सोमवार, 18 अप्रैल 2011

नवगीत : संध्या सिन्दूर हो गई

clip_image001

Sn Mishraश्यामनारायण मिश्र

फैली है बेले की गंध

जूड़ा क्या खोल दिया तुमने।

शीतल परिवेश हो गया

लगता है अभी-अभी टहली हो।

सपनों के पंखों पर उड़ती

धरती की तुम्हीं परी पहली हो।

एक नज़र पीकर मन मस्त

ऐसा क्या घोल दिया तुमने।

Indian-motifs-42

संगमर्मर साध बैठ मौन

और हो समीप धुंआधार।

व्यक्त जो कभी न हो सका

ऐसा ही अपना है प्यार।

अंतर्मन गूंज रहा है

ऐसा क्या बोल दिया तुमने।

हरी-भरी घाटियों में

संध्या सिन्दूर हो गई।

गाने को गीत प्रणय के

वाणी मज़बूर हो गई।

लगता हूं मैं बिका-बिका

ऐसा क्या मोल दिया तुमने।

30 टिप्‍पणियां:

  1. सिंदूरी आभा लिये बहुत सुन्दर नवगीत्।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय मनोज कुमार जी
    नमस्कार !
    अंतर्मन गूंज रहा है ऐसा क्या बोल दिया तुमने। हरी-भरी घाटियों में संध्या सिन्दूर हो गई।
    ..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी-अभी टहली हो। सपनों के पंखों पर उड़ती धरती की तुम्हीं परी पहली हो...सुन्दर नवगीत् मनोज जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. अंतर्मन गूंज रहा है

    ऐसा क्या बोल दिया तुमने।


    लगता हूं मैं बिका-बिका ऐसा क्या मोल दिया तुमने।

    बहुत खूबसूरत नवगीत ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्यामनारायण मिश्र जी एवं आपको बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर - हरी-भरी घाटियों में संध्या सिन्दूर हो गई।

    बस इतनी सी .....

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर चित्रो से सजी सुंदर रचना, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह बहुत सुन्दर गीत .अंतिम पंक्तियाँ तो कमाल हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हरी-भरी घाटियों में संध्या सिन्दूर हो गई। गाने को गीत प्रणय के वाणी मज़बूर हो गई। लगता हूं मैं बिका-बिका ऐसा क्या मोल दिया तुमने।

    बहुत सजीव सुंदर वर्णन से जीवित हो उठी है कविता ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आद. मनोज जी,
    नए प्रतिमानों के साथ श्याम नारायण जी का नव गीत मन को छू गया !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  11. सिन्दूरी रंगों मे चतका महका सुन्दर नवगीत।। मिश्र जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  13. शीतल परिवेश हो गया

    लगता है अभी-अभी टहली हो।

    सपनों के पंखों पर उड़ती

    धरती की तुम्हीं परी पहली हो।

    एक नज़र पीकर मन मस्त

    ऐसा क्या घोल दिया तुमने।
    Bahut,bahut pasand aaya,poorahee geet!

    उत्तर देंहटाएं
  14. मिश्रजी अपनी रचनाओं के लिए पुराने आयामों के नवीनीकरण करने में बड़े ही सिद्धहस्त थे।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर गीत!
    भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 19 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूबसूरत और मनोमुग्धकारी कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  18. मनोहारी अंतर्मन में गूंजने वाला नव गीत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  19. कोमल भावों , सुन्दर बिम्बों एवं अर्थपूर्ण शब्दचयन से सजा नवगीत ...चित्रों का संयोजन बहुत अच्छा

    उत्तर देंहटाएं
  20. बिनमोल ख़रीदा जिसने , कीमत क्या हो ...
    खूबसूरत भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर नवगीत। मिश्र जी के गीतों की आभा ही कुछ और होती है और अंतस तक झंकृत करती है।

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह! बहुत सुन्दर!
    जूड़ा क्या खोल दिया तुमने, शीतल परिवेश हो गया!

    कभी पढ़ा था - जूड़े में खोंस कर गुलाब, गन्दुमी शरीर खिल गया!

    जूड़ा होता ही ऐसा है!

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।