शुक्रवार, 27 नवंबर 2009

हम तो रहमदिल हैं !

-- करण समस्तीपुरी

धुंध काली रात,
खनकते फ़ोन,
कंपकपाते हाथ,
हलक में फंसी जुबाँ,
संज्ञाशून्य !! अब कहाँ-क्या हुआ ??
क्या फिर शुरू हुई,
कोई बारूदी कहानी ?
निगल गयी,
इंसानियत और यकीन को,
हैवानियत ??
रह गयी सिसकती निशानी,
फिर किसी अपनों की ?
या वर्षों बाद ही सही,
हो गया है इन्साफ !!
हम तो रहमदिल हैं,
उदार !
कर दिया है,
भेड़िये को माफ़ !!
छंट रही है धुंध,
जा रही है रात !
किन्तु,
मुंह क्यूँ छुपा रहा प्रभात ?
धुंध काली रात ..... !!

30 टिप्‍पणियां:

  1. हम तो रहमदिल हैं,
    उदार !
    कर दिया है,
    भेरिये को माफ़ !!
    लेकिन अब सख्तदिल हो कर भेड़िये को मारने की जरूरत है

    उत्तर देंहटाएं
  2. विचारोत्तेजक!बिल्कुल सही कहा है अजय जी ने। शांति-अमन-चैन भंग करने वाले भेड़िये को बख्शा न जाए। उसे सख्तदिल हो कर मारने की जरूरत है

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Karan ji..Apki ye kavita hamAre desh par aatangkwad kE khof ko saf saf darsa rai hai...aur sath me ye b ki hamare desh par kitni b muskil kyun na aa jaye hum unka samna dat kar to karte rahenge lakn unhe humesa ke liye khatm ni kar sakenge...kyunki HUM RAHAMDIL JO HAI............LAKN AISA HONA NI CHAIYE..

    उत्तर देंहटाएं
  5. Aisa he hota hai jab der rat phn ki ghanti bajti hai, phn uthate hue hath kanpte hai jaise kuch anhoni to ni ho gai, achi aur sachi kavita..thank u

    उत्तर देंहटाएं
  6. Hamare desh ka kadwa sach, acha laga apki kavita padhkar.

    उत्तर देंहटाएं
  7. Hume kuch na kuch to karna he hoga..aisa aatankwadiyo ko mafi dene se kabi aatangwad khatm ni hoga.

    उत्तर देंहटाएं
  8. यथार्थ को चित्रित करती रचना। बहुत संदर।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Is kavita ke bare me ek he line kahna chahunga...
    Sachi ghatnao par adharit hai ye kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  10. Ajab desh ki Gajab Kahani..good peom ..Keep it up

    उत्तर देंहटाएं
  11. छंट रही है धुंध,
    जा रही है रात !
    किन्तु,
    मुंह क्यूँ छुपा रहा प्रभात ?
    धुंध काली रात ..... !!
    kali raat bhi chhategi. bahut achchhi kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  12. poem shows the anger we still have..... would the politicians have understood it !!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. कविता वर्तमान परिदृश्य का सही चित्रण है. भय... अविश्वास.... अतिशय उदारता.... शायद हम भूल गए हैं, "क्षमा शोभती उस भुजंग को जिस के पास गरल हो... !"

    उत्तर देंहटाएं
  14. कविता आज हर भारतवासी के दिल में छुपे एक टीस, एक मलाल, एक दर्द, एक भय, एक अविश्वास को अभिव्यक्त करती है !

    उत्तर देंहटाएं
  15. हमने तो कर दिया भेडिये को माफ़ ...!!
    और कोई विकल्प है ..??

    उत्तर देंहटाएं
  16. ho gai hai peer parvat ki tarah,
    ias himalay se bhi to koi ganga nikalni chahiye!
    jis tarah... bhi ho bhaiyo yah mausam badalana chahihe.

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।