मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011

प्रमाण

श्री सत्येन्द्र झा मैथिली साहित्य की जेठ के दुपहरी में छाँव की तरह वतरित हुए हैं। मैथिली और यदा-कदा हिंदी में कविता, कहानी और व्यंग्य लिखने वाले श्री झाजी की लोकप्रीय विधा है, 'लघुकथा'। वे अब तक शताधिक लघुकथाओं की रचना कर चुके हैं जिनमे से इक्यावन कथाएं 'अहीं के कहै छी' (आपही को कहते हैं) नामक संकलन में प्रकाशित है और दूसरा संकलन भी प्रकाशन की राह देख रहा है। झाजी की शैली देख कर एक बार पुनः यह विश्वास पुष्ट होता है कि लोकतंत्र में भले ही संख्याबल और आकर्बल माने रखते हों परन्तु साहित्य में अभी भी गुणबल ही प्रधान है। श्री झाजी सम्प्रति आकाशवाणी के दरभंगा केंद्र में बतौर लेखापाल कार्यरत हैं। उनकी वाणिज्य शिक्षा का प्रभाव उनके लेखन में भी झलकता है कि झाजी कितने नाप-तोल और गिन कर शब्दों का उपयोग करते हैं। -- करण समस्तीपुरी

प्रमाण

-- सत्येन्द्र झा



"आपका नाम क्या है ?" बड़े से कोठानुमा मकान के आदमकद फाटक पड़ खड़े वृद्ध से नौवर्षीय बालक ने पूछा।

"देवचन्द्र।" मैं आपका दादा हूँ..... आपके पिताजी का पिता।"

"आप एक मिनट इध ही रुको। मैं डैडी से पूछ कर आता हूँ।" बालक अन्दर की ओर जाने लगा कि अचानक वृद्ध ने पूछा, "डैडी से क्या पूछेंगे आप ?"

"यही कि आप सच में डैडी के पिताजी हैं क्या ?" कह कर बालक अन्दर चला गाया किन्तु वृद्ध के म्लान मुखमंडल पर छोड़ गाया अनेक प्रश्न और उलझन.... आखिर एक पुत्र कैसे प्रमाणित करेगा कि उसका पिता कौन है ?

(मूल कथा मैथिली में 'अहीं के कहै छी' में संकलित 'प्रमाण' से हिंदी में केशव कर्ण द्वारा अनुदित)

20 टिप्‍पणियां:

  1. आज के युग में व्यक्तिवादी समाज के ढांचे में आत्मीय रिश्तों की बुनियाद हील सी गयी है।हम अपने आप में इतने व्यस्त हो गए हैं कि अन्य रिशतों की जरूरत नही महसूस होती है।आज दादाजी की बात तो दूर की बात हो गयी,परिवार में बुजुर्गों की अनुपस्थिति के कारण छोटे-छोटे वच्चे अपने मां-बाप को भी नही पहचान पाते हैं। उस बालक का प्रश्न सटीक था।ङमें इतना अवश्य याद रखना चाहिए कि जीवन के छोटे-छोटे अहम हमें अपनों से तो दूर कर देते हैं किंन्तु जीवन की सांध्य-बेला में वही रिश्ते फिर य़ाद आने लगते हैं।हृदयस्पर्शी पोस्ट।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम पंक्तियों में गुरुतर अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है सत्येन्द्र जी ने।

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्तमान समय में अपने घर परिवार में अनजान बन रहे रिश्तों के मार्मिक सच को प्रभावशाली ढंग से प्रस्तुत करती हुई लघुकथा अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चिचारनीय बिन्दू छोड गयी लघु कथा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनभिज्ञता के प्रमाद में प्रमाण भी प्रमाणहीन बनकर रह जाता है। साधुवाद,

    उत्तर देंहटाएं
  6. अहम प्रश्न ..रिश्ते जैसे लुप्त होते जा रहे हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रमाण..... टूटैत-दरकैत संबंधक प्रमाण.... क्षीण होएत संवेदनाक प्रमाण.... आ नहि जानेक कतेक रास आओर प्रमाण प्रस्तुत कए रहल अछि अपनेक ई लघुकथा !

    उत्तर देंहटाएं
  8. yah transition ka samay hai .. sankaraman kaal .. abhi to aisa hee hoga... sochiye jab live in relationship aam hoga to kaun se sawal puchhe jayenge...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कोई चाहे तो ये प्रश्न उठा तो सकता ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज सभी आत्मीय रिश्ते विस्मृत हो चुके हैं..बहुत सटीक टिप्पणी..

    उत्तर देंहटाएं
  11. मनोज जी पहले तो धन्यवाद कि आपने यह आंचलिक साहित्य अनुदित रूप में सर्वसाधारण को उपलब्ध कराया है.. लघुकथा की यह पैठ अन्यत्र नहीं देखने में आई है! आदरणीय झा जी की कई लघुकथाएँ यहाँ देखने को मिली और सब पिछले सए बेहतर और अगली कथा की प्रतीक्षा को प्रेरित करता..
    इस कथा ने सत्यजीत रे की फ़िल्म शाखा प्रशाखा का एक प्रसंग याद दिला दिया!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. गहरे व्यंग्य लिए लघुकथा मर्मस्पर्शी है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस कथा में बच्चे की सोच दादा जैसी है और दादा केवल शरीर से बड़ा हुआ प्रतीत होता है। खेदजनक,निंदनीय।

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।