सोमवार, 14 जून 2010

मंहगाई

मंहगाई
-- सत्येन्द्र झा
दो पुराने मित्र वर्षों बाद मिले थे। कुशलक्षेम के बाद एक मित्र के आग्रह पर दूसरे मित्र उनके घर आये। फिर शुरू हुआ पहले मित्र की सम्पन्नता का वर्णन। आगंतुक के पूछे बिना ही उन्होंने कहना शुरू किया, "यह एलसीडी टीवी है, पचास हज़ार का... ! सोफा छत्तीस हज़ार का... ! नया एसी लिया है, पैंतीस हज़ार में.... ! यह कालीन जो देख रहे हो... यह भी पंद्रह हज़ार का है। बच्चों का नाम भी शहर के सबसे बड़े पब्लिक स्कूल में लिखबा दिया है। इस शहर में सबसे ज्यादा फीस है, उस स्कूल का.... ! तुम्हारी भाभी अभी पार्लर से आती ही होगी।"
"और... आंटी... ? मतलब माँ कहाँ है तुम्हारी?", दूसरे मित्र ने पहली बार अपनी जुबाँ खोली थी।
"वो... तो गाँव में ही है।" सधा हुआ जवाब था।
"अरे... क्या बात करते हो ? गाँव में अकेले... अब तो उनकी उम्र भी काफी हो गयी होगी... ! उन्हें यहीं अपने पास बुला कर क्यूँ नहीं रख लेते ?, मित्र ने पूछा था।
"अब तुम से क्या छुपाना दोस्त ! तुम तो जानते ही हो शहर की जिन्दगी। एक तो अल्प आय और उस पर से ये मंहगाई.... !!"
मूल कृति मैथिली में "अहींकें कहै छी" में संकलित 'महगी' से केशव कर्ण द्वारा हिंदी में अनुदित।

18 टिप्‍पणियां:

  1. khush hoo ki aise rich logo se mera pala jeevan me nahee pada........
    yanha prakashit karane ke liye dhanyvad .

    उत्तर देंहटाएं
  2. दूसरे दोस्त की सच्चाई में सार है।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. kitni badi baat kah di ,apne shauk ke liye nahi ek boodi maa ke liye mahangaai hai ,kitni afsos ki baat hai .

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावना प्रधान सन्देश वाली कथा है. सम्प्रेषण प्रभावकारी है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. उफ़... ये मंहगाई.... ! बेटे को माँ से दूर कर दिया... !! मर्मभेदी व्यंग्य !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया पोस्ट.
    मंहगाई पहले पैसे खर्च करवाती थी. अब माँ से बेटे को अलग कर के धर दे रही है. इस मंहगाई का...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढ़िया पोस्ट.
    मंहगाई पहले पैसे खर्च करवाती थी. अब माँ से बेटे को अलग कर के धर दे रही है. इस मंहगाई का...

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऐसी मानसिकता का क्या कहें ? मंहगाई केवल माँ को रखने में ही दिखाई देती है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. करारा व्यंग ... आज के समाज की सही तस्वीर पेश की है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. maan ke liye mahngai???????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????

    उत्तर देंहटाएं
  11. Yah laghukatha tathakathit adhunik logon par karara vyanya hai.

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।