मंगलवार, 1 फ़रवरी 2011

लघुकथा :: चित भी मेरी पट भी मेरी

लघुकथा

चित भी मेरी पट भी मेरी

सत्येन्द्र झा

उसका बैल बीमार था। पशु चिकित्सक को बुलाया गया। मोटे-मोटे इंजेक्शन और ढेर सारी दबाइयां चली.... मगर बैल बच नहीं पाया।लोग कह रहे थे कि डॉक्टर बीमारी नहीं पहचान सका। डॉक्टर साहब झुंझला गए, "दवा तो मैंने सही ही दिया था मगर... पशु की जातकुछ बोलता तो है नहीं.... अब ऐसे बीमारी कभी-कभार पहचान में ना आये तो क्या कर सकते हैं....?"

उफ़... इस बार उसका सबसे छोटा बेटा बीमार पड़ गया। शहर के सबसे बड़े डॉक्टर से इलाज करवाया मगर.... वह बच नहीं पाया।लोगों की जुबाँ पर फिर से एक ही शिकायत थी, "उफ़... डॉक्टर बीमारी नहीं पहचान पाया।" यह डॉक्टर साहब कुछ ज्यादा ही झुंझलागए, "तुम्हारा बेटा इतना बोलता था कि ठीक से इलाज करना मुश्किल। तुरत ये हो रहा है... तुरत वो हो रहा है.... तुरत ये होगया....... ! अगर कुछ नहीं बोलता तो मैं अपने ढंग से इलाज करता... ! वो तो मैं ही था जो इतने दिनों तक भी खीच पाया.... ।

बैल...?  बेटा.... ?? वह अबाक था.... ! उसे यह भी समझ में नहीं आ रही थी कि मन में चीत्कार करे या कलेजा फार के चिल्लाए.... !

(मूल कथा मैथिली में 'अहीं के कहै छी' में संकलित 'मूक वाचाल' से हिंदी में केशव कर्ण द्वारा अनुदित)

32 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी दृष्टि में मैथिली भाषा से हिंदी भाषा मे अक्षरश:अनुवाद हुआ है। यदि भावात्मक अनुवाद हुआ रहता तो 'चित भी मेरी पट भी मेरी' नामक लघु कथा में हास्य और रोचकता बनी रहती।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सशक्त कथानक की आभा असजग शिल्प से किंचित क्षीण हुई है। तथापि प्रयास के लिए आभार,

    उत्तर देंहटाएं
  3. दर्दनाक .
    अब डॉक्टरी का पेशा संवेदना से नहीं बल्कि व्यवसाय से जुड़ गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब काफी कुछ पढ़ने को हो तब शीर्षक रोचक होने के कारण प्रायः छोटी कथाएँ पढ़ने की हिम्मत कर ही लेता हूँ. सरोवर जी से सहमत हूँ. अनुदित कथाओं को भावों का कुछ अतिरिक्त मसाला चाहिए होता है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. न बोलना और अधिक बोलना, दोनो ही न हों।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अक्सर लोग अपने दोष को छुपाने के लिए दूसरों की गलतियां ढूंढते हैं। यह लघु कथा भी कुछ ऐसा ही संदेश दे रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस लघुकथा के माध्यम से सत्येन्द्र जी समाज के यथार्थ से परिचय करा रहे हैं.. करन का अनुवाद भी उत्तम है..

    उत्तर देंहटाएं
  8. "चिकित्सा सेवा है ,व्यवसाय नहीं" यदि इसे ध्यान रखा जाए तब ऐसे बुरे प्रकरण देखने-सुनने को न मिलें.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आजकल इंसान जानवर सब एक बराबर ही हैं..
    सार्थक लघुकथा.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थक बहाने>>

    बस यही कि, चाची के मूंच होती तो चाचा न कहलाती।

    उत्तर देंहटाएं
  11. लघु कथा तो बहुत अच्छी रही, अपने दायित्वों को अपने लिए कुछ और और दूसरे के लिए कुछ और मानने वालों के लिए एक sabak hai. लेकिन चित भी मेरी और पट भी मेरी जो हम प्रयोग करते हैं उसके अनुसार कथा कुछ और होनी चाहिए थी. अन्यथा न लें. इसके लिए आगे कभी उदारहण पेश करूंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सत्येंद्र झा जी का एक और मील का पत्थर! आभार मनोज जी!

    उत्तर देंहटाएं
  13. हर छोर में गड़बड़ी..
    यही दुनिया है.. इधर से भी मारेगी... उधर से भी..

    उत्तर देंहटाएं
  14. दोनो का डाक्टर एक ही था क्या ? या फ़िर यह दोनो डाक्टर आरक्षण के कोटे से बने होंगे जी, या फ़िर किसी मत्री के फ़ोन से, तो जरुर उपहार दिया होगा मेज के नीचे से...... वर्ना ना बेल मरता ना लडका

    उत्तर देंहटाएं
  15. राज भाटिया साहब की टिप्पणी ने बाध्य कर दिया पुनः लिखने पर!! हमारी बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. अभिव्यक्ति संतुलित होना ज़रूरी है.....

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।