गुरुवार, 14 जनवरी 2010

चौपाल में नयी अतिथि रचना

नमस्कार मित्रों !

मकर-संक्रांति की शुभ कामनाएं ! दही-चूरा के नशे में चौपाल आने में थोड़ा विलम्ब हो गया लेकिन इस चौपाल में आपके लिए ले कर आया हूँ, इस ब्लॉग पर नए और एक प्रसिद्द कवि की एक विशिष्ट अनुभूति !!

महानगर की उस बस में,

इतनी भीड़ हो जायेगी,

अगले स्टॉप पर !

मालुम नहीं था उसे !!

दूर तक जाना था !

बसें सभी लदी आ रही थी !

नाजुक सुन्दर चेहरे में,

सम्मोहन उसका कसूर नहीं था,

सजा उसे मिल रही थी !!

उसके इर्द-गिर्द अनावश्यक सी,

बेहद भीड़ हो गयी थी !

उसकी मुद्राएँ बताती,

बीड़ी-सिगरेट की गंध,

उसे तकलीफ दे रही थी !!

कुछ भी नहीं किया था मैं ने,

बस अपनी जगह दे दी थी !

जगह,

जो किसी की नहीं होती !!

अहसान की तरह उसने जगह ले ली !!

शालीन चेहरे पर,

झेंप सा कुछ था !

क्योंकि, मैं खड़ा था,

उमरा में बड़ा था !

वह मुझसे पहले बस से उतरी !

मैं ने महसूस किया था,

उतरने के बाद,

उसकी नज़रों ने,

मुझे देखना नहीं भूला था !

और वह देखना,

सिर्फ देखना नहीं था !!

-- ईश्वरचंद्र मिश्र

बिहार के शिबहर जिलान्तर्गत राम-परसौनी 'बैज' गाँव में आबिर्भूत श्री ईश्वरचंद्र मिश्र बेंगलूर के साहित्यिक क्षितिज पर दैदीप्यमान हैं ! बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर के हिंदी में परास्नातक श्री मिश्र जी सम्प्रति भारत सरकार के राजभाषा विभाग में अनुवाद एवं प्रशिक्षण पदाधिकारी के पद पर कार्यरत एवं बेंगलूर में पदस्थापित हैं! ईश्वरचंद्र जी की रचनाओं पर जीवन के इनके व्यापक अनुभव और भौगोलिक यात्राओं का यायावरी प्रभाव सद्यः परिलक्षित होता है ! आप चाहें तो मिश्र जी से +91 9341850355 पर दिवारात्रि कभी भी संपर्क कर सकते हैं !!

9 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय मिश्र जी को बधाई। कविता अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. jo aadar samman aankhe detee hai vo shayad shavd bhee nahee de pate kabhee kabhee .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया रचना लगी मिश्र जी की. आपका आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Mr. Mishra Ji take warm Welcome in this site. your written "Chhand Rahit" poem is very touching.

    उत्तर देंहटाएं
  5. यही है हमारी सभ्यता का विकास..... सरल शब्द में मारक व्यंग्य !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. Har roz inhi muskilo se gujarna padta hai hume...bahot he sachi vyangyatamak rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचना. मिश्रा जी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।