सोमवार, 24 मई 2010

विभेद

 

image विभेद

-- सत्येन्द्र झा

 

image

image 

दो लाश एक साथ जलाए जा रहे थे। उन में से एक खूब ताम-झाम के साथ.... लोगों की भारी भीड़ लगी थी उसके इर्द-गिर्द। दूसरी उदास कर्म की उदास प्रक्रिया के साथ। अमीर की लाश के पास खड़ी भीड़ मृतक का प्रशस्ति गान कर रही थी, "ओह... जब तक जीए शान से जीए। इस इलाके में ऐसा कौन होगा जो इनके दारु से स्नान नहीं किया... ? अरे.... दारु भी हर कोई पी सकता है क्या... ? खानदानी लोग ही मदिरा का प्रसाद ग्रहण करते हैं। और उधर देखो उसे..... ! ससुर.... सारी जीन्दगी घटिया दारु पी कर आंत सड़ा लिया और आज जीभ निकाल के मर गया.... !"

image मैं चुपचाप सुन रहा था। यह समझने में दिक्कत नहीं हुई कि घटिया शराब होती है या गरीबी.... ? वर्ना दो शराबियों में क्या विभेद किया जा सकता है ??


मूल-कथा मैथिली में 'अहीं कें कहै छी' में संकलित 'विभेद' से केशव कर्ण द्वारा हिंदी  में अनुदित।

15 टिप्‍पणियां:

  1. विभेद तो अमीरी और गरीबी का है.... मदिरा तो मदिरा है छाहे देसी ठर्रा हो या विदेशी शराब...दोनों ही ज़हर का काम करती हैं...विचारणीय प्रसंग

    उत्तर देंहटाएं
  2. पर इस बात में यही मजा है, आप कुछ भी पि‍ओ, कैसे भी जि‍ओ...मौत भेद नहीं करती।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोनो ही चीज घटिया होती हैं!
    एसा मेरा मानना है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ...भावपूर्ण अभिव्यक्ति !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सोचने पर मजबूर करती पोस्ट....

    उत्तर देंहटाएं
  6. कम में बहुत कुछ कह देना देश-भाषाओं का स्वभाव रहा है !
    मैथिली-समृद्धि मुझे बहुत प्रभावित करती है | आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. कम में बहुत कुछ कह देना देश-भाषाओं का स्वभाव रहा है !
    मैथिली-समृद्धि मुझे बहुत प्रभावित करती है | आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. कथ्य के दृष्टिकोण से सशक्त रचना. सन्देश प्रभावशाली है. शिल्पगत प्रयासों से कथा को और अधिक सशक्त बनाया जा सकता था.

    उत्तर देंहटाएं
  9. bilkul sahi kaha aapne manoj ji .... ek ghatna ke maddhaym se logon ke nazariye ko khub pakda hai aapne..lazawaab

    उत्तर देंहटाएं
  10. मृत्यु ने तो कोई भेद नहीं किया ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच है मौत कुछ नही देखती ... भेद हमारी दृष्टि में ही छुपा है ...

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।