सोमवार, 19 सितंबर 2011

जब सवेरे आंख खुलती है


जब सवेरे आंख खुलती है


श्यामनारायण मिश्र

जब सवेरे आंख खुलती है
इस तरह महसूस होता है।

हम धकेले जा रहे हैं
    म्युजियम से जंगलों में।
बिस्तरों से दफ़्तरों तक
    बजबजाते   दलदलों में,
मन में शमशान वाली
         नीम घुलती  है।

मस्तिष्क की शिराएं
सड़कें  हो  जाती हैं
    मन विचारों के
        चकों पर दौड़ता।
भावना के किसी
छज्जे के  तले
    तोड़कर दम बैठ  जाती
        अनामंत्रित प्रौढ़ता।
कुंठा की नागिन
    तब विष  उगलती  है।

21 टिप्‍पणियां:

  1. jeevan ki bhagdaud ki kuntha hi to yeh sab mahsoos karati hai.achchi abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक सर्वथा भिन्न वातावरण निर्माण कर लिया है हमने।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय मिश्र जी के बहुत ही उच्च कोटि के गीतों का रसास्वादन हम कर चुके हैं। सो, यह रचना उनके प्रारम्भिक दौर की प्रतीत होती है, क्योंकि दूसरे पद में एकाधिक स्थानों पर अवरोध उत्पन्न है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. गुप्त जी की बातों से सहमत.. चूँकि उन्होंने कह दिया इसलिए सहमति जताने की इच्छा हुई.. फिर भी इस नवगीत के भाव तो ऐसे हैं जैसे हमारी अपनी कहानी बयान करते हों.. बिलकुल ऐसा ही हो चला है जीवन... खुद से ही मुलाक़ात हुए महीनों हो जाते हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. राजेश कुमारी जी की बात से शामत हूँ जीवन की भागदौड़ की कुंठा को बहुत बढ़िया तरीके से उकेरा है आपने बढ़िया पोस्ट
    कभी समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह कुंठित जीवन हमारा अपना ही चुना हुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या करें सर जी? इसी का नाम ज़िन्दगी है ! उम्दा ख्यालों को शब्दों में पिरोने के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावना के किसी
    छज्जे के तले
    तोड़कर दम बैठ जाती
    अनामंत्रित प्रौढ़ता।
    कुंठा की नागिन
    तब विष उगलती है।

    ...बहुत सटीक प्रस्तुति... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  10. श्यामनारायण मिश्र जी की बहुत सुंदर रचना की प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  11. मनोज कुमार जी का यह प्रयास प्रशंसनीय है कि आज मिश्रजी हमलोगों के बीच नहीं है, फिर भी हम उन्हें प्रत्येक सप्ताह पढ़ रहे हैं, सुन रहे हैं। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सत्य व भावपूर्ण सुंदर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  13. श्याम नारायण मिश्र जी की सभी कवितायें प्रभावित करती हैं.प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन रचना .,गहरी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।