अमंगल दूर।
    देश-वेश परिवेश में, खुशियाँ हों भरपूर।।

    बाधाएँ सब दूर हों, हो आपस में मेल।
    मन के उपवन में सदा, बढ़े प्रेम की बेल।।

    एक मंच पर बैठकर, करें विचार-विमर्श।
    अपने प्यारे देश का, हो प्रतिपल उत्कर्ष।।

    मर्यादा के साथ में, खूब मनाएँ हर्ष।
    बालक-वृद्ध-जवान को, मंगलमय हो वर्ष।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. aadarniy sir
    sabse pahle to main dil se aapse maffi chahti hun jo itne lambe samay ke baad aapke blog par aai hun.
    gat decembar se swasthy bahut hi bigad gaya tha to us douran main net par to aa hi nahi rahi thi .
    shayad pichle maah se dheere - dheere koshish karti hun ki thodea
    samay de sakun .
    post to shrimaan ji se karva de rahi hun .par tippni to main hi dalti hun .sach maniye idhar bar -bar dhyan aapke blog par jaata tha par lagta tha ki pahle jitne comments aaye hain to unka jawabto de dun .vah bi kabbhi ek -do ya fir kabhi char paanch hi kar pati thi kyon ki abhi bhi jyda samay ke liye
    nahi baith paati hun.
    aasha hai aap sach jankar mujhe dil se xhma karenge.
    ----- bahut dino baad bahut -bahut badhiya avam man me utar jaane wala geet padhne ko mila.
    bahut hi jyada pasand aaya aapka yah geet.
    पुल के नीचे

    अबाबील का गूंज उठा संगीत।

    सरपत की निब से

    पानी पर किरण लिखे नवगीत।
    bahut hi badhiya upma ,prkritik sundarta puri tarah chhalak kar aapke geet me utar aai hai.
    hardik abhnandan
    xhma yachna ke saath aapko sadar pranaam.
    aur aapne mere blog par aakar punah mera utsaah badhaya iske liye bhi aapko bahut bahut dhanyvaad .
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  13. अलगोजे, धुँए की दुहरी पर्त तथा डुगडुगी ने तो जैसे इस नवगीत में चार चाँद लगा दिए हों| रचनाकार को बहुत बहुत बधाई|
    http://samasyapoorti.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।