मंगलवार, 19 जनवरी 2010

फुरसतिया…… फुरसत में ….

-- मनोज कुमार


कानपुर के निर्माणी के हमारे एक सहकर्मी कुछ दिनों पूर्व कोलकाता पधारे। वे आए तो थे विभागीय प्रशिक्षण के सिलसिले में पर उन्होंने यहां आने की सूचना मेरे ब्लॉग पर एक टिप्पणी के माध्यम से की थी। उस आलेख में मैंने लिंक लगा पाने की अपनी अज्ञानता का जिक्र किया था। महोदय ने इतनी सहृदयता बरती की मुझे फोन से सूचना दी और कहा कि 16-01-2010 की शाम को उनके ठहरने की जगह काशीपुर के मयूर भवन अतिथिगृह में मिलूँ।

मैं जिक्र अनूप शुक्ल का कर रहा हूँ। हिंदी ब्लॉग की दुनिया के लोग उनसे बहुत अच्छी तरह से परिचित हैं ही। यह मेरा ही दुर्भाग्य था कि ही संगठन में पिछले 21 साल से काम करते हुए भी उनसे मिलने का संयो आज तक नहीं हो पाथा था। सिंतबर 2009 से मैं भी हिंदी ब्लॉगिंग से जुड़ा। कुछ अपनी संकोच और कुछ नए-नए होने के कारण मेरी तरफ से श्रेष्ठ ब्लॉगरों से संपर्क में देरी हुई। पर शुक्ल जी अपनी तरफ से यदा कदा फोन कर मेरा मार्गदर्शन और हौसला फ़ज़ा करते रहे।


मिलने के प्रथम संयोग का मैं भरपूर लाभ उठाने के अपने उद्देश्य से दफ्तर के कार्यकाल की समाप्ति के बाद काशीपु के लिए शाम 6.30 पर प्रस्थान किया। पहुंचते-पहुंचते 7.30 बज गए। अनूप जी को प्रतीक्षारत पाकर एक सुखद हर्ष हुआ। वे लपक कर गले मिले और इस माहौल में बातचीत शुरू की कि लगा मानो हम एक दूसरे को वर्षों से जानते हो। उनकी व्यग्रता देख मैं हतप्रभ हो गया। उन्होंने सबसे पहले मुझे लिंक लगाने के गुर सिखाये फिर तो हम खुलकर एक दूसरे को अपने-अपने-ब्लॉगिंग अनुभव बताते रहे। बातों बातों में कब डिनर का समय हो गया पता ही नहीं चला।


दूसरे दिन फिर मिलने का कार्यक्रम तय हुआ। और निर्धारित हुआ कि शिकुमार मिश्र के दफ्तर में शाम को हम स्थानीय ब्लॉगर मित्र प्रियंकर जी के साथ मिलेंगे। हम मिले। काफी खुल कर विभिन्न
विषयों पर चर्चा हुई। पर चर्चा का मुख्य केंद्र हिंदी ब्लॉगिंग और उसकी संभावनाओं पर ही रहा। अनूपजी की प्रमुख विशेषता यह थी कि वे हर किसी ब्लॉगर की खूबियां एवं उनके लेखन के विशेष अंदाज़ ही गिनाते रहे। इलाहाबाद सम्मेलन भी प्रमुखता से चर्चा का विषय बना और मच्छरों का दन्श हास्य की मिठास में दब गया सा प्रतीत हुआ। अफलातून एवं अरविंद मिश्र जी की विशेषताओं और उनके भाषण शैली की विशेषता बताई गई। कुशजी, शेफाली जी, रचना जी, सीजीवी जी, जीतेन्द्र, आलोक कुमार, और अन्य कई ब्लागरों की विशेषताओं की चर्चा से हम लाभान्वित हुए हीं समीर जी की बहुआयामी प्रतिभा का भी वर्णन हुआ और कई रोचक संस्मर जैसे उनका कोलकाता आगमन, पुस्तक विमोचन आदि पर भी गंभीर वार्ता हुई। हां इन चर्चाओं के बीच ज्ञान जी अपनी पूरी गंभीरता से उपस्थिति दर्ज कराते रहे। और हाल के ब्लॉग जगत की उठा-पटक पर भी चर्चा हुई।


इन बातों के बीच मैंने नोट किया कि अनूप शुक्ल इसे बस कुछ समय की बात मानते हैं और हिंदी ब्लॉग जगत के सुनहरे भविष्य के प्रति काफी आशान्वित नजर आते हैं।

प्रियंकर जी और शिव कुमार मिश्र जी से यह मेरी पहली मुलाकात थी और श्री मृणाल त्रिपाठी तो हमारे सहकर्मी ही हैं पर उनके हिंदी ब्लॉग लेखन के बारे में मुझे जानकारी नहीं थी , मालूम हुअ कि वो भी कभी काफी सक्रिय थे। पर आजकल लेखन कम पठन में ज्यादा उनकी रूचि है


प्रियंकर जी से परिचय थोड़ा पुराना था। सलिल दवे हमारे फाण्डेशन कोर्स के दिनों के मित्र हैं। वो सरकारी नौकरी छोड़ कर आजकल अमेरिका में Microsoft को अपनी सेवाएं दे रहें हैं। Facebook पर यदा-कदा उनसे आलाप हो जाता है। वहीं उन्होंने मेरी एक कविता से प्रभावित हो श्री प्रियंकर जी का लिंक दे दिया दिया था। हम Facebook पर एक-दूसरे से मिले और टेलीफोन नम्बर का आदान-प्रदान भी किया, पर प्रत्यक्ष मिलना तो नहीं ही हुआ टेलीफोन पर भी बातचीत हो सकी। शायद हम हिंदी साहित्य में रुचि रखनेवाले एक दूसरे को परखने में ही मित्रता आगे बढ़ाने का अवसर खोते रहते हैं चाहे वह एक कवि का दूसरे कवि से हो। एक साहित्यकार का दूसरे साहित्यकार से। एक संपादक का रचनाकार से। और यह परखने का सिलसिला इतना लंबा होता है कि नए रचनाकार का तो मनोबल ही टूट जाता है। आखिर वही नया तो एक दिन पुराना होगा। और यह बात ब्लॉगिंग के क्षेत्र में भी है। पुराने ब्लॉगर नए ब्लॉगर को परखते-परखते ही उसका हौसला ध्वस्त कर देते हैं। इसी सब से चिंतित हो मैंने जरा इन नए ब्लागर्स की सोचें पोस्ट प्रस्तुत की थी। इस विषय पर भी चर्चा हुई और कुछ संकल्प लिए गए। शायद उसका अनुपालन भी हो। पर मैं बात प्रियंकर जी की कर रहा था …. उनकी साहित्यक समझ और रिपक्वता ने सिर्फ मुझे प्रभावित किया बल्कि उनके कई वाक्य जो बड़े ही सहज और अनायास कहे गए थे, उन्हें किसी भी साहित्यिक कृति की कोटेबल सेन्टेंस की श्रेणी में रखा जा सकता है। यह मेर मनना है। आप नहीं मनने के लिये स्वतंत्र हैं।


शिवकुमार जी जितने हास्य-व्यंगय की रचनाएं देते हैं उसके विपरीत काफी धीर-गंभीर व्यक्तित्व के स्वामी लगे। पर बीचबीच में चुटकियां लेना उनके व्यक्तित्व की विशेषता लगी। उनकी सिद्धूवादी बातों का तो फैन हूँ ही पर मुझे दुर्योधन की डायरी का पाठन करना है जिसकी उस दिन विशेष चर्चा हुई। हां तिथ्य सत्कार करने का उनका विशेष अंदाज हमें चलते वक्त यह कहने से नहीं रोक पाया कि वे अगली बैठक का शीघ्र आयोजन करें ताकि ऐसी स्वस्थ चर्चा हम फिर कर सकें।


स्वस्थ मतलब स्वस्थ ! हमने किसी की आलोचना की, किसी विवाद का सृजन किया। साहित्य, संस्कृति, समाज, ब्लॉगजगत आदि के विभिन्न पक्षों पर एक गंभीर बहस हल्के-फुल्के माहौल में मिश्र जी द्वारा पेश किए गए ढोकले एवं पकौड़ों के बीच बिना दूध की स्पेशल चाय (जो शायद अनूप जी को रूचिकर नहीं लगी) के साथ किया गया।


इस अविस्मरणीय शाम के लिए मैं श्री अनूप शुक्ल जी का हृदय से आभारी हूँ उस दिन फुरसतिया मुझे फुरसत में ही दिखे, जो आराम से हमें ब्लागिंग एवं ब्लाग जगत के गूढ रहस्य बताते रहे।

28 टिप्‍पणियां:

  1. यह मुलाक़ात बहुत अच्छी लगी..... अनूप जी से मेरा नमस्कार कहियेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह! सुकुल जी से हमारा भी गोड़ लागी कहिए गा।
    बहुत सुंदर मुलाकात। कहिएगा कि हमे भी दर्शन देकर कृतार्थ करें।

    जानकारी के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. साहित्य, संस्कृति, समाज, ब्लॉगजगत आदि के विभिन्न पक्षों पर एक गंभीर बहस हल्के-फुल्के माहौल में मिश्र जी द्वारा पेश किए गए ढोकले एवं पकौड़ों के बीच बिना दूध की स्पेशल चाय (जो शायद अनूप जी को रूचिकर नहीं लगी) के साथ किया गया।

    बधाई इस ब्लोगर मीट की .....चाय की बात पे स्मरण हो आया .....आज मैं भी एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में बिना धुध की चाय भी के आ रही हूँ ....खास बात ये थी कि इस कार्यक्रम में मेरे लिखे गीत को बच्चों से गवाया गया था .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस रिश्ते का भी अब कोई नाम रखना होगा।

    'बीसाथी'

    उत्तर देंहटाएं
  5. चलिए अनूप जी से मुलाकात हो गई। शिवकुमार व्यंग्य में भी गंभीर रहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको फ़ुर्सतिया जी से मिलने का अवसर प्राप्त हुआ इसके लिये आपको बधाइ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बड़ा मजेदार रहा कोलकता में मिलना सब लोगों से। बहुत दिन बाद आमने-सामने इत्ती खिंचाई हुई/करी/ कराई गयी।

    महफ़ूज को हम भी नमस्कार कर रहे हैं। ललित शर्माजी के अनिल भैया से आजै बतियाये हैं। वे जल्द ही रायपुर में जमावड़ा करने वाले हैं तब आपके दर्शन करने आयेंगे।

    बिना चीनी की चाय का लफ़ड़ा ई है कि हमे लगता है कि वो चाय बीमारू होती या वीआईपी वाली। अपने दोस्तों के बीच हम इसे एस.ए.जी. चाय कहते हैं जो हमारे वरिष्ठ अधिकारी ग्रहण करते हैं। हम तो दूध वाली जनता चाय के ही मुरीद हैं।

    आनन्दित हुये थे कोलकता में मिलकर। प्रमुदित हुये मुलाकात के बारे में पढ़कर।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनूप जी आपका आभार। आपकी उस दिन की प्रेरणा से कल से राजभाषा हिन्दी का शुभारंभ हो रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आत्मीय माहौल में मुलाकात आनंदित करने वाली है...ब्लॉगिंग का भविष्य निश्चित रूप से उज्जवल है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बढ़िया मेला मेली हुई। बधाई।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस तस्वीर के १/२ से तो मैं मिल चूका हूँ. बस एक बार शिव भैया के आतिथ्य सत्कार का आनंद लेना बाकी है :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छी वृत्तांत -संस्मरण चर्चा ...लगता है हमहूँ के कोलकाता आना पड़ेगा -लगता है जजमानी अच्छी है वहां
    यी चाय वाय तो केवल बहाना रहा भाई दरअसल असली बतिया कुछ औरो रही ...
    बाकी माछ भात और सोमरस के बराबरी कौनो व्यंजन का होई -
    ई त उन्हां इफरात में होइबे करी .....तब हम जरूर अईबे करी ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. स्मरणीय मुलाकात का सजीव विवरण दिया आपने ! आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह! एक अच्‍छी मुलाकात का विवरण दिया है आपने । बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आप सबसे मिलना एक सुखद अनुभव रहा. प्रियंकर जी, अनूप जी के फैन तो हम बहुत दिनों से हैं. अब आपके भी हो लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छा संस्मरणात्मक विवरण।

    उत्तर देंहटाएं
  17. फुरसतिया कबहुँ फेरो फुरसत में मिले तो हमहुंका बताइयेगा..... मिसिरजी का चाह तो ई बार मिस कर गए, मौका मिला तो दोबर सधा लेंगे !! सहज, सरस और नैसर्गिक लेखन !!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. तस्वीर में मिश्रजी व शुक्लजी कुछ कमजोर लग रहे हैं. आशा है दोनो का स्वास्थय स्वस्थ है.

    रपट सही रही. कोलकाता ब्लॉग-मिलन की सुचना था, रपट अब आई है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. @ Arvind Mishra आप अवश्य आयें। मांछ ... इलिश माछ तो यहां का प्रसिद्ध है ही ... साथ ही सोमरस नहीं मिष्टी दोई .. का कंबीनेशन सही रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  20. @ संजय बेंगाणी आपने बहुत सही गौर फ़रमाया है। शिव जी थोड़े शारीरिक कष्ट में हैं। हां चिकित्सक की सलाह पर फीजियोथेरापी करवा रहें हैं। हम उनके शीघ्र स्वास्थ लाभ की कामना करते हैं।
    अनूप जी बिलकुल तंदुरुस्त हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  21. ye badhiya hua ki aap log mil baithe.

    sukul ji k pankhe to apan bhi hai.
    shiv bhaiya k vyang lekhan ki to bat hi kya.

    kabhi chhattisgarh bhi aayein aap sab

    उत्तर देंहटाएं
  22. फ़ुरसतिया जी की फ़ुरसत से हम सब तो भली भांति परिचित हैं ही चलिए आप की भी मुलाकात हो गई। उन्होंने कलकत्ते से फ़ोन पर हमें आप सबकी इस मुलाक़ात का उल्लेख किया था और आप सबसे मिलने की खुशी ज़ाहिर की थी। आप सबके साथ उनको भी हमारा सलाम।

    उत्तर देंहटाएं
  23. Bade aaraam se yah andaja lagaya jaa sakta hai ki aaplogon ka yah milan sammelan kitna aanand dayak raha hoga....

    Aage bhi aise madhur milan hote rahen aur sablog swayan aanandit hote hue aanand ras ka prasaar karte rahen,yahi shubhkaamna hai...

    उत्तर देंहटाएं
  24. ache log kaise bhee mil le; kisi bhee bhane se mil le; fal hamesha achha hee ayega...

    उत्तर देंहटाएं
  25. ब्लॉगिंग ने सृजनशील लोगों को नई उर्जा दी है और लोगों का ऐसा नेटवर्क बनाया है जहां संभावनाएं अनंत हैं। व्यक्तिगत मुलाकात की प्रस्तुति इतनी सरस थी कि मैने खुद को भी आप लोगों के बीच ही बैठा पाया।

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही बढ़िया संस्मरण ..
    कलकत्ता तो हमारे पास है...चलिए आपस में मिलने पर ही एक-दुसरे के बारे में लोग जान पाते हैं...जब तक न मिलो कैसे कोई किसी को सही मायने में पहचान सकता है...??
    ऐसी ही मुलाकातें आप सबके जीवन में आती रहे यही कामना है...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।