सोमवार, 14 मई 2012

दफ़्तर के अंध महासागर में


दफ़्तर के अंध महासागर में

श्यामनारायण मिश्र

पश्चिम में
     फैल गया
          संध्या का कुंकुम,
देहरी पर
     मन होगा
          खिड़की पर तुम,
गले हुए लोहे की लाल झील तैरूं
फिर चांदनी नहाऊं,
घर आऊं।

रोज़ नये सपनों की
     डोंगियां तिराता हूं
          दफ़्तर के अंध महासागर में।
प्रहर गये रात
     लौट आता हूं
          बस ख़ाली हाथ लिये
              अलसाये घर में।

बिना रास वाले काग़ज़ के घोड़ों को
              किसी तरह फेरूं
तो जी में जी पाऊं
घर आऊं
देखूं तब
     ओठों पर खिला
          हुआ जावा कुसुम।
***  ***  ***
चित्र : आभार गूगल सर्च

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी कविता है। मिश्र जी ने शब्दों से जादू किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कितनी सुन्दर कवितायें चुनते हैं आप !

    उत्तर देंहटाएं
  3. मिश्र जी कविताओं का जबाब नहीं ,.....लाजबाब रचना,......

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिना रास वाले काग़ज़ के घोड़ों को
    किसी तरह फेरूं
    तो जी में जी पाऊं
    घर आऊं
    देखूं तब
    ओठों पर खिला
    हुआ जावा कुसुम।

    बहुत सुंदर भाव .... आभार इस रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  5. मिश्र जी की सुन्दर कविता पढ़वाने के लिए आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहली दो पंक्तियां पढ़कर ही मन मुग्ध हो गया

    उत्तर देंहटाएं
  7. पश्चिम में
    फैल गया
    संध्या का कुंकुम,
    देहरी पर
    मन होगा
    खिड़की पर तुम,
    vaah khubsurat panktiya,sundar rachna .....

    उत्तर देंहटाएं
  8. ओह्ह गज़ब ..बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कमाल की कविता है.. लगभग यही भाव मैंने कई साल पहले अपने किसी मित्र के सामने व्यक्त किये थे.. आज मेरे भाव कविता बनकर निखर गए हैं.. मिश्र जी को नमन!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. कविता तो बस झंकार भर देती है ह्रदय में.

    उत्तर देंहटाएं
  11. रोजमर्रे की जिन्दगी में रसवत् कल्पना की इमारत खड़ी करने में मिश्रजी की लेखनी काफी समर्थ है, इसका यह एक ज्वलन्त उदाहरण है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. किसी भी कविता में मौलिकता उसी समय देखने को मिलती है जब कवि का भाव अमल और धवल होता है एवं कविता के हर शब्द अपने साथ कवि के मन में रचे बसे भावों को आद्योपांत अपनी पूर्ण समग्रता में आगे की ओर ले जाते हैं। मिश्र जी की कविता की कुछ खास एसी ही विशेषता है जो उनकी रचनाधर्मिता को हर कविता में एक नया आयाम प्रदान करती है। भाव-प्रवण कविता बहुत ही अच्छी लगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बिना रास वाले काग़ज़ के घोड़ों को
    किसी तरह फेरूं
    तो जी में जी पाऊं
    घर आऊं
    देखूं तब
    ओठों पर खिला
    हुआ जावा कुसुम।
    There is a undercurrent in all his poetic expression deep felt emotions and personification of nature.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  15. कविता अच्छी है... सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  16. रोज़ नये सपनों की
    डोंगियां तिराता हूं
    दफ़्तर के अंध महासागर में।

    बहुत सुंदर नवगीत....

    उत्तर देंहटाएं
  17. मिश्र जी की सुन्दर कविता प्रस्तुति के लिए आभार.!

    उत्तर देंहटाएं
  18. मिश्र जी की रचनाओं से सहज रूप से एक सेतु निर्मित हो जाता है..

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।