मंगलवार, 2 मार्च 2010

यह होली सचमुच होली थी

ऊन्न्ह्ह............... !!!!
सज्जनों एवं सजनियों,
राम-राम !!!
ऊंन्ह्ह्ह......... कल होली थी और आज धुलेंदी......... ! खुम्हारी अभी भी नहीं टूट रही है ! ब्लॉग पर कुछ तो लिखना है..... तो पढ़िए क्या हुआ होली में..... कैसी रही होली ?
-- करण समस्तीपुरी

यह होली सचमुच होली थी,
मेरा तन भी रंगा मेरा मन भी रंगा !
होली के प्रेम पगे रंग में,
पोर-पोर जीवन भी रंगा !
यह होली सचमुच होली थी....... !!1!!

प्रेम पुरातन-नूतन पाया,
मस्त फाग ने मन हर्षाया !
अलस बसंत प्रेम वर्षाया,
प्रेम पुलक मेरा मन गया !!
उमगे उर में आनंद क्षण-क्षण,
क्षण में मन-कानन भी रंगा !
यह होली सचमुच होली थी....... !!2!!

पाया जितना नहीं सोचा कभी,
सौभाग्य है मेरे साथ अभी !
खुश देख मुझे हैरान सभी,
कहता हूँ उर उन्मुक्त तभी !
होली के रंग तरंगन में,
रंगी वसुधा व गगन भी रंगा !
यह होली सचमुच होली थी....... !!3!!

चहुँ ओर चाँदनी व्याप्त हुई,
ऐसी प्रसन्नता प्राप्त हुई !
वर्षों से जिसकी प्यास मुझे,
वो नीर बिंदु अब प्राप्त हुई !!
मन-सुमन खिला, क्या नहीं मिला ?
पर प्रेम सुधा रस और पीला !!
जिस बंधन से हम बंधे हुए,
जगती का वह बंधन भी रंगा !!
यह होली सचमुच होली थी,
मेरा तन भी रंगा मेरा मन भी रंगा !!4!!
*****

17 टिप्‍पणियां:

  1. वाह....बहुत सुन्दर गीत....इतना सुन्दर होली का एहसास ....बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरा तन भी रंगा मेरा मन भी रंगा !
    होली के प्रेम पगे रंग में,
    पोर-पोर जीवन भी रंगा !
    har varsh aapke liye holi itnee hee ulhas bharee ho
    aisee shubhkamna hai ...........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर गीत है होली के रंगों की तरह और ये रंग ऐसे ही बरसते रहें जीवन भर शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह सुख सदा संजोए रखें। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर अवश्य रही होगी - यह एक ब्लॉगर की होली थी! शायद इस दृष्टिकोण से पिछली होलियां न देखी हों।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Waahji, bahut sundar varanan hali ki khushiyon ka ....ishwar se prathana hai ki khushiyon ke ye rang sada aapake jivan ko rangin banae rakhe!!
    Shubhkaamnae
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रेम पुरातन-नूतन पाया,
    मस्त फाग ने मन हर्षाया
    ....बहुत सुन्दर !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. Bahut sundar bhavpoorna rachana.Holee kee hardik mangalkamnayen.
    Poonam

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर गीत...आनन्द आया.

    उत्तर देंहटाएं
  10. Karan ji....
    Bahoooooooooooooooot he achi kavita...kavita padhkar he apki khusi jhalak rai hai...I wish ki har holi me apka tan aur man dono isi tarah rang jaye...
    Dil se likhi is kavita ke liye dil se dhanyawad...

    उत्तर देंहटाएं
  11. कविता आप सभी को पसंद आयी ............. बहुत-बहुत धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं....बहुत ही सुन्दर रचना,बधाई......

    उत्तर देंहटाएं
  13. चहुँ ओर चाँदनी व्याप्त हुई,
    ऐसी प्रसन्नता प्राप्त हुई !
    वर्षों से जिसकी प्यास मुझे,
    वो नीर बिंदु अब प्राप्त हुई ...

    सुंदर गीत है होली का ... आपकी होली लाजवाब रही जान कर बहुत अच्छा लगा ...

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।