सोमवार, 15 अगस्त 2011

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!

करण समस्ती पुरी

 

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!

 

करते हैं रवि-शशि-तारक गण,

निशि-दिन तेरा पूजन-वंदन।

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

 

गिरिवर मुकुट, सुवन मेखला, सागर पाँव पखारे।

संतति को पयपान कराते गंग-यमुन युग धारे ॥

शस्य श्यामला आँचल तेरा, तू बसुधा का दर्पण।

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

 

कोमल-कठिन सहज सूरत पर षडऋतु का शृंगार ।

साँस तुम्हारे सुरभित करते, शीतल मलय बयार ।

हरित वसन में परम सुसज्जित, निर्मल-सुंदर कमल वदन।

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

 

अल्लाह-अलख कण-कण में तेरे, मधुर समन्वित ईश-इसा।

बाइबिल-गुरुग्रंथ कुराण-पुराण से गुँज रही हैं दसों दिशा ॥

सर्वधर्म समभाव समेटे, सहज सुखद तेरा सुमिरण ।

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

 

सत्य-अहिंसा सस्त्र तुम्हारे, विश्व-शांति है मंत्र तुम्हारा ।

तू युग-सर्जक, तू पथ-दर्शक, अखिल जगत है शिष्य तुम्हारा ।

स्वर्ण-विहग के कल-कल रव से, गुंजित तेरा उपवन ।

हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

32 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर .....हे मातृभूमि शत कोटि नमन!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मातृभूमि है तो हम है, यह हमसे छिन जाएगी तो हमारा वजूद भी नहीं रहेगा। बहुत अच्‍छी कविता है, मातृभूमि को नमन।

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'स्वतत्रता दिवस ' के पुनीत अवसर पर भारत की गंगा-जमुनी संस्कृति को अपने में पूर्ण रूप से आत्मसात करती हुई आपकी कविता " हे मातृभूमि शत कोटि नमन " की प्रस्तुति अच्छी लगी ।
    धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्य-अहिंसा सस्त्र तुम्हारे, विश्व-शांति है मंत्र तुम्हारा ।

    तू युग-सर्जक, तू पथ-दर्शक, अखिल जगत है शिष्य तुम्हारा ।

    स्वर्ण-विहग के कल-कल रव से, गुंजित तेरा उपवन ।

    हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

    शत कोटि नमन!!शत कोटि नमन!!शत कोटि नमन!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर .
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..

    मात्र भूमि को शत शत नमन .

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाईयां

    उत्तर देंहटाएं
  9. अति सुंदर.

    स्वतंत्रता दिवस की घणी शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    65वें स्वतन्त्रतादिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सार्थक प्रस्तुति
    , स्वाधीनता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

    आहा हा...अप्रतिम रचना...बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर भावनाप्रधान रचना.....!!
    मातृभूमि को शत-शत नमन......!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी पोस्ट "ब्लोगर्स मीट वीकली "{४) के मंच पर शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना है /सोमवार १५/०८/११ को आपब्लोगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं /

    उत्तर देंहटाएं
  18. मातृभूमि को शत कोटि नमन ...
    सुन्दर गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  19. खूबसूरत और भाव प्रवण रचना... हे मातृभूमि शत कोटि नमन!! स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  21. आदरणीय मनोज जी प्यारा वर्णन सुन्दर दृश्य दिखाती लाजबाब रचना -निम्न में गजब का बंध ....
    स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५
    भ्रमर की माधुरी
    रस-रंग भ्रमर का
    अल्लाह-अलख कण-कण में तेरे, मधुर समन्वित ईश-इसा।

    बाइबिल-गुरुग्रंथ कुराण-पुराण से गुँज रही हैं दसों दिशा ॥

    सर्वधर्म समभाव समेटे, सहज सुखद तेरा सुमिरण ।

    हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  23. मनोज जी स्वतंत्रता दिवस पर देश प्रेम से ओत-प्रोत कविता पढवाने के लिए शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर... स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  25. vande matram ,ati uttam
    सत्य-अहिंसा सस्त्र तुम्हारे, विश्व-शांति है मंत्र तुम्हारा ।

    तू युग-सर्जक, तू पथ-दर्शक, अखिल जगत है शिष्य तुम्हारा ।

    स्वर्ण-विहग के कल-कल रव से, गुंजित तेरा उपवन ।

    हे मातृभूमि शत कोटि नमन!!

    jai hind ,aapko bhi badhai is pavan parv par

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुंदर रचना के लिए आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  27. स्वतंत्रता दिवस के पावन अवसर पर मातृभूमि को शत - शत नमन।

    आभार,

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत ही सुन्दर .. अनुपम ... मात्री भूमि को सजीव कल्पना में उतारती रचना ...

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।