सोमवार, 19 अप्रैल 2010

समय के साथ

समय के साथ

-- मनोज कुमार

पिताजी ने कहा था बेटा जब बड़ा आदमी बन जाना तो अपनी आत्मकथा लिखना। इस पदोन्नति के बाद तो गौरव काफ़ी बड़े पोस्ट पर आ गया है। काफ़ी बड़ा अधिकारी हो गया है। दो साल पहले पिताजी गुज़र गए। उनकी इच्छा पूरी करनी है। तो अब अपनी आत्मकथा लिख रहा है।

माँ ज़िन्दा है। आत्मकथा अपनी जननी से ही शुरु करता है।

माँ ने जन्म दिया। पाला, पोशा, बड़ा किया। इस लायक़ बनाया।

उफ़! इस बल्ब की रोशनी में ठीक से दिखता भी नहीं। पर्दे हटाने चल देता है। रोशनी भीतर आ गई। ज़्यादा साफ़ दिख रहा है। उसकी नज़र माँ पर पड़ती है, .. माँ सामने सड़क पार कर घर आ रही है। साथ में उसका बेटा बिट्टू भी है। उसे स्कूल से लाने गई थी। माँ उसका हाथ पकड़ रास्ता पार करा रही है। उसके बैग आदि अपने कंधे पर रख कर। उसके सिर पर माँ का आंचल है। उसे धूप न लगे। बिट्टू को कोई तकलीफ़ नहीं होने देती माँ।

गौरव को भी कहां होने देती थी कोई तकलीफ़। उसे भी तो इसी तरह उसने बड़ा किया। बड़ा बनाया। बच्चों का कितना ख़्याल रखती है माँ। समय के साथ-साथ गौरव बहुत बड़ा आदमी हो गया पर माँ... बिल्कुल भी नहीं बदली।

*** *** ***

17 टिप्‍पणियां:

  1. maa ki mahima to aprampaar hai..wo kaise badal sakti hai...
    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. yah katha sirf padh kar manan karne ke liye hai..... samay ke saath maan nahee badalee..... nahee kabhi badlegee !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति....माँ कहाँ बदलती है? उसे देखने वालों की दृष्टि बदल जाती है...
    पर यहाँ गौरव की सोच नहीं बदली है....यही इस कहनी की सार्थकता है......इस लघु कथा के लिए बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. गौरव को भी कहां होने देती थी कोई तकलीफ़। उसे भी तो इसी तरह उसने बड़ा किया। बड़ा बनाया। बच्चों का कितना ख़्याल रखती है माँ। समय के साथ-साथ गौरव बहुत बड़ा आदमी हो गया पर माँ... बिल्कुल भी नहीं बदली।
    Aankhen nam ho gayin..

    उत्तर देंहटाएं
  5. Karan Ji mai apki bato se sat pratisat shamat hun...maa jaise kal thi waise aj b hai aur kal b rahegi aur bhale he samay badalta rahe bt maa to maa he rahegee wo kabi ni badal sakti...
    Manoj ji..ye laghukatha chhoti si hai bt bahoooooooooot pyari hai...meko maa ki yad aa gai padhkar.. Thanks

    उत्तर देंहटाएं
  6. @ Rachna ji,

    laghukatha chhoti hee hotee hai !
    Dhanyawaad aapka kee aapne is laghu katha ko itnee gaharaaee se padha aur mahsoos kiya !!! aapke saath-saath tamaam paathakon ka bhi shukriya !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति....माँ कहाँ बदलती है? उसे देखने वालों की दृष्टि बदल जाती है...!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अटल सत्य ..जैसे पूर्व से उगता है सूरज ...माँ पर कम शब्दों में लिखा गया बहुत सुंदर आलेख ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. माँ भला कहाँ बदलती है...?
    सशक्त सार्थक अभिव्यक्ति....
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  10. हर माँ को परिभाषित करती हुई कथा, काश ! हर बेटा ऐसे ही माँ को परिभाषित कर उसकी कीमत को समझे तो फिर कुछ और ही दृश्य जो इस जगत का.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपने अन्दर हमेशा ममता का सागर समेटे हुए ......यही तो माँ है

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।