सोमवार, 13 दिसंबर 2010

कविता :: दु:ख

कविता

दु:ख

श्री अनिल प्रसाद श्रीवास्तव

श्री अनिल प्रसाद श्रीवास्तव एक सिविल इंजीनियर हैं। लेकिन उनका हृदय संवेदनशील है। जीवन की कठिन विसंगतियों का उन्होंने बहुत नजदीक से सामना किया है। उनकी कविताएं कल्पना लोक की उड़ान भर नहीं हैं बल्कि वे जीवन के कठोर यथार्थ से अनुप्राणित हैं और बड़ी ही सहजता के साथ सरल भाषा में अभिव्यक्त होती हैं। सम्प्रति श्री अनिल प्रसाद श्रीवास्तव आयुध निर्माणी, दमदम में कार्यशाला प्रबंधक पद पर कार्यरत हैं।


दुख के आने का

दुख के जाने का

दुख के आकर न जाने का

कोई नियम न है, न था, न होगा।

 

नियम बनाया गया

दुख के बाद सुख आएगा

इसके पीछे क्या था

थोड़ा अनुभव

ज्यादा आशावादिता

उससे भी कहीं ज्यादा

दुखी को यह बताकर

लुभाने की लालसा

क्योंकि दुखी हमेशा

साधन विहीन मरणासन्न नहीं होता

दुखी सब कुछ हार जाता है

 

दुख और सुख सर्वथा भिन्न नहीं हैं

साम्य रखते हैं कई

दुख में हमारे अपने दूर होते हैं

सुख में हम अपनों से दूरी बनाते हैं

दुख में दुख के बढ़ने का

सुख में सुख के घटने का

डर हमेशा घेरे रहता है,

कोई दुख से पागल होता है

तो किसी का सुख से सिर फिर जाता है,

अपने सुख का पता नहीं लगता

अपना दुख बहुत नजर आता है,

दुख में आँख खुलती है

सुख में आँख पर परदा पड़ जाता है,

दुख अपना हो तो दुख

दूसरे का हो तो सुख होता है

सुख अपना हो तो सुख

दूसरों का हो तो दुख देता है।

 

ज्यादा दुख और ज्यादा सुख -

पेट की नजर में एक हैं

एक में खाने की सुधि नहीं

दूसरे में खाने का स्वाद नहीं

नौजवान यह सोचकर डरता है

एक दिन यह सुन्दर संसार छूट जाएगा।

पर मौत अगर बिना बुलाए न आए

तो अन्तहीन बुढ़ापे का दर्द

सबसे आत्महत्या कराएगा

सुना है दिमाग जिन्दा रहता है

मरने के आधे घंटे बाद तक

उस दौरान हम क्या करेंगे

मरने का शोक यानि

और जीने की आस

मगर क्यों?

आगे भी तो नया जीवन है ...............

****

46 टिप्‍पणियां:

  1. kitni sunder kavita hai... kitna kuch hai isme seekhne ko... dhanyawaad.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन के सही संदर्भों को उदघाटित करती यह कविता अच्छी लगी। सादर--

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुख और दुख के माध्यम से सुंदर सृजन अच्छी लगी कविता .

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुख और दुःख को परिभषित कराती सुन्दर कविता|

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुःख संवेदनशीलता का परिचय है.. होना चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुख और दुख की अनुभूति कुछ इसी तरह की होती है सामान्य जन के जीवन में। बहुत सरल भाषा में यथार्थ को अभिव्यक्त किया है कवि ने।

    इस कविता के माध्यम से अनिल जी से परिचय प्रसन्नता हुई। आशा है उनकी रचनाएं आगे भी पढ़ने को मिलती रहेंगी।

    आभार,

    उत्तर देंहटाएं
  7. संशोधन -

    कृपया 'परिचय पाकर' पढ़ें।

    टंकण त्रुटि के लिए क्षमा करें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुख और दुख की परिभाषा यथार्थ के धरातल पर सही साबित होती है। साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिलकुल सही अभिव्यक्त किया है। ज्यादातर लोग अपने सुख को पहचान ही नहीं पाते है और दूसरों के सुख को देख कर दुख पाले रहते हैँ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. कविता बहुत अच्छी लगी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही खूबसूरत कविता है श्रीवास्तव जी की ... सुख और दुःख का बहुत बारीकी से विश्लेषण किया है उन्होंने ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. कविता मैं दुःख और सुख के दो किनारों के बीच बहती हुई जीवन के यथार्थ की नदी प्रवाहित हो रही है !
    अच्छी प्रस्तुति !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  13. Bahut hi behtarin kavita.sukh aur dukh ke baare me sach kaha hai anil ji ne . aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  14. आगे भी तो नया जीवन है ..............

    सबसे आत्महत्या कराएगा

    सुना है दिमाग जिन्दा रहता है

    मरने के आधे घंटे बाद तक

    उस दौरान हम क्या करेंगे

    मरने का शोक यानि

    और जीने की आस

    मगर क्यों?
    आगे भी तो नया जीवन है ..............

    गहन अभिव्यक्ति ......

    उत्तर देंहटाएं
  15. 5.5/10

    जीवन-सार समझाती सुन्दर प्रवचन-रुपी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  16. व्याख्यात्मक हो जाने के कारण इसमें काव्यगुण का ह्रास हो गया है. सांकेतिकता और संक्षिप्ति कविता के गुण में वृद्धि करेंगी .यह मेरा विचार है -किसी के लिए बाध्यता नहीं .

    उत्तर देंहटाएं
  17. अच्छी रचना. धन्यवाद. मैं अनिल जी का इस मंच पर हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. जीवन के यथार्थ को सुख दुख के माध्यम से लिख दिया है ... बहुत शशक्त रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. हीरा जनम अमोल था,कौड़ी बदले जाए.........

    उत्तर देंहटाएं
  20. जीवन के सत्य को सुख दुख के माध्यम से कितनी खूबसूरती से परिभाषित किया है और जीने का मर्म भी समझा दिया…………बेहद उम्दा और प्रशंसनीय रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  21. जिन्दगी के रंग पर आप सभी को आलेख सुखी कौन देखने के लिये भी मैं आमंत्रित करना चाह रहा हूँ.
    http://jindagikerang.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  22. पूरी जिंदगी समझा गई यह कविता

    उत्तर देंहटाएं
  23. आदमी का 75% दुःख दूसरों से ईर्ष्या के कारण होता है यानी दुखों से इन्सान 75% छुटकारा पा सकता है यदि वो इतनी छोटी सी बात समझ जाए तो. मेरी ग़ज़ल के कुछ शेर:-

    क्या बताएं दिख रहा क्यों आदमी हरदम दुखी,
    ग़ैर के सुख से दुखी है,अपने दुःख से कम दुखी.
    बाहलफ़ गीता पे रखकर हाथ कहता हूँ 'कुँवर'
    जब कभी आँखों ने देखा तुम दुखी तो हम दुखी.

    उत्तर देंहटाएं
  24. मनोज जी

    अनिल जी की इस कविता को प्रस्तुत करने के लिए आभार. बहुत सही विश्लेषण किया है उन्होंने सुख और दुःख का. काबिले तारीफ लेखन.....
    .
    मेरे ब्लॉग सृजन_ शिखर पर " हम सबके नाम एक शहीद की कविता "

    उत्तर देंहटाएं
  25. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 14 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुख और दुख का संबंध मन से है और मन भला कब पकड़ में आता है! ज्ञानी लोग इसीलिए स्थितप्रज्ञता की बात करते हैं जहां सुख और दुख की अनुभूति शून्य हो जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. सुख दुख का अहसास करवाती एक बहुत सुंदर रचना. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  28. गम्भीर दर्शन व्यक्त करती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  29. जिंदगी के कई शेड्स इस कविता में ऐसी काव्‍यभाषा में संभव हुए हैं, जो आज लगभग विरल हो चुकी है। विवाद से परे भी यह कहना उचित होगा कि आप आज के समय का समर्थ कवि हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. main shayad jitni tareef karungi is rachna ki kam hi hogi...pura sukh dukh ka vrataant sunate hue jivan darshan kara diye is rachna ne aur sab baaten ek dam sach...kuch aur likhne ko prerit karti hui prabhaavshali rachna.

    aabhar ise ham tak pahuchane ke liye.

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  32. सुख के सब साथी , दुःख का न कोय।
    अनिल जी से परिचय कराने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  33. दुख और सुख सर्वथा भिन्न नहीं हैं

    साम्य रखते हैं कई

    दुख में हमारे अपने दूर होते हैं

    सुख में हम अपनों से दूरी बनाते हैं

    दुःख और सुख का बहुत ही सार्थक विवेचन...बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  34. क्या बात कही है..ओह !!!

    अनुभव का निचोड़ रख दिया गया है रचना में..एकदम सत्य कहा है !!!

    बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  35. बिलकुल व्यवहारिक बातें बताती कविता -सत्य वर्णन कर रही है.सुख -दुःख तो कुँए के रहट की तरह हैं :-एक आता है ,दूसरा जाता है.मेजर जर्नल (रिटायर्ड ) पी .दत्ता सा :ने वृद्ध जन समारोह में आगरा में २००५ में यह शेर सुनाया था -
    सुख ने कहा दुःख से जाते -जाते
    जब मैं नहीं रहा ,तुम भी नहीं रहोगे.
    अतः दुःख से निराश नहीं होना चाहिए,दूसरों के दुःख अगर कम कर सकें तो करें वर्ना मजाक नहीं उड़ाना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  36. dukh me dukh badhne ka ,sukh me sukh ghatne ka -bhay.....shashvat satya ko abhivyakt karti kavita .avinash ji v aapko bahut -bahut shubhkamnaye .

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत ही खूबसूरत कविता है सुख और दुख की गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  38. मेरी इस साधारण सी रचना पर इतने सारे प्रबुद्ध लोगों की नज़र गई और अप्रत्याशित सराहना भी मिली. इसका सारा श्रेय मैं मनोज जी को देता हूँ.साथ ही तमाम पाठकों से मिले प्रोत्साहन के लिये मै उनका अत्यंत आभारी हूँ.मुझे सबसे ज्यादा खुशी इस बात की हुई कि हमारे मन मे सामाजिक मापदंडों के विपरीत जो भावनाएँ आती हैं उनके जिक्र पर किसी को ऐतराज़ नही हुआ . बल्कि समर्थन ही मिला. पाठकों की इस परिपक्वता और समायोजनशीलता के सम्मुख मै नतमस्तक हूँ.श्रीमती प्रतिभा सक्सेना की टिप्पणी से मुझे बड़ा मार्गदर्शन मिला है काव्यत्मकता मे कमी और सक्षिप्तता की आवश्यकता को मै स्वीकार करते हुए उसे आगामी रचनाओं मे पूरा करने का भरसक प्रयास करूंगा . मनोज जी के मंच से मुझे जोड़्ने हेतु मै श्री जितेन्द्र त्रिवेदी और श्री परशुराम राय जी का सदा ऋणी रहुंगा.

    उत्तर देंहटाएं
  39. दुख में हमारे अपने दूर होते हैं

    सुख में हम अपनों से दूरी बनाते हैं

    दुख में दुख के बढ़ने का

    सुख में सुख के घटने का

    डर हमेशा घेरे रहता है,

    कोई दुख से पागल होता है

    तो किसी का सुख से सिर फिर जाता है,

    Ekdam satya vachan.....sabhi liye prerak aur moolywaan ek shiksha milti hai jo sabhi ke liye saman roop se upyogi hai...

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।