सोमवार, 9 मई 2011

अहसासों का चौरा दरका

clip_image001

श्यामनारायण मिश्र

कौन करे दिये-बत्तियां

तुमने जो लिखी नहीं

मैंने  जो   पढ़ी   नहीं

        आंखों में तैर रहीं चिट्ठियां।

 

छाती से

सूरज का दग्ध-लाल गोला लुढ़काकर,

अभी अभी बैठा हूं

आंखों के दरवाज़े

        पलकें उढ़काकर।

भीतर ही भीतर

लगता है कोई

        खोद रहा खत्तियां।

 

सुबह-शाम

विष की थैली उलटाकर

        समय-सांप सरका।

नेह-छोह से तुमने

लीपा था पोता था,

भीतर अहसासों का चौरा दरका।

खेल हैं, खिलौने हैं,

किसके संग करूं कहो

        फिर सग्गे-मित्तियां।

19 टिप्‍पणियां:

  1. नेह-छोह से तुमने

    लीपा था पोता था,

    भीतर अहसासों का चौरा दरका।

    सुन्दर गीत पढवाने का शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल को छूने वाली कविता है। श्‍याम नारायण जी मिश्र की इस अनमोल कविता को आपने यहाँ हम सब लोगों से सांझी किया इसके लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसी कविता पर टिपण्णी करने या कुछ भी कहने का अभी तक मुझमें हैसियत नहीं आई है ... बस इतना कह सकता हूँ कि अद्भुत है ... सुन्दर है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही गज़ब की रचना है………सुन्दर शब्द संयोजन्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह कविता तो इस मेज कुर्सी के वातावरण से मन को उड़ा कर ले गयी जाने किस दु्नियां में!
    बहुत तिलस्म है इसमें!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मर्मस्पर्शी...

    भावुक करती अतिसुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 10 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. कौन करे दिये-बत्तियां
    तुमने जो लिखी नहीं
    मैंने जो पढ़ी नहीं
    आंखों में तैर रहीं चिट्ठियां।

    दिल छूती पंक्तियाँ. बहुत खूबसूरत कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. चिठियो के माध्यम से व्यक्त एक संवेदन शील कविता

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut hi adbhut aur marmsparsi sunder rachanaa.
    plese apnaa maarddesan dene ke liye mere blog main aaiye.aur cooments dijiye.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिल छूती पंक्तियाँ. बहुत प्यारी कविता है। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  12. कौन करे दिये-बत्तियां

    तुमने जो लिखी नहीं

    मैंने जो पढ़ी नहीं

    आंखों में तैर रहीं चिट्ठियां।


    बहुत प्यारी कविता.....!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।