मंगलवार, 12 अप्रैल 2011

लघुकथा : खाली ग्लास

लघुकथा : खाली ग्लास

सत्येन्द्र झा

“सकारात्मक दृष्टिकोण का परिचय हमेशा देना चाहिये।” प्रोफेसर साहब कक्षा में कह रहे थे, “एक ग्लास में आधा पानी भरा है... सकारात्मक दृष्टिकोण वाले इस ग्लास को आधा भरा कहेंगे और जिनकी सोच नकारात्मक है वे कहेंगे कि ग्लास आधी खाली है।”

एक क्षात्र उठकर जोर से बोला, “लेकिन सर ! यह आदर्श और एक हद तक असंभव दृष्टि है। अब तो गरीबों को ऐसा चश्मा पहना दिया गया है कि उनके सामने पूरी भरी गलास भी हो तो भी उन्हे खाली ही लगती है। क्योंकि उन्हे पता है कि उस भरे ग्लास से एक बूंद पानी भी उन्हे मिलने वाला नहीं है।”

(मूलकथा मैथिली में “अहींकें कहै छी” में संकलित “खाली गिलास” से हिन्दी में केशव कर्ण द्वारा अनुदित।)

18 टिप्‍पणियां:

  1. गरीबी या गरीब होना पाप नही है लेकिन आज के बदलते सामाजित आर्थिक परिप्रेक्ष्य में अभावग्रस्त लोगों की मानसिकता ही है जो कहीं न कही जीवन के प्रति उनमें नकारात्मक दृष्टिकोंण को(Pessimistic Outlook)स्थायी भाव के रूप में अपना वर्चस्व बनाए रखती है। इस लिए उनकी मानसिकता भी वैसी ही बनी रहती है।
    अनुवाद सटीक है।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब ग्लास भरा हो पर मिलना न हो तो तृष्णा चरम पर होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. vidambana ye bhee hai ki mehnat karna kisee ko bhata nahee........
    uplabdhiyo ke liye sangharsh karna hee nahee chahte.......
    short cut apnate hai......
    :(
    asambhav kuch nahee......manobal chahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्यारी लघुकथा. रामनवमी की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. लघुकथा का मर्म स्‍पष्‍ट है। पर जिस मुहावरे का उपयोग किया गया है वह फिट नहीं बैठता। चश्‍मा पहनाने का अर्थ भ्रम की दुनिया में रखने या रहने से है। लेकिन यहां तो यह हकीकत ही है कि गरीब को सचमुच भरे गिलास से एक बूंद भी नहीं मिलने वाली।

    उत्तर देंहटाएं
  7. यथार्थ बोध कराती सुन्दर लघुकथा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ओह कैसी बिडम्बना है ..है पर मिलता नहीं .बहुत सच्ची लघुकथा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच में बहुत बड़ी विडम्बना है
    Coral

    उत्तर देंहटाएं
  10. किसी को भी अप्राप्य वस्तु बेमानी सी ही लगती है ।और सच भी यही है ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बढ़िया लघुकथा!
    इस सोच का जवाब नहीं!
    रामनवमी के साथ बैशाखी और अम्बेदकर जयन्ती की भी शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  12. pristhti aur soch apne najeriye ke seema tay karti hai ,ek hi vichar ka har jagah maujud hona jaroori nahi .baat man ko chhoo gayi ,sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  13. सत्येन्द्र जी की कथा हमेशा त्रिकोण का चौथा कोण प्रसतुत करती है!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. सत्येन्द्र जी के बहुत कम शब्दों में बहुत ही तीक्ष्ण व्यंजना अंतर्निहित होती है। यह उनकी विशेषता है।

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।