शनिवार, 26 जून 2010

गंगावतरण भाग-चार

--- --- मनोज कुमार

आप पढ चुके हैं

गंगावतरण भाग –१

गंगावतरण भाग –२

गंगावतरण भाग –३

अब आगे … समापन किस्त

भगीरथ घर छोड़कर हिमालय के क्षेत्र में आए। इन्‍द्र की स्‍तुति की। इन्‍द्र को अपना उद्देश्‍य बताया। इन्‍द्र ने गंगा के अवतरण में अपनी असमर्थता प्रकट की। साथ ही उन्‍होंने सुझाया कि देवाधिदेव की स्‍तुति की जाए। भागीरथ ने देवाधिदेव को स्‍तुति से प्रसन्‍न किया। देवाधिदेव ने उन्‍हें सृष्टिकर्ता की आराधना का सुझाव दिया। क्योंकि गंगा तो उनके ही कमंडल में थी।

दिलीप के पुत्र भागीरथ ने गोकर्ण नामक तीर्थ में जाकर ब्रह्मा की कठिन तपस्या की। तपस्या करते करते कितने ही वर्ष बीत गये। ब्रह्माजी ने उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर गंगा जी को पृथ्वी पर लेजाने का वरदान दिया।

प्रजापति ने विष्‍णु आराधना का सुझाव दिया। विष्‍णु को भी अपनी कठिन तपस्‍या से भागीरथ ने प्रसन्‍न किया। इस प्रकार ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश तीनों ही भगीरथ के प्रयत्‍न से संतुष्‍ट हुए। और अंत में भगीरथ ने गंगा को भी संतुष्‍ट कर मृत्‍युलोक में अवतरण की सम्‍मति मांग ली।

विष्‍णु ने अपना शंख भगीरथ को दिया और कहा कि शंखध्‍वनि ही गंगा को पथ निर्देश करेगी। गंगा शंखध्‍वनि का अनुसरण करेगी। इस प्रकार शंख लेकर आगे-आगे भगीरथ चले और उनके पीछे-पीछे पतितपावनी, त्रिपथगामिनी, शुद्ध सलिल गंगा।

ब्रह्म लोक से अवतरण के समय, गंगा सुमेरू पर्वत के बीच आवद्ध हो गयी। इस समय इन्‍द्र ने अपना हाथी ऐरावत भगीरथ को दिया। गजराज ऐरावत ने सुमेरू पर्वत को चार भागों में विभक्‍त कर दिया। जिसमें गंगा की चार धाराएं प्रवाहित हुई। ये चारों धाराएं वसु, भद्रा, श्‍वेता और मन्‍दाकिनी के नाम से जानी जाती है। वसु नाम की गंगा पूर्व सागर, भद्रा नाम की गंगा उत्तर सागर, श्‍वेता नाम की गंगा पश्चिम सागर और मंदाकिनी नाम की गंगा अलकनन्दा के नाम से मृत्‍युलोक में जानी जाती है।

DecentoftheGangaसुमेरू पर्वत से निकल कर गंगा कैलाश पर्वत होती हुई प्रबल वेग से पृथ्वी पर अवतरित होने लगी। वेग इतना तेज था कि वह सब कुछ बहा ले जाती। अब समस्या यह थी कि गंगाजी के वेग को पृथ्वी पर कौन संभालेगा? ब्रह्माजी ने बताया कि भूलोक में भगवान शंकर के अलावा और किसी में इस वेग को संभालने की शक्ति नही है। इसलिये गंगा का वेग संभालने के लिये भगवान शंकर से अनुग्रह किया जाये। महाराज भागीरथ ने एक अंगूठे पर खडे होकर भगवान शंकर की आराधना की। उनकी कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शंकरजी अपनी जटाओं में गंगाजी को संभालने के लिये तैयार हो गये। गंगा के प्रबल वेग को रोकने के लिए महादेव ने अपनी जटा में गंगा को धारण किया। इस प्रकार गंगा अपने अहंभाव के चलते बारह वर्षों तक शंकर की जटा में जकड़ी रही।

DSCN0464भगीरथ ने अपनी साधना के बल पर शिव को प्रसन्‍न कर कर गंगा को मुक्‍त कराया। भगवान शंकर पृथ्वी पर गंगा की धारा को अपनी जटा को चीर कर बिन्‍ध सरोवर में उतारा। यहां सप्‍त ऋषियों ने शंखध्‍वनि की। उनके शंखनाद से गंगा सात भागों में विभक्‍त हो गई। मूलधारा भगीरथ के साथ चली। महाराज भागीरथ के द्वारा गंगाजी हिमालय की घाटियों से कल कल का विनोद स्वर करतीं हुई मैदान की तरफ़ बढीं। आगे आगे भागीरथ जी और पीछे पीछे गंगाजी। यह स्‍थान हरिद्वार के नाम से जाना जाता है।

IMG_5924हरिद्वार के बाद गंगा की मूलधारा भगीरथ का अनुसरण करते हुए त्रिवेणी, प्रयागराज, वाराणसी होते हुए जह्नु मुनि के आश्रम पहुँची। भगीरथ की बाधाओं का यहां भी अंत न था। संध्‍या के समय भगीरथ ने वहीं विश्राम करने की सोची। परन्‍तु भगीरथ को अभी और परीक्षा देनी थी। संध्‍या की आरती के समय जह्नु मुनि के आश्रम में शंखध्‍वनि हुई। शंखध्‍वनि का अनुसरण कर गंगा जह्नु मुनि का आश्रम बहा ले गई। ऋषि क्रोधित हुए। उन्‍होंने अपने चुल्‍लु में ही भर कर गंगा का पान कर लिया। भगीरथ अश्‍चर्य चकित होकर रह गए। उन्‍होंने ऋषि की प्रार्थना शुरू कर दी। प्रार्थना के फलस्‍वरूप गंगा मुनि के कर्ण-विवरों से अवतरित हुई। गंगा यहां जाह्नवी के नाम से प्रसिद्ध हुई।

 

यह सब देख, कोतुहलवश जह्नुमुनि की कन्‍या पद्मा ने भी शंखध्‍वनि की। पद्मा वारिधारा में परिणत हो गंगा के साथ चली। मुर्शिदाबाद में घुमियान के पास भगीरथ दक्षिण मुखी हुई। गंगा की धारा पद्मा का संग छोड़ शंखध्‍वनि से दक्षिण मुखी हुई। पद्मा पूर्व की ओर बहते हुए वर्तमान बांग्लादेश को गई। दक्षिण गामिनी गंगा भगीरथ के साथ महामुनि कपिल के आश्रम तक पहुँची। ऋषि ने वारि को अपने मस्‍तक से लगाया और कहा, हे माता पतित28032010104पावनी कलि कलुष नाशिनी गंगे पतितों के उद्धार के लिए ही आपका पृथ्‍वी पर अवतरण हुआ है। अपने कर्मदोष के कारण ही सगर के साठ हजार पुत्र क्रोधग्नि के शिकार हुए। आप अपने पारसरूपी पवित्र जल से उन्‍हें मुक्ति प्रदान करें। मां वारिधारा आगे बढ़ी। भस्‍म प्‍लावित हुआ। सगर के साठ हजार पुत्रों का उद्धार हुआ। भगीरथ का कर्मयज्ञ सम्‍पूर्ण हुआ। वारिधारा सागर में समाहित हुई। गंगा और सागर का यह पुण्‍य मिलन गंगासागर के नाम से सुप्रसिद्ध हुआ।28032010110

19 टिप्‍पणियां:

  1. तस्वीरों के साथ सुन्दर प्रस्तुति धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भगीरथी यानि गंगा के बारे हम ने अपनी स्कुल की पुस्तको मै तो बहुत पढा था, लेकिन आज आप के लेख से एक तो यादे ताजा हो गई दुसर कुछ ज्यादा पढने को मिला, चित्र भी अति सुंदर लगे धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. गंगावतरण की पूरी शृंखला ज्ञानवर्धक रही!

    उत्तर देंहटाएं
  4. kabeer ke janm divas par ganagavataran ka samapan ank, bahut hi adbhut sanyog...dhanyawaad...

    उत्तर देंहटाएं
  5. जानकारी देता यह पोस्ट बहुत अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय मनोज कुमार जी
    गंगावतरण संबंधी आलेखों की चारों कड़ियों के लिए आभार ! बहुत श्रम साधना से हमारी पौराणिक संस्कृति का दिग्दर्शन करवाया है आपने । प्रशंसा के दो चार परंपरागत वाक्यों से आपके कार्य का समुचित महत्व नहीं आंका जा सकता । हमारी संस्कृति को इसी प्रकार सामने लाते रहें ।

    कोटिशः आभार !!

    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं
  7. मनोज सर! आपकी रचनाएँ धरोहर हैं हिंदी साहित्य की... कितनी रचनाएँ हमारे संकुचित ज्ञान से परे हैं, किंतु उनका मूल्य समझ में आता है...गंगा को बचपन से और बहुत करीब से देखा है.. और अब अफसोस होता है जब गंगा पटना से दूर हो गईं हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  8. तस्वीरों के साथ सुन्दर प्रस्तुति धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन प्रस्तुति!
    हमारी संस्कृति को इसी प्रकार सामने लाते रहें ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. उम्दा पोस्ट.
    पौराणिक संदर्भो और वर्तमान के खूबसूरत चित्रों ने इसे और भी रोचक बना दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ख़ूबसूरत तस्वीरों के साथ आपने शानदार रूप से प्रस्तुत किया है ! बढ़िया पोस्ट!

    उत्तर देंहटाएं
  12. मेरा नाम शम्बूक है।"
    शम्बूक की बात सुनकर रामचन्द्र ने म्यान से तलवार निकालकर उसका सिर काट डाला। जब इन्द्र आदि देवताओं ने महाँ आकर उनकी प्रशंसा की तो श्रीराम बोले, "यदि आप मेरे कार्य को उचित समझते हैं तो उस ब्राह्मण के मृतक पुत्र को जीवित कर दीजिये।" राम के अनुरोध को स्वीकार कर इन्द्र ने विप्र पुत्र को तत्काल जीवित कर दिया। http://hindugranth.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. तस्वीरों के साथ सुन्दर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सार्थक शृंखला रही है यह. आपके शोधपरक आलेख की जितनी प्रशंसा की जाए, कम होगी. इसके लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  15. aaj ganga ji ke charo part padhe aur gyan vardhan hua. bahut bahut aabhari hu aapke is post k liye jo itna kuchh janNe ko mila.

    aabhar.

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।