सोमवार, 20 फ़रवरी 2012

गांव की ललक

गांव की ललक

श्यामनारायण मिश्र

अम्मा  की  डाली आदत सी
पुरखों से  मिली विरासत सी
    छोड़  नहीं  पाता  हूं
             गांव की ललक।

धड़कन में हंसों का शोर,
    आंखों में लहराता ताल।
सपनों  में  तैरती  रही,
    मछुआरी नौका की पाल।
हंसी में नहीं
    गगरी के
             कंठ की छलक।

दफ़्तर में ढूंढ़ता कुटुम्ब,
    अफसर में दादा का नेह-छोह।
देख चापलूसों की भीड़,
उबल - उबल पड़ता  विद्रोह।
पानी में आहत
पुरुषार्थ  की झलक।

मंडी में खेत के निशान,
    कोल्हू में सरसों  की गंध।
थका - थका ढूंढ़ता रहा,
    कविता में विरहा के छंद।
मिली नहीं चश्मे
        भींगती   पलक।

21 टिप्‍पणियां:

  1. मिट्टी की खुशबू लिए पोस्ट...... सच में नहीं छूटती गाँव की ललक

    उत्तर देंहटाएं
  2. गाँव का पूरा दृश्य दिखा दिया .... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. गांव की ललक तो बरक़रार ही रहती है
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  4. गाँव की याद आपकी हर पंक्ति के साथ आयी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर दृश्य दिखाती पंक्तियाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मंडी में खेत के निशान,
    कोल्हू में सरसों की गंध।
    थका - थका ढूंढ़ता रहा,
    कविता में विरहा के छंद।
    मिली नहीं चश्मे
    भींगती पलक।
    Wah! Kya baat hai!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    ..शिव रात्रि पर हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर गीत पढवाने के लिए सादर आभार सर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. गांव की ललक को छोड़ पाना तो सच में मुश्किल होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपने बचपन का घर भला कौन भूल पाता है। अच्‍छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  11. इतना कुछ जिन्हें यादकर गाँव याद आता है... 'गाँव की ललक' शायद फिर से लौट चलने का आह्वान है. एक पुकार जो कहती है आ अब लौट चलें!!
    मिश्र जी को पढ़ना हमेशा एहसास कराता है कि हमने क्या खोया है!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अम्मा की डाली आदत सी
    पुरखों से मिली विरासत सी
    छोड़ नहीं पाता हूं
    गांव की ललक।
    sundar rachna ........

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर. इसीलिये हम बीच बीच में गाँव घूम आते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अध्बुध शैली में लिखा सुन्दर गीत ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुंदर भाव संयोजन एवं मिट्टी की खुशबू से सुसजित अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  16. मंडी में खेत के निशान,
    कोल्हू में सरसों की गंध।
    थका - थका ढूंढ़ता रहा,
    कविता में विरहा के छंद।
    मिली नहीं चश्मे
    भींगती पलक।
    वाह !जहां इतने सुन्दर भाव हों वहां सिर्फ वाह ही नकालता है मुंह से ,वाह क्या बात है .

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपना प्यारा गांव याद आ गया।
    वो पहाड़ पर बैठ शाम गुजारना याद आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  18. gaav ki yaadein to aisi hi hoti hai...achchi prastuti

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।