मंगलवार, 21 सितंबर 2010

पोस्टर

पोस्टर


सत्येन्द्र झा

हॉल में सिनेमा बदल गया था। सिनेमा हॉल के कर्मचारी शहर की दीवारों पर नए पोस्टर चिपकाने आये थे। वे पुराने पोस्टरों को फार-फार कर गिराने लगे और उनकी जगह नए पोस्टर चस्पा करने लगे। वह बूढा यह सब देख रहा था। सहसा बढ़ा और और उन फटे-पुराने पोस्टरों को संजोने लगा।

एक कर्मचारी, "बाबा ! इस पोस्टर का क्या करेंगे ? यह तो पुराना हो गया है।"

बूढा, "कोई बात नहीं। अपने घर में लगाऊंगा।"

दूसरा कर्मचारी, "मगर यह तो पुराना है। अब तो नया सिनेमा आ गया है।"

बूढा, "तो क्या हुआ ? पुराने के लिए बाजार मे कोई जगह नहीं है। घर में अभी भी 'पुरानी चीजों' का कुछ महत्व है।"

बूढा पोस्टर को लेकर आगे बढ़ गया। कर्मचारी अबाक थे।

(मूल कृति मैथिली में "अहीं के कहै छी" में संकलित 'पोस्टर' से हिंदी में केशव कर्ण द्वारा अनुदित।)

31 टिप्‍पणियां:

  1. दिल को छू लेने वाली रचना, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस प्रभावशाली लघुकथा के लिए
    आपको बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्येंद्र झा जी की यह लघु कथा एक सचाई का दर्पण है... पुरानी चीज़ों के लिए अभी भी कहीं जगह है…अफसोस हम उस जगह का महत्व नहीं समझ पाते!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत गम्भीर लघुकथा... अच्छा अनुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. apane ek sandesh liye ye katha bahut kuchh kah jati hai, puirane ke upar nayi parat jaroor chadh jati hain lekin naye ud jate hain aur purane surakshit rahate hain.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छा सन्देश देती लघु कथा ..काश सबके घर घर हों मकाँ नहीं ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावुकता से ओतप्रोत....

    साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन बड़ा भारी हो गया...
    क्या विडंबना है , हम सभी रोज पुराने पड़ते जा रहे हैं,पर वर्तमान में इसे याद नहीं रख पाते....

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच है. बहुत बढ़िया पोस्ट!!
    हमारी जिम्मेदारी है कि घर को बाज़ार न होएं दें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहरी बात ... पुरानी चीज़ों की शायद आज घर में ही जगह है ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. यथार्थ को प्रस्तुत करती हुई आपकी यह कथा बहुत पसंद आई । जिसप्रकार पुरानी चीजों को बेकार समझ कर फेंक दिया जाता है ठीक वैसा ही शलूक कुछ लोग अपने परिवार के वृद्ध सदस्य के साथ भी करते हैं । उनका उस घर में आज भी उतना ही महत्व है जितना कि कभी हुआ करता था । इसी सच्चाई को इस लघु कथा में बड़े ही मार्मिक ढंग से पेश किया गया ङै ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. शाश्वत मूल्यों में हो रहे छरण पर बहुत ही मार्मिक व्यंग्य किया है लेखक ने. बाजारवाद की चपेट से घर को बचाना होगा. बुजुर्गों का एहतराम करना ही होगा वरना घर-घर नहीं रहेगा !! धन्यवाद !!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. कहीं न कहीं तो महत्व रहना चाहिये पुरानी चीजों का।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बाबा की बात बिल्कुल सही थी. अच्छी कथा...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बढ़िया लघुकथा प्रस्तुति..... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच को दर्शाती है यह लघु कथा, अच्छी प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  17. दिल के फफोले जल उठे सीने के दाग से,
    इस घर को आग लग गई, घर के चिराग से ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. पुरानी चीज़ों को संजोने के नाम पर हमारा घर वास्तव में कूड़ाघर ही बना रहता है। उनसे मुक्त हो जाना अच्छा। बस,इतना ध्यान रहे कि वस्तु और संवेदनाएं अलग-अलग होती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. bahut gahraee se otprot thee ye laghukatha........
    accha sandesh sanjoe.

    उत्तर देंहटाएं
  20. achcha sandesh deti hai yeh laghukatha. nirjiv vastu ke madhyam se samvedana jagati hui.
    sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बाद मे होता है अहसास गुजर जाने के सफर
    हम चले थे अकेले, था भी कोई हमसफर

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।