बुधवार, 13 जून 2012

नीम


नीम

श्यामनारायण मिश्र

नीम के,
हम पेड़ कड़ुए नीम के।

कौन सी तासीर
बहती है धमनियों में,
साफ गोई
दूध की धोई टहनियों में,
समझ पायेंगे
    भला क्या
   दांत गिरवी क्रीम के।
***  ***  ***
चित्र : आभार गूगल सर्च

20 टिप्‍पणियां:

  1. मिश्र जी का छोटा सा किंतु बहुत असरदार नवगीत ....!!
    आभार मनोज जी ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर और नीम के महत्व को बताने वाली छोटी सी कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  3. नीम की महिमा और उस जैसे लोगों की महिमा बताती रचना |बहुत अच्छी लगी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर प्रस्तुति के लिए साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,मिश्र जी की एक बेहतरीन रचना,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह...
    बहुत खूब!
    अच्छी भावाभिव्यक्ति है।
    --
    हमें भी लिखने के लिए नया विषय मिल गया!

    उत्तर देंहटाएं
  7. कम शब्दों में गज़ब की जादूगरी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. नीम क्डुवा जरूर है पर है गुणकारी....बहुत सुंदर प्रस्तुति,

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी पोस्ट कल 14/6/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा - 902 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  10. किससे तुलना करूँ लेखनी से या लिखने वाले से ..नीम की..?

    उत्तर देंहटाएं
  11. सचमुच अद्भुत नीम का गुण कडुवा लेकिन स्वस्थ्य ........

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।