मंगलवार, 28 सितंबर 2010

शौक


शौक



सत्येन्द्र झा

tension[7] वो नियमित समय से कार्यालय पहुँचते थे। सभी कार्य नियमानुकूल करते थे। हाकिम को उन्होंने कभी भी शिकायत का मौका नहीं दिया। लेकिन वही रमण बाबू जब घर पहुँचते थे तो पता नहीं उन्हें क्या हो जाता था...? पत्नी पर कड़क के बोलना... बच्चों से ऐसा व्यवहार मानो वे इनके आदेशपाल हों। उस पर से पचासों प्रश्न.... ! हमेशा तमतमाए हुए।
उस दिन रमण बाबू संयमित थे। अवसर जान पत्नी ने मधुर स्वर में पूछा, "आपको घर आते ही क्या हो जाता है? ऐसे खिसियाये हुए और खिन्न क्यूँ रहते हैं?”
रमण बाबू उस दिन सच में प्रसन्न थे। बोले, "असल में साहेब के साथ रहते-रहते मुझे भी कभी-कभी साहेब बनने का शौख चढ़ जाता है।" बोलते हुए रमण बाबू की मुख-मुद्रा फिर से तनावग्रस्त हो गयी थी।
(मूल कथा मैथिली में 'अहीं के कहै छी' में संकलित 'शौख' से हिंदी में केशव कर्ण द्वारा अनुदित)

27 टिप्‍पणियां:

  1. ab samjh me aaya........tevar logo ke kyo chade rahte hai.........
    jo hai us post se khush nahee......?
    bichare beebee bacche.........
    sandesh detee laghu katha.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसी लघुकथा और ऐसा अनुवाद कि पढने वाले को आप सोचने को मजबूर कर दें..बस यहीं देखने को मिलती है… एक साहब का एक कुत्ता घर के सारे काम करता था. एक रोज़ उनके किसी मेहमान ने उस कुत्ते को बॉस कह दिया..उस दिन से वो घर के कमरे में बैठा दुम हिलाता है और भौंकता रहता है.
    बहुत अच्छी रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. "असल में साहेब के साथ रहते-रहते मुझे भी कभी-कभी साहेब बनने का शौख चढ़ जाता है।"... madhyam vargeey samaj me aisa hi hota hai.. sunder laghu katha! prabhavshali... aamtaur par hum sab aisa hi karte hian!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ye damit ichchayen hai jo kahin na kahin prasphutit hoti hai. chahe wo boss banana ho ya phir koi aur matvakanksha, roop bhinn ho sakata hai>
    achchi aur sandesh purn laghu katha ke niye satendra ji ko badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाहा हा अच्छी लगी लघु कथा। सही बात है आदमी को कभी तो लगना चाहिये कि वो भी बास है? वर्ना घर मे भी नौकर और बाहर भी। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. लगा अपनी आत्मकथा पढगया इस लघुकथा में।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सही है ...बौस बनने का शौक तो पूरा हो जाता है पर बेचारे बीवी बच्चों से पूछिए ...

    अच्छी लघु कथा ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. ek achchi Laghukatha maanviya samvedana ki samwaahak hoti hai.
    chote me kahi baat ka badaa asar hi eski pahchaan hai.
    etani sundar laghukatha padwane ke liye dhanyawaad.
    -GyanChand Marmagya.

    उत्तर देंहटाएं
  9. एकदम सटीक कहा है .बॉसपना झाड़ने के लिए बीबी बच्चों से बेहतर कौन मिलेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  10. कम से कम ९५% घरों/परिवारों की कथा है यह....

    स्थिति और मनोविज्ञान का सटीक चित्रण किया गया है इस कथा में...

    आभार आपका...

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छी ... सच के करीब है बहुत ये लघु-कथा ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. Kabhi - Kabhi Boss banane ke lie apne bibi aur bachchon per barash paro. Ek pathak k rup me Karan ji ke likh per barash paro.

    उत्तर देंहटाएं
  13. Sach main vyakti ki manovegyanik stiti ka parikshsan kiya hai. aaj ke sandharve mai yeh laghu katha satik pratit hoti hai.

    Sunder abhivyakti.........!
    Dhanyavaad

    उत्तर देंहटाएं
  14. संगत का असर आ ही जाता है. पर बीबी बच्चों को भी चाहिये की इन महाशय को चुपचाप झेलने की बजाये कुछ राशन पानी दिया करें तभी इनका इलाज हो पायेगा.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  15. कार्यस्थल का माहौल व्यक्तित्व को प्रभावित करता ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बीवी घोंचू लगती है। एक दिन अवसर मिला भी तो उसे भी तनाव में ही गुजार दिया। उस पल का सदुपयोग दोनों के दाम्पत्य जीवन का निर्णायक क्षण हो सकता था।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूब

    यानी कि सारा दिन दफ्तर में जो दिल पर बीत रही है - वो परिवार के बाकी सदस्यों के दिल पर शाम को भी बीते.


    अच्छी प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।