सोमवार, 21 दिसंबर 2009

ब्लेसिंग

-- मनोज कुमार


में आई कम-इन सर?

यस कम इन।

गुड मार्निंग सर।

मार्निंग

कैन आई सिट सर?

ओह यस-यस प्लीज ।..................अरे तुम ? अगर तुम अपने ट्रांसफर की बात करने आए हो, तो सॉरी, तुम जा सकते हो।

नहीं सर मैं तो...आपके...........।

देखो तुम जब से इस नौकरी में हो, यहीं, इसी मुख्यालय में ही काम करते रहे हो। तुम्हारे कैरियर के भले के लिए तुम्हें अन्य कार्यालय में भी काम करना चाहिए। और गोविन्दपुर में जो हमारा नया ऑफिस खुला है , उसके लिए हमें एक अनुभवी स्टाफ की आवश्यकता थी। हमें तुमसे बेहतर कोई नहीं लगा।

सर मैं तो इस विषय पर बात ही नहीं करने आया। मैं तो उसी दिन समझ गया था जिस दिन ट्रांसफर ऑर्डर निकला था कि आपने जो भी किया है मेरी भलाई के लिए ही किया है। मैं तो कुछ और ही बात करने आया हूँ।

ओ.के. देन ... बोलो...............।

सर वो,.............थोड़ा लाल बत्ती जला देते । कोई बीच में न आ जाए।

देखो तुम घूम-फिर कर कहीं ट्रांसफर वाली बात तो नहीं करोगे।

नहीं सर। बिल्कुल नहीं। कुछ पर्सनल है सर।”

क्या?

सर मेरे पिता जी काफी बूढ़े हो गए हैं। उनकी इच्छा थी कि मैं एक गाड़ी खरीदूँ और उन्हें उस गाड़ी में इस पूरे महानगर में घुमाऊँ।

तो इसमें मैं तुम्हारी क्या मदद कर सकता हूँ ?

सर ! बस आपकी ब्लेसिंग चाहिए। आप तो इसी महीने के अन्त में सेवानिवृत होकर चले जाएंगे। सुना है आपके पास एक गाड़ी है।

हां है तो। वो 80 मॉडल गाड़ी हमेशा गराज में पड़ी रहती है।

सर उसे .....आप ............।

अरे बेवकूफ वो तुम्हारे किस काम आएगी। पिछले चार सालों में उसकी झाड़-पोछ भी नहीं की गई है। उसे तो कोई पांच हजार में भी नहीं खरीदेगा। उससे ज़्यादा तो उसे मुझे अपने होमटाउन ले जाने का भाड़ा लग जाएगा। मैं तो उसे यहीं छोड़................।

सर मैं खरीदूंगा सर। आप बीस हजार में उसे मुझे बेच दीजिए।

पर...................लेकिन .......गराज..........नहीं ...नहीं।

सर। प्जीज सर। नई गाड़ी तो मेरी औकात के बाहर है। कम से कम इससे मैं अपने माता-पिता का सपना उनके प्राण-पेखरू उड़ने के पहले पूरा तो कर लूंगा।

यू आर टू सेंटिमेंटल टूवार्डस योर पैरेंट्स। आई शुड रिस्पेक्ट इट। ओ.के. ... डन। आज से, नहीं-नहीं अभी से गाड़ी तुम्हारी।

थैंक्यू सर।... पर एक प्रॉब्लम है सर।

क्या?

आपकों तो मालूम है कि मैं गाड़ी चलाना ठीक से नहीं जानता। नया-नया सीखा हूं। अब मेरे घर, माधोपुर से तो इस ऑफिस तक का रास्ता बड़ा ठीक-ठाक है, भीड़-भाड़ भी नहीं रहती, किसी तरह आ जाऊंगा। पर सर आप तो जानते ही हैं कि गोविन्दपुर का रास्ता....................... वहां तो शायद मैं इस कार को नहीं ले जा पाऊँगा।

दैट्स ट्रू। ब्लडी दैट एरिया इज भेरी बैड। पूरा रास्ता टूटा-फूटा है। उस पर से भीड़ भाड़, .... यू हैव ए प्वाईंट।...............मिस जुली.......जरा इस्टेब्लिशमेंट के बड़ा बाबू को ट्रांसफर ऑर्डर वाली फाईल के साथ बुलाइए।

थैंक्यू सर। गुड डे सर।

*** **** **** **** ****

28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा लिखा है।कितनी चालाकी से लोग अपने काम बना लेते है.......

    उत्तर देंहटाएं
  2. wah maja aa gaya.katha bahut achi lagi.Chalaki ki bhi koi seema nahi hoti.Aapka style pasand aya.Dhanyawad...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह रचना काबिले तारिफ है । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Waah...lajawaab...kya ghumaya aapne katha ko...is ant ki kalpana to koi nahi kar sakta....

    Bahut hi sundar katha...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऎसे लोगो से बचना चाहिये, मै इन्हे मिट्ठी छुरी कहता हु, ओर जो इन के हाथ लग जाये वो जन्म भर इन्हे नही भुलता, जबाब नही आप कीऒ इस सुंदर कहानी का, कहानी की कहानी ओर सबक का सबक

    उत्तर देंहटाएं
  6. जय हो ... ब्लेसिंग किस तरह से लिया जाता है कोई इन महानुभाव से सीखे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह क्या जुगाड़ है
    ब्लेसिग से उद्धार है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हा हा.हा. भाई मनोज जी कमाल कर दिता है तुस्सी घूम फिर के ट्रान्सफर रुकवा लिया और समझो तो पुरानी गाडी जो ५००० में न बीके उसके २०,०००० हजार मानो तो घुस देने का तरिका भी लाजवाब!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. ऐसे लोगों का कोई काम नहीं रुकता, ब्लेसिंग हासिल कर ही लेते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. संभवत: यही बाजारवाद और नवउपनिवेशवाद का अक्स है। कुछ लोगों की रायशुमारी में इसे आधुनिक समाज की जरूरत भी माना जा सकता है। कुल मिलाकर, आपकी रचनाओं के लिए आपको साधुवाद। और क्या कहँू?

    उत्तर देंहटाएं
  11. WAH WAH WAH..ISKO KAHTE HAI KHUD KA B BHALA KARNA AUR SATH ME DUSRO KA BHI...

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या अंत है ... और आज कल सच भी यही है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अच्छा व्यंग है ....... चालबाजी से लोग क्या क्या करवा लेते हैं ........... बहुत अच्छा लिखा है .......

    उत्तर देंहटाएं
  14. "नजर से क़त्ल कर दे जो उसे समशीर कहते हैं !
    निशाने पे जो लग जाए, उसी को तीर कहते हैं !!"
    धन्यवाद.... !!

    उत्तर देंहटाएं
  15. Waah...lajawaab...kya ghumaya aapne katha ko...is ant ki kalpana main nahi kar sakta....

    उत्तर देंहटाएं
  16. बड़ा दिलचस्प तरीका ट्रांसफर रुकवाने का

    उत्तर देंहटाएं
  17. It's a Great piece. Both in terms of message and in terms of style of saying...
    How selfish this human being is ... O my God !!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. Bhai Sahab Sundar khaka prastut kiya hai aapne daftar ka..........
    Dhanyavaad.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत प्रतिभावान है, ट्रांसफर रुकना ही चाहिये! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  20. अफसरशाही पर इससे शालीन कटाक्ष और क्या हो सकता है!
    आप भी कमाल करते हैं सर!
    मुफ्त में यह ग्यान सभी को दे बैठे....!!
    --धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।