सोमवार, 22 अगस्त 2011

आग छूटी जा रही


आग छूटी जा रही

श्याम नारायण मिश्र

अंगुलियां सम्हालूं
    या दिया बालूं,
        आग छूटी जा रही है
            मुट्ठियों से।

आग का आकार
हाथों में अधूरा है,
इसे भीतर तक उतरने दो।
दे रहा हूं
एक आकृति आग को
रोशनी में धार धरने दो।
आप भी अवसर मिले तो,
    खोजना भीतर
    आग जो मां ने भरी
        है घुट्टियों से।

17 टिप्‍पणियां:

  1. आप फिर एक लाजवाब प्रस्तुति ले कर आये हैं
    सच माँ ने तो आग भरी है घुट्टीयों से पर शायद हम ने ही इस भाग दौड में खो दी है वो आग या भूल गए हैं स्वार्थी हो गए है याद दिलाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिश्र जी की रचनाएं अचंभित करती हैं.. अपने समय से कहीं आगे हैं मिश्र जी और उनके बिम्ब... आपको धन्यवाद इनसे हमारा परिचय कराने के लिए और इस श्रृंखला को जीवंत बनाने के लिए!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुख तो इसी बात का है कि आजकल की माँ घुट्टी में आग ही नहीं भरती।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वह आग सदा जलती रहे अनाचारों को जलाती रहे बस यही कामना है । इस ओजस्वी कविता की प्रस्तुति के लिये आपका आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ग़ज़ब के बिम्ब श्याम मिश्र जी की कविता में हमेशा दिखते हैं.आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह्………निशब्द हूँ इस लाजवाब रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस ओजस्वी कविता की प्रस्तुति के लिये आपका आभार ।.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपको एवं आपके परिवार को जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  9. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  10. आग का आकार
    हाथों में अधूरा है,
    इसे भीतर तक उतरने दो।
    दे रहा हूं
    एक आकृति आग को
    रोशनी में धार धरने दो।
    -' माँ ने आग भरी है घुट्टियों से..'पर इसे आकृति देने में कौन समर्थ हो पाता है और कौन राख में दबी रह जाने देता है यह व्यक्ति पर निर्भर है .
    श्रीकृष्ण ने आजीवन इस आँच को जिलाये रखा - आज उन्हीं का जन्मदिन है .
    सबको मंगलमय हो ! !

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप भी अवसर मिले तो,
    खोजना भीतर
    आग जो मां ने भरी
    है घुट्टियों से।

    शिल्प, भाव, शब्द चित्रण और उत्कृष्ट साहित्यिक रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आदरणीय मनोज जी ..बहुत सुन्दर आवाहन ...काश ये आग और प्रज्वलित हो कुछ कर जाए ....कान्हा के आगमन का स्वागत ..रचना अच्छी लगी..
    कान्हा किसी भी रूप में आयें दुष्टों का संहार करें अच्छाइयों को विजय श्री दिलाएं ..आन्दोलन सफल हो
    ...जन्माष्टमी की हार्दिक शुभ कामनाएं आप सपरिवार और सब मित्रों को भी
    भ्रमर ५

    दे रहा हूं
    एक आकृति आग को
    रोशनी में धार धरने दो।
    आप भी अवसर मिले तो,
    खोजना भीतर
    आग जो मां ने भरी
    है घुट्टियों से

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक आग हम सबके सीने में , कोई मुट्ठी बंद कर संतुलित कर लेता है , कोई व्यर्थ ही उड़ा देता है ...
    लाजवाब रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  15. निश्चय ही ऊर्जा को दिशा मिलेगी।

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।