सोमवार, 7 मई 2012

अरने आमादे हैं


अरने आमादे हैं

श्यामनारायण मिश्र

किसे-किसे रोकूं
     आग में नहाने से।

पीछे की सारी
सीख की किताबों के
     गट्ठर पर बैठे ये बौने।
जाने किस
दुर्वासा-ध्येय के प्रयोजन में
गढ़ने को आतुर हैं आग के खिलौने।
घर में बारूद भर
तैमूर के भतीजे
बाज नहीं आने के
     बीड़ी सुलगाने से।

गुंबद में
आतंकित करते हो-हल्ले
     संसद की बौनी तरकीबें।
शान्ति के
हरीरे-दूधिया कछारों पर
     गिरती हैं ध्वंस की जरीबें।
खौर-खूंद करने को
अरने आमादे हैं
क्या होगा वंशी-बीन के बजाने से।

युद्ध की भयानक
स्थिति से दिये गए
सारे संदेश, कृष्ण पूजा के पाट हुए।
दिग्दर्शक नक्शे फैलाए बैठे हैं
राहगीर भगदड़ में सब बारह बाट हुए।
इतनी उम्मीद लिए
रस्ते पर बैठा हूं
कोई तो लौटेगा गीत गुनगुनाने से।
***  ***  ***
चित्र : आभार गूगल सर्च

23 टिप्‍पणियां:

  1. खौर-खूंद करने को
    अरने आमादे हैं
    क्या होगा वंशी-बीन के बजाने से।

    शानदार प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिश्र जी के गीत मन को छू जाते हैं.... बार बार कहने से भूल जाता हूं.. क्यों न मिश्र जी का संकलन निकलते हैं... हम तैयार हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  3. geet gungunate hee sahityakaar ke kad ka andaaj anayaas hee ho jaat hai.. aisi rachnayein man me utpann hui kisi bhee mithya kalpana ko tod deti hai aaur kahti hai pyaare abhi to talwe lal hee hue hain...abhi to chale padenge ..phir phootenge ..itni stareey juwan kahne ke sanklp ko pukhta karta hua aaur satat praytnsheel rahne kee prerna deta sarthak geet

    उत्तर देंहटाएं
  4. घर में बारूद भर
    तैमूर के भतीजे
    बाज नहीं आने के
    बीड़ी सुलगाने से'
    .........
    संसद की बौनी तरकीबें'
    - कहीं है कोई समाधान ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोई तो लौटेगा गीत गुनगुनाने से।

    क्या बात है ...
    आभार पढवाने के लिए भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह! यह कविता आज के हालात पर भी सटीक बैठती है.. और अंत में आशा का राग - कोई तो लौटेगा गीत गुनगुनाने से - मन को मोह गया। श्यामनारायण मिश्र की उम्दा रचनाओं से रूबरू कराने के लिए शुक्रिया..

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतनी उम्मीद लिए
    रस्ते पर बैठा हूं
    कोई तो लौटेगा गीत गुनगुनाने से।

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,....मनोज जी,..
    RECENT POST....काव्यान्जलि ...: कभी कभी.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत शानदार प्रस्तुति......मनोज जी..

    उत्तर देंहटाएं
  9. निश्चय ही यह गुनगुनाना किसी न किसी हृदय को छेड़ेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इतनी उम्मीद लिए
    रस्ते पर बैठा हूं
    कोई तो लौटेगा गीत गुनगुनाने से।
    बहुत सुंदर रचना हमेशा कि तरह .......

    उत्तर देंहटाएं
  11. गुंबद में
    आतंकित करते हो-हल्ले
    संसद की बौनी तरकीबें।
    अपने वक्त से संवाद करता वातावरण प्रधान नव गीत .
    गुंबद में
    आतंकित करते हो-हल्ले
    संसद की बौनी तरकीबें।
    बढ़िया प्रस्तुति हर माने में अव्वल .


    सोमवार, 7 मई 2012
    भारत में ऐसा क्यों होता है ?
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    तथा यहाँ भीं सर जी -
    चोली जो लगातार बतलायेगी आपके दिल की सेहत का हाल

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/
    गोली को मार गोली पियो अनार का रोजाना जूस
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_07.html

    उत्तर देंहटाएं
  12. अमानवीय धुंध भरे जीवन में मानवता की आश लिए मिश्र जी गीतों को शब्द देने में लगे रहे। यह गीत इसका ज्वलन्त उदाहरण है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अद्भुत रचना है यह स्वर्गीय मिश्र जी की!! फिर कहूँगा कि समय से आगे के कवि!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. घर में बारूद भर
    तैमूर के भतीजे
    बाज नहीं आने के
    बीड़ी सुलगाने से।


    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ... आप हमेशा सुंदर रचनाओं को पढ़वाते है .... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह क्या बात है!! बहुत उम्दा...बधाई

    इसे भी देखने की जेहमत उठाएं शायद पसन्द आये-
    फिर सर तलाशते हैं वो

    उत्तर देंहटाएं
  17. खौर-खूंद करने को
    अरने आमादे हैं
    क्या होगा वंशी-बीन के बजाने से।
    अद्भुत रचना स्वर्गीय मिश्र जी की, शानदार प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  18. घर में बारूद भर
    तैमूर के भतीजे
    बाज नहीं आने के
    बीड़ी सुलगाने से।बारहा पढने को आतुर मन रहता है इन रचनाओं को .आभार ..कृपया यहाँ भी पधारें -
    बुधवार, 9 मई 2012
    शरीर की कैद में छटपटाता मनो -भौतिक शरीर
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    रहिमन पानी राखिये
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  19. इतनी उम्मीद लिए
    रस्ते पर बैठा हूं
    कोई तो लौटेगा गीत गुनगुनाने से।

    मिश्र जी की रचनाएँ बहुत ही प्रभावशाली और गहन चिंतन के लिए विवश करती हैं .......रचना तक पहुचाने के लिए हार्दिक आभार .|

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।