सोमवार, 27 दिसंबर 2010

नवगीत :: कब बजे पायल

नवगीत

कब बजे पायल

हरीश प्रकाश गुप्त

मुट्ठी में दबकर

फूल

हो रहे घायल।

 

हर गली में

घिर गया

रात सा तम,

टूट करके

फिर उनींदी

सो गई सरगम,

 

 

रग-रगों की पीर से

बोझिल हुई अब

उर्म्मियाँ,

चल पड़ीं वापस

थकीं वे

सांध्य की सब

रश्मियाँ,

 

आँसुओँ के साथ

खुशबू

ले उड़े बादल,

लौटकर

संकुल गली में

कब बजे पायल।

****

28 टिप्‍पणियां:

  1. .

    आँसुओँ के साथ

    खुशबू

    ले उड़े बादल,....

    बेहतरीन अभिव्यक्ति हरीश जी।

    आभार।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  2. संकुल गली में कब बजे पायल ...
    शानदार तस्वीरें और गीत भी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर गली में घिर गया रात सा तम,
    टूट करके फिर उनींदी सो गयी सरगम--
    हृदय की फेनिल उच्छवासों के साथ भावनाऔं की काल्पनिक उड़ान की घनीभूत अभिव्यक्ति अच्छी लगी।
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. गीत बहुत भाव पूर्ण है ..तस्वीरों ने उसे रोचक और अर्थपूर्ण बना दिया है ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  5. टूट करके फिर उनींदी सो गई सरगम

    बहुत ही सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  6. लौटकर संकुल गली में
    कब बजे पायल। ***

    बहुत मनभावन नव गीत ...चित्र भी बहुत सुन्दर हैं ...लेकिन उनको और करीने से लगाया जाता तो अपना और प्रभाव छोडते ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हरीश जी,
    गीत की ये पंक्तियाँ अभिव्यक्ति की गहराई तक ले जाती हैं !
    आँसुओँ के साथ

    खुशबू

    ले उड़े बादल,

    लौटकर

    संकुल गली में
    कब बजे पायल।
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  8. सामान्य विम्बों के माध्यम से गहरी अभिव्यक्ति भरा गीत। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर नवगीत.....प्यारे से एहसास के साथ. चित्रों ने मन मोह लिया. सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही उन्नत शैली मे बेहद मनभावन रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  11. जितनी दर्दभरी कविता उतने ही खूबसूरत चित्र । बहुत सुंदर हरीश जी .

    उत्तर देंहटाएं
  12. हरीश प्रकाश गुप्त जी का नवगीत बहुत ही बढ़िया है!
    --
    मेरे जैसे तमाम पाठको को पढ़वाने के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  13. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 28 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद, लेकिन इन सुंदर पांवो मे पायल तो हे ही नही? बजे गी केसे?

    उत्तर देंहटाएं
  15. टूट करके फिर उनींदी सो गई सरगम
    वाह बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  16. हरीश जी!! मैं विवश हूँ आज अपनी आदत के विरुद्ध टिप्पणी करने पर... कहना ही होगा अद्भुत!

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर गली में

    घिर गया

    रात सा तम,

    टूट करके

    फिर उनींदी

    सो गई सरगम,
    गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. हरीश गुप्त जी को एक समीक्षक के तौर पर देखता था.. आज उनके गीत को पढ़कर उनके भीतर कोमल मन से परिचय हुआ... अन्यथा समीक्षक कठोर ही होते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  19. गीत और चित्र दोनों एक दुसरे को सार्थकता दे रहे हैं...

    सुन्दर रचना...वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. आँसुओँ के साथ

    खुशबू

    ले उड़े बादल,

    लौटकर

    संकुल गली में

    कब बजे पायल

    एक सर्वथा नवीन प्रयोग, हिंदी भाषा और साहित्य समृद्धिशाली बना रहा है. कुछ चित्रों का मर्म समझ में नहीं आया इसे अपनी अज्ञानता ही कहेंगे..कुल मिलकर सराहनीय और भाव प्रवण ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. अपने सभी पाठकों को नव वर्ष के अवसर पर सुख समृद्धि की हार्दिक शुभकामनाएं।

    लम्बे अन्तराल के बाद आप सब से जुड़ पाया हूँ। इस दौरान हालाकि परिवार के साथ देश दर्शन पर रहा लेकिन आप सबसे दूर रहने के कारण हृदय का एक कोना खालीपन महसूस करता रहा। आज आपसे जुड़कर तृप्ति सी हुई। उससे भी बढ़कर, मेरे नवगीत पर आपकी हृदयस्पर्शी प्रतिक्रियाओं ने मन मोह लिया।

    आप सभी को आभार,

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।