सोमवार, 8 अगस्त 2011

कंठ चढ़ी कजरी

नवगीत

कंठ चढ़ी कजरी

श्यामनारायण मिश्र

झूम - झूम

मधु बरसे सावन

      मन - कदंब फूले।

बादल की

बाहों में बिजली

        हंस - हंस कर झूले।

 

पर्वत पर

चोली- से बादल

        दूध - सरीखे झरने।

पीकर पूत - पठार

         हिरन से

        लगे चौकड़ी भरने।

नदी

कगारों के ओठों को,

        अब छू ले तब छू ले।

 

खेत हुए तालाब

लहंगिया नाव

        चुनरिया पाल,

पुरइन जैसी देह

कमल – मुख

        भौरों जैसे बाल।

निरा-निरा कर

धान कामिनी

        विरह व्यथा भूले।

बादल की

बाहों में बिजुरी

        हंस - हंस कर झूले।

22 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ी सुन्दर रचना, सावन के मौसम सी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सावन की छटा बिखेरता बहुत सुन्दर नवगीत.
    ज़बरदस्त लयात्मकता और शब्द सौन्दर्य इसमें देखने को मिला.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह-वाह!
    अद्भुत!!
    नदी कगारों के ओठों को, अब छू ले तब छू ले।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह वाह क्या कहें प्रकृती का इतना सुंदर मानवी करण वह भी साज श्रृंगार सहित । गीत बहुत सुंदर होने के सात गेय भी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिजली बादल के लिए सुन्दर बिम्ब ...खूबसूरत रचना पढवाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. बड़ी सुन्दर रचना, सावन के मौसम सी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सावन की प्रकृति को रूपायित करता नवगीत अत्यन्त मोहक और भाषा ताजगी से भरी है। साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बादल की

    बाहों में बिजली

    हंस - हंस कर झूले।

    वाह वाह …………सुन्दर बिम्ब से सजी मनमोहक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर नवगीत.
    श्यामनारायण मिश्र जी को नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  10. माटी की सौंधी सुगंध का आभास करा दिया आपने|

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. लाजवाब...शब्दों का क्या खूबसूरत प्रयोग किया है आप ने अपनी इस रचना में...कमाल किया है...बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  13. झूम - झूम
    मधु बरसे सावन
    मन - कदंब फूले।


    सुन्दर नवगीत ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. अजी कहां की बदली और कौन सी वर्षा। यहां तो मारे चिपचिपाहट के कामिनी भी बिजली हुई जा रही है!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बढ़िया लगा...
    फालो भी कर लिया है...

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।