मंगलवार, 6 जुलाई 2010

मेरा आकाश!

मेरा आकाश

 12012010005 --मनोज कुमार

हताश न होना सफलता का मूल है और यही परम सुख है। उत्साह मनुष्य को कर्मो में प्रेरित करता है और उत्साह ही कर्म को सफल बनता है। हर व्यक्ति में प्रतिभा होती है। दरअसल उस प्रतिभा को निखारने के लिए गहरे अंधेरे रास्ते में जाने का साहस कम लोगों में ही होता है। यह सच है कि पानी में तैरनेवाले ही डूबते हैं, किनारे पर खड़े रहनेवाले नहीं, मगर ऐसे लोग कभी तैरना भी नहीं सीख पाते। जिस काम को करने में डर लगता है उसको करने का नाम ही साहस है । बिना निराश हुए ही हार को सह लेना पृथ्वी पर साहस की सबसे बडी परीक्षा है । संकट के समय ही नायक बनाये जाते है। सफलता के लिये कोई लिफ्ट नही जाती इसलिये सीढ़ीयों से ही जाना पड़ेगा। कष्ट और विपत्ति मनुष्य को शिक्षा देने वाले श्रेष्ठ गुण हैं। जो साहस के साथ उनका सामना करते हैं, वे विजयी होते हैं। ऐसे लोगों के लिए आकाश ही सीमा है … –SKY IS THE LIMIT!!! imagesmalltiled_colors3

imageClouds

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर और गहरे अर्थों वाली रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर आगे बढने की प्रेरणा देती रचना के लिये धन्यवाद और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेरक भूमिका... और उससे भी प्रेरणादायक कविता... राजा ब्रूस और मकड़ी की कथा का प्राकृतिक प्रतीकों के माध्यम से एक अनोखा एवम् मौलिक शब्द चित्र… आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाषा और शैली तथा अर्थ की दृष्टि से अद्भुत रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. यदि आप हर कार्य पूरी लगन से करते हैं तो आपको कभी पछताना नहीं पड़ेगा।
    गहरे अर्थों वाली रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेरक भूमिका... और उससे भी प्रेरणादायक कविता! गहरे अर्थों वाली!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर आगे बढने की प्रेरणा देती रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रतिकूलतम परिस्थितियों और झंझावातों का सामना करने के प्रति अदम्य साहस भरती, हमेशा आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती, अपनी आत्मा के स्वर से स्पंदित और मन की कोमल भावना से अनुप्राणित मार्मिक कविता है यह।

    सरस और अर्थपूर्ण कविता अच्छी लगी।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. @ अजय कुमार
    अजय जी हौसला आफ़ज़ाई के लिए शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  10. @ निर्मला कपिला दीदी
    आपका आशिर्वाद बरकरार रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  11. @ सम्वेदना के स्वर
    आपकी प्रेरक बातें और बी कुछ नया और अच्छा करने को उत्प्रेरित करती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. @ हरीश प्रकाश गुप्त
    हरीश जी आपकी समीक्षा की कसौटी पर कसने के बाद कविता अपना अर्थ ग्रहण करती है। आपका आभार। इसे आंच पर चढाया जाए, यह निवेदन है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. @ Indranil Bhattacharjee ........."सैल" जी
    कानाफ़ुसी नहीं है।
    चित्कार ... हो सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. @ प्रेम सरोवर एवं हास्यफुहार जी
    आपका शुक्रिया कि आपने हमारी हौसला आफ़ज़ाई की।

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रतिकूल परिस्थितियों में आगे बढने की प्रेरणा देती सुन्दर कृति ...कविता के साथ भूमिकाने भी चार चाँद लगा दिए... और पोस्ट करने का अंदाज़ भी बहुत सुन्दर....कुल मिला कर आठ चाँद लग गए :):)

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहद गहन और आगे बढने को प्रेरित करती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  17. उत्साहसम्पन्नमदीर्घसूत्रम्......
    ..... लक्ष्मी स्वयं याति निवास हेतो।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बिना निराश हुए ही हार को सह लेना पृथ्वी पर साहस की सबसे बडी परीक्षा है ।
    बहुत सुंदर भाव लिए प्रेरक रचना।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्रेरणा देते शब्द ... सच में आकाश को छूने का हॉंसला होना चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब ! हर रात का प्रात होता है........ ! धन्यवाद !!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।