सोमवार, 2 मई 2011

नवगीत : उम्र के विहान

clip_image002[6]

श्यामनारायण मिश्रclip_image001

जूड़े से,

जुही कहीं महकी,

दिशा-दिशा बहकी,

        पोर-पोर गांठ खुली मन की।

 

पानी की पर्त सभी आवरण हुए,

तार तार  संस्कार-आचरण  हुए,

अंग-अंग फूल हुए,

ओठ से पराग चुए,

        जन्मों की प्यास धुली मन की।

 

एक आग  तैर रही  मौन जल  रहे,

भीतर के अटे हुए हिम पिघल रहे,

भावों के भंवर जाल,

मत्त हुआ मन मराल,

        लहरों पर नाव तुली तन की।

 

काल के  प्रवाह बीच  पांव टिक गए,

लहर-लहर श्वांसों के छंद लिख गए,

उम्र के विहान रुके,

देह के वितान झुके,

        आन-बान-शान धुली मन की।

24 टिप्‍पणियां:

  1. पानी की पर्त सभी आवरण हुए,
    तार तार संस्कार-आचरण हुए

    सशक्त।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत प्यारा लगा ये नवगीत ,वाह.

    उत्तर देंहटाएं
  3. काल के प्रवाह बीच पांव टिक गए,

    लहर-लहर श्वांसों के छंद लिख गए,

    उम्र के विहान रुके,

    देह के वितान झुके,

    आन-बान-शान धुली मन की।

    बहुत ही मनभावन रचना..बहुत भावमयी सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  4. "पानी की पर्त सभी आवरण हुए,
    तार तार संस्कार-आचरण हुए,
    अंग-अंग फूल हुए,
    ओठ से पराग चुए,
    जन्मों की प्यास धुली मन की।
    एक आग तैर रही मौन जल रहे,
    भीतर के अटे हुए हिम पिघल रहे,
    भावों के भंवर जाल, मत्त हुआ मन मराल,
    लहरों पर नाव तुली तन की।"

    सुन्दर गीत.. पढ़ कर मन भीग जाता है.. आनंद आ जाता है.. इस रसमय नव गीत की प्रतुती के लिए बहुत बहुत आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. शब्द नहीं मेरे पास जो इसके रस और सौन्दर्य की प्रशंसा में मैं कह पाऊं....

    अद्वितीय !!! अप्रतिम !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. .

    पानी की पर्त सभी आवरण हुए,
    तार तार संस्कार-आचरण हुए...

    Lovely lines ..

    .

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक आग तैर रही मौन जल रहे,

    भीतर के अटे हुए हिम पिघल रहे,

    भावों के भंवर जाल,

    मत्त हुआ मन मराल,

    लहरों पर नाव तुली तन की।

    वाह, वाह !

    बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ हैं !

    मनोज जी ,इतना सुन्दर नवगीत पाठकों तक पहुंचाने के लिए साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  8. aadarniy sir fir vilamb se hi pahunch rahen hainaapke blog par .par dil me sharmindagi bhi hai ki main jaldi jaldi nahi aa paa rahi hun .karan aap jante hi han.
    par aapki post bahut higahan bhav ko abhivykat karti hai .kavi var shyam narayan mishr ji li kavitaayen hamne apne cours me padhi hain.itne mahaan kavi ke baare me main kaya likhun .
    काल के प्रवाह बीच पांव टिक गए,

    लहर-लहर श्वांसों के छंद लिख गए,

    उम्र के विहान रुके,

    देह के वितान झुके,

    आन-बान-शान धुली मन की।
    bahut bahut behtreen rachna
    badhai v
    naman
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!
    --
    पिछले कई दिनों से कहीं कमेंट भी नहीं कर पाया क्योंकि 3 दिन तो दिल्ली ही खा गई हमारे ब्लॉगिंग के!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर और मनोहारी नवगीत| शब्द सज्जा अनुपम और भावों का सफल चित्रण| नमन|

    उत्तर देंहटाएं
  11. अत्यंत सुमधुर ....रसमयी ..सुंदर रचना ..
    जितनी तारीफ़ की जाये कम है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर नवगीत है, मिसिर ही का। पढ़ने के साथ ही लय में मन दाखिल हो जाता है। आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  13. @ मिसिर ही का।
    -- विनम्र सुधार , मिसिर जी का।

    उत्तर देंहटाएं
  14. उन्र के विहान रूके,
    देह के वितान झुके,
    आन-बान शान धुली मन की।
    मन के अप्रतिम भावों को दर्शाता मिश्र जी का नवगीत 'उम्र के विहान' की शब्द योजना और काव्य सौष्ठव अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut sunder prem ras me doobe bhavo kee abhivyktimanhsthitee ka sshakt chitran.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खूबसूरत....भावमयी रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. मिश्र जी को पढ़ने का आनन्द ही अप्रतिम है।
    बहुत सुन्दर नवगीत।

    आभार,

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।