मंगलवार, 13 जुलाई 2010

खुली आँखों के सपने

प्रकृति के सुकुमार कवि सुमित्रानंदन पन्त ने कविता की परिभाषा देते हुए कहा है,

"कविता परिपूर्ण क्षणों की वाणी है।"

मतलब कविता काप्रस्फुटन तब तक नहीं हो पाता जब तक कि आपके मनः-मष्तिष्क का विचार-घट पुर्णतः भर न जाए। चाहे वह वेदना से भरे अथवा प्रसन्नतासे.... !

प्रसन्नता का आवेग मंद और क्षिप्र-गामी होता है। संभवतः इसमें विचारों को तिरोहित करने की शक्ति भी होती है जबकि वेदना का आवेगतीक्ष्ण और चिरस्थायी होता है। यह विचारों को जन्म देती है। तभी तो पन्त जी को कहना पड़ा,

"वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान !

निकल कर आँखों से चुप-चाप, बही होगी कविता अनजान !!"

हालांकि वेदना की चरम अनुभूति ही प्रसन्नता है। जिस प्रकारआंवले का कसैला स्वाद समाप्ति पर जिह्वा पर मधुर प्रभाव छोड़ जाता है उसी प्रकार वेदना भी जाते-जाते मुस्कान सिखा जाती है। जीवन केकुछ कसैले अनुभवों से चुन कर लाया हूँ आज का काव्य प्रसून !

image करण समस्तीपुरी

images image

000_1

आज मेरी आँखें खुली हैं,
बिलकुल खुली !
और मैं देख रहा हूँ,
खुली आँखों से सपने !!
जिनमें हैं कई चेहरे,
कुछ धुंधले,
कुछ साफ़,
कुछ गैर,
और बहुत से अपने !!
धुंधले चेहरे तो याद नहीं किसके हैं ?
परन्तु साफ़ चेहरे,
बिलकुल साफ़ हैं !
एकदम चमकीले,
जो चमक होती है,
सिर्फ अपनों में !!
किन्तु ये क्या,
एक और सपना देख रहा हूँ,
मैं सपनों में !!
परन्तु ये आँखें फिर भी खुली हैं,
और
प्रतीक्षा कर रही हैं,
कि
कब आयेगी वह भोर ?
जब हर चेहरे में होगी,
सच्चाई की चमक !
विश्वास की झलक !!
और
प्रेम की ललक !!!
नहीं होगा कृत्रिम अपनत्व !
होगी तो सच्चाई,
और
केवल सच्चाई चारों ओर !!
पता नहीं,
ऐसा होगा कभी ?
ऐसा होगा भी या नहीं ?
सच तो ये है,
कि
यह भी एक सपना है !
क्या फर्क पड़ता है ?
आँखें बंद हो या खुली ?
भले ही,
कुछ आशाएं हैं पली !
सुबह फिर से तड़पना है !
क्योंकि यह भी,
बस एक सपना है !!!

73 टिप्‍पणियां:

  1. दिल की गहराई से लिखी गयी एक सुंदर रचना , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. शानदार भावमय प्रस्तुती धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुली आँखों के देखे हुये स्वप्न अधिक स्पष्ट होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी जागी आँखों का ख़्वाब बहुत ही हसीन था... दर्द भी हसीन होते हैं, क्योंकि मांजते हैं इंसान को ताकि उनकी चमक और बढे... हाँ दो एक पंक्तियाँ खटक रही हैं, आशा है अन्यथा न लेंगे –
    “कब आएगा वह भोर” की जगह “कब आएगी वह भोर”
    और “विश्वास का झलक” की जगह “विश्वास की झलक”
    इस फॉर्मेट में लिखने पर धुंधला दिखाई देता है, या फिर पिक्सेल बराबर कर लिया करें...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुनील जी,
    आप हमारे ब्लॉग पर पहली बार आये.... हार्दिक अभिनन्दन ! प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. निर्मला कपिला जी,

    आपके प्रोत्साहन से आत्म-विश्वास आकाश को स्पर्श करने लगते हैं. आप से धन्यवाद से नहीं आशीर्वाद की अपेक्षा है !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रवीण जी,
    धन्यवाद.... ! आपने मेरी खुली आँखों के सपने को अधिक स्पष्ट कहा.... !! मैं भी आपसे इत्तेफ़ाक़ रखता हूँ !!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. संवेदना के स्वर.....
    अब तो ब्लॉग पर आपके आगमन का इन्तजार रहने लगा है. मैं आपका हृदय से आभार प्रकट करता हूँ.... लिखावट की भूल की तरफ ध्यान दिलाने के लिए ! सुधार कर दिया गया है. समझ नहीं पा रहा हूँ कि कैसे आपको धन्यवाद दूँ.... ? आप समझ जाईये न..... !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. शास्त्री जी,
    ब्लॉग पर आपके आने से पोस्ट की गरिमा ही बढ़ जाती है ! आभारी हूँ !!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. शास्त्री जी,
    ब्लॉग पर आपके आने से पोस्ट की गरिमा ही बढ़ जाती है ! आभारी हूँ !!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सबसे पहिले त धमाकेदार प्रस्तावना के लिए धन्यबाद... पंत जी का पंक्ति, आपके कबिता के ऊपर लिखने से हमको अईसा लगा कि जईसे पंत जी का आशिर्बाद का हाथ आपके ऊपर है … पी बी शेली का अ‍ॅवर स्वीटेस्ट सॉन्ग्स आर दोज़ अऊर शैलेंद्र जी का “हैं सबसे मधुर वो गीत जिन्हें हम दर्द के सुर में गाते हैं” अऊर आपका कबिता, सब मिलकर अईसा कोलॉज बनाया है दर्द का कि पूछिए मत... लेकिन एगो बिस्वास है जो सदियों से हमरे संस्कृति में बसा हुआ है, पत्थरका लकीर जईसा... भोर का सपना सच होता है...

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ आशाएं हैं पली !
    सुबह फिर से तड़पना है !
    क्योंकि यह भी,
    बस एक सपना है !!!

    बहुत खूबसूरती से लिखा है...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर अभिव्यक्ति।
    सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. खुली आंखों से दिन में सपने देखना बंद कीजिए। तब न ई सब पूरा होगा
    कब आयेगी वह भोर ?जब हर चेहरे में होगी,सच्चाई की चमक !विश्वास की झलक !!औरप्रेम की ललक !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. तर्क, आप को किसी एक बिन्दु "क" से दूसरे बिन्दु "ख" तक पहुँचा सकते हैं। लेकिन सपने आप को सर्वत्र ले जा सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. @ चला बिहारी,
    हम तो आपका फैन हो चुका हूँ.... इसीलिये धन्यवाद नहीं कहूँगा !

    उत्तर देंहटाएं
  17. @ संगीता जी,
    आपकी प्रतिक्रिया का इन्तजार था......आप आयीं, बहुत-बहुत धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. @ सुधीर जी,

    क्या जनाब, एक तो पहली बार आये और सिर्फ सुन्दर पोस्ट लिख कर चले गए........ लेकिन मैं तो आपको 'शुक्रिया' कह ही सकता हूँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  19. @ सुमित जी,

    आप भी हमारे ब्लॉग पर पहली बार आये हैं... खुशामदीद ! हौसलाफजाई के लिए शुक्रिया !!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. @ हास्यफुहार
    बहुत दिनों के बाद आपका पुनरागमन हुआ है...... स्वागत ! आभार.... !!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. @ मनोज कुमार,
    सहमत हूँ आपसे ! धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  23. भाई मनोज जी
    आपकी पोस्ट पर टिप्पणी करने आया था पता नहीं किस तरह से यह पोस्ट मेरे ब्लाग पर आ गई और चिट्ठाजगत में टिप्पणियों के साथ देखने लगी थी.
    ( पोस्ट में केवल शीर्षक था और मेरी टिप्पणी प्रकाशित हो गई थी)
    खैर मैंने उसे डिलीट कर दिया है.
    आपको सुंदर रचना के लिए बधाई
    आपने कलेजा निकालकर रख दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दरतम भाव ....सपने तो सपने होते हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  25. @ राजकुमार सोनी जी,
    हमारी पोस्ट पढने के लिए आपने इतनी मशक्कत उठाई... हम तह-ए-दिल से आपका शुक्रिया अदा करते हैं ! उम्मीद है अआगे भी आपका सद्भाव बना रहेगा !! धन्यवाद !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. @ इंद्रानील सैल जी,
    आप जैसे नियमित पाठकों का हम केवल धन्यवाद ही नहीं इंतज़ार करते हैं !!

    उत्तर देंहटाएं
  27. @ शिखा जी,

    सात समंदर पार से भी हमारे पोस्ट पर आपकी नजर-ए-इनायत हुई..... बंदा शुक्रगुज़ार है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. कविता रचना मुझे न आता कभी कभी रच जाती कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  29. कविता के बारे मे आदरणीय पंत जी की परिभाषा से अवगत हुआ। आपकी कविता का भी आनंद लिया। आभार्……।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बड़ा शानदार सपना देखा गया भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  31. खुली आंखो से देखा सपना ही तो सच होता है और उम्मीद है ये सपना सच होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  32. खुली आँख का सपना दिल के भीतर तक उतर गया बनकर अपना।

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपकी जागी आँखों का ख़्वाब बहुत ही हसीन था.!!

    उत्तर देंहटाएं
  34. अनुपम रचना .... खुली आँखों के सपने दिल को भाते हैं ....
    लाजवाब ....

    उत्तर देंहटाएं
  35. अच्छी रचना।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  36. @ पश्यन्ति जी,

    आपका आना किसी शुभ संयोग से कम नहीं है.... इस ब्लॉग पर हम आपका हार्दिक अभिनन्दन करते हैं ! आपने जो पंक्ति लिखी है उसके लिए, "कहते हैं कि ......का है अंदाज़-ए-बयाँ और !! धन्यवाद !!!

    उत्तर देंहटाएं
  37. @ सूर्यकांत गुप्ता जी,

    'पन्त की परिभाषा आपको अच्छी लगी और हमें आपके उदगार !' आपका आभार !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  38. @ जाकिर अली रजनीश,
    जाकिर भाई,
    आपको खुली आँखों का सपना पसंद आया.... आपने तबज्जो बख्शी... शुक्रिया कहूँ क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  39. @ अनूप शुक्ल जी,

    देखा न... आपको भी आना पड़ा ! पहली बार आप मेरे पोस्ट पर टिपियाये हैं.... धन्यवाद कहने का हक तो बनता है !!

    उत्तर देंहटाएं
  40. @ वंदना जी,

    आप बहुत दिनों से नहीं आ रही थी हमारे ब्लॉग पर.... शबाब बन गयी यह अकविता. अल्लाह करे कि आपकी दुआ में असर हो... ये सपना सच हो जाए ! प्राणियों में सद्भावना हो.... 'सर्वे भवन्तु सुखिनः....' !!!

    उत्तर देंहटाएं
  41. @ प्रेम सरोवर,
    कविता आपके जज्बातों को छू पायी, शुक्रिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  42. @ जुगल किशोर जी,
    अरे वाह... क्या तुकबंदी मिलाई है.... ! वैसे यह आपकी जर्रानवाजी है.... !! शुक्रिया कबूलें !!!

    उत्तर देंहटाएं
  43. @ रीता जी,

    जागी आँखों के ख्वाब आपको पसंद आये.... मेरी खुशकिस्मती. शुक्रिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  44. @ दिगंबर नाशवा,
    सच कहता हूँ कविता पोस्ट करने के बाद मुझे आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा थी. देर आयद ! दुरुस्त आयद !! हौसलाफजाई के लिए शुक्रिया !!!

    उत्तर देंहटाएं
  45. @ राजभाषा हिंदी,

    समझिये कि आपकी कुछ सेवा हो गयी....... मेरा श्रम सफल हो गया ! धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  46. @ राजभाषा हिंदी,

    समझिये कि आपकी कुछ सेवा हो गयी....... मेरा श्रम सफल हो गया ! धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  47. यह कविता आप सब को पसंद आयी... मुझे बहुत खुशी हो रही है. एक अनिर्वचनीय आनद आ रहा है.... ! मैं इस आनंद में आप सबों को सम्मिलित करना चाहता हूँ !! आखिर यह सफलता आपकी है !!! अंत में मैं सभी आगत-अनागत, प्रत्यक्ष-परोक्ष पाठकों का आभार व्यक्त करता हूँ ! मैं यहाँ उन सभी पाठकों को भी धन्यवाद देना चाहता हूँ जिन्होंने, ई-मेल, फ़ोन अथवा एस.एम.एस से अपनी दाद भेजी है !!! आप सबों का हृदय से आभारी हूँ!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  48. Meko b apki ye rachna bahooooot pasand aai karan ji...Dil ko chhune wali kavita likh dala apne... bahot hai sadharan aur sundar kavita...
    Lakn tippani dene me bilamb ho gaya :(
    Mere Naye offc me blogs wagerah blocked hai jis wajah se mai apke blog par pahle ki bhanti har roz ni aa pati hun..
    Isliye apse aur Manoj ji se nivedan hai ki is blog par jo b post aata hai meko meri gmail id par send kar dia kare..taki mai sabi post ka aanand le sakun...aur is tarah ke ache post ko miss na karu...dhanywad..

    उत्तर देंहटाएं
  49. आप की रचना 16 जुलाई के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
    http://charchamanch.blogspot.com
    आभार
    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  50. कुछ आशाएं हैं पली !
    सुबह फिर से तड़पना है !
    क्योंकि यह भी,
    बस एक सपना है !!!
    और फिर जब तक सपना है तब तक आस है
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  51. 17.07.10 की चिट्ठा चर्चा में शामिल करने के लिए इसका लिंक लिया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  52. बहुत सुन्दर रचना बहुत पसंद आई शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  53. मंगलवार 19 जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  54. मंगलवार २० जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    दिनांक गलत छप गयी थी

    उत्तर देंहटाएं
  55. @ मनोज कुमार,
    चिटठा-चर्चा में शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद ! चर्चा भी बहुत सुन्दर बन पड़ीं है ! वहाँ भी टिपिया आया हूँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  56. @ रंजू भाटिया,
    आखिर आपको भी आना ही पड़ा.... हम शुक्रगुज़ार हैं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  57. @ संगीता स्वरुप,
    चर्चा-मंच पर स्थान देने के लिए, धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  58. सही है जब तक किसी बात की अनुभूति नही होती या घटना से सामना नही होता कविता का प्रस्फुटन नही होता। और आपकी कविता इस बात का उदाहरण है। मार्मिक रचना। बधाई……व आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  59. बेहतरीन कविता हैं...शब्दों में कैसे प्रशंशा की जाये...ये सोच रहा हूँ...विलक्षण तरह से भावों को समेटा गया है... वाह...वा...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  60. बहुत अच्छा....मेरा ब्लागः"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com .........साथ ही मेरी कविता "हिन्दी साहित्य मंच" पर भी.......आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  61. कुछ आशाएं हैं पली !
    सुबह फिर से तड़पना है !
    क्योंकि यह भी,
    बस एक सपना है !!!

    सपने तो सपने होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  62. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    सफर पुरानी राहों से आगे की डगर पर , साप्ताहिक काव्य मंच

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।