मंगलवार, 6 अक्तूबर 2009

पादप यहां न कोई तेरा

--- मनोज कुमार
पादप ! यहां न कोई तेरा !

तरु- तरु लिपट रहीं वल्लरियां,
भंवरों से चुम्बित मधु कलियां,
और अकेला खड़ा विजन में,
नित देखे तू सांझ – सवेरा ।
पादप ! यहां न कोई तेरा !

सरसिज पर क्रीड़ा मराल की,
लहरें चूमें तृषा डाल की।
तुमको मिला न कोई साथी,
करे रात जो यहां बसेरा।
पादप ! यहां न कोई तेरा !

सबके साथी अपने-अपने,
देख रहे सब सौ-सौ सपने
तेरे भी कुछ सपने होंगे
साथी प्रिय हो कोई मेरा।
पादप! यहां न कोई तेरा!
*** ***

13 टिप्‍पणियां:

  1. सबके साथी अपने-अपने,
    देख रहे सब सौ-सौ सपने
    तेरे भी कुछ सपने होंगे
    कोई चिर-स्नेही हो मेरा।
    पादप! यहां न कोई तेरा!
    bahut sundar .aap aaye blog par khusi hui .

    उत्तर देंहटाएं
  2. sundar rachna! ekaaki jeevan ke vyaatha ki marmsparshi abhivyakti. shilp sahaj evam manohaaree. kintu phir bhi main kuchh kahnaa chaahunga,
    करे रात जो यहां बसेरा।
    पादप ! यहां न कोई तेरा !
    "यहां" kee punurukti ko roka jaa sakta tha.... kyonki yahaan yah "punurukti" alankaar ka chamtkaar vyakt nahi kar paa raha hai !

    कोई चिर-स्नेही हो मेरा।
    mere khyaal se is pankti me "pravaah" baadhit ho rahaa hai ! chhuki kavita chhadbaddh hai, atah chhand-vyavastha ka yathaasambhav paalan "kaavy-soundarya" vardhak siddh ho saktaa hai !! Lekin prastut rachna ka kaavya saushthav kaheen se kam nahee hai !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. करणजी आपका सुझाव अच्छा लगा। कुछ संशोधन कर दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Manoj ji Adbhut kavita hai aapki...padh kar dil baag baag ho gaya...hindi shabdon ka chamatkari prayog...waah.

    Neeraj

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर कविता ... बधाई !!!

    http://gunjanugunj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ख़ूबसूरत और शानदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. तरु- तरु लिपट रहीं वल्लरियां,
    भंवरों से चुम्बित मधु कलियां,
    और अकेला खड़ा विजन में,
    नित देखे तू सांझ – सवेरा ।
    पादप ! यहां न कोई तेरा !

    मनोज जी इस लय बद्ध रचना को पढने का अलग ही स्वाद आया ......बहुत खूब .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर रचना ....गति और लय के साथ सुन्दर शब्दों का समायोजन ...और एक सन्देश भी छिपा हुआ है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. और अकेला खड़ा विजन में,
    नित देखे तू सांझ – सवेरा ।
    पादप ! यहां न कोई तेरा !
    - वसंत ऋतु में एकाकी खड़े वृक्ष की व्यथा का सुन्दर निरूपण १

    उत्तर देंहटाएं
  10. अंत:स को छूती प्रस्तुति ......

    उत्तर देंहटाएं
  11. besahaaron ka sahara ab hame hee banna padega..padap vyatha ke madhyam se manveey man kee vyatha ka chitrn karti sunder racha..sadar badhayee ke sath

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।