सोमवार, 7 नवंबर 2011

रेशमी सपने सुवासित, धवल तन मन बस गए

नवगीत

रेशमी सपने सुवासित, धवल तन मन बस गए

clip_image002हरीश प्रकाश गुप्त

 

रेशमी सपने

सुवासित

दूध धुलकर

धवल,

तन मन बस गए।

 

नेह लिख

आवेग पाती

प्रीत मंत्रों से,

शब्द स्वर भींगे

सलिल मन

गीत अंतरों से,

संगीत बन

हिय में लगे बजने

प्रेयसी के छन्द

ढूँढकर मनमीत देने

खत पँडूके ले गए।

 

कुमुद रंगत सी चढ़ी

कोमल

कपोलों पर,

शुभ्र स्मित झर पड़ी

मधुसिक्त

किसलय पर,

सारंग-तृष

उपशमन करने

सप्तलहरी तान में

मद कुरंगम

उर कुलांचे भर गए।

30 टिप्‍पणियां:

  1. सब कुछ धुल गया,जब कोई अपना मिल गया !

    उत्तर देंहटाएं
  2. "रेशमी सपने सुवासित, धवल तन मन बस गए" पढा, अच्छा लगा । कभी -कभी हमको भी इसी बहाने याद कर लिय़ा कीजिए । मैं आपकी भावनाओं को समझता हूँ ।
    धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर भाव भरे है रचना में,
    बहुत बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन शब्द सामर्थ्य युक्त अनूठी रचना ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेम-पत्राचार की पुरानी रीति आज भी इस नवगीत में नयी सी लग रही है। हृदय को स्पर्श करता अच्छा नवगीत।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर भावों का सम्प्रेषण सुन्दर शब्द संयोजन .. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर भावपूर्ण भावाभिव्यक्ति !

    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है,कृपया अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।
    http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर भावमयी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर भाव ...कुछ शब्द भी नए थे मेरे लिए । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत उम्दा!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर गीत... गुप्त जी को एक आलोचक के रूप में देखा था... किन्तु उनकी कवितायेँ भी ह्रदय को छू रही हैं... बहुत बढ़िया....

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुमुद रंगत सी चढ़ी

    कोमल

    कपोलों पर,

    शुभ्र स्मित झर पड़ी

    मधुसिक्त

    किसलय पर,

    ....बहुत सुंदर...भावों और शब्दों का उत्कृष्ट संगम..

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद सुन्दर शब्द रचना ..
    आप मेरे ब्लॉग पर आये एवं टिप्पणी रुपी पुरस्कार प्रदान किया आपका आभार .......

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छा नवगीत है। शब्द तो जैसे मन में उतर गए। आभार,

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर शब्द्संयोजन ... भाव मय रचना ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. रेशमी शब्द-शृंखला और मखमली भाव-योजना....! अल्लाह करे जोर-ए-कलम और ज्यादा.......!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. रेशमी सपने सुवासित,
    धवल तन मन बस गए....
    सुन्दर गीत...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  20. तन मन प्रसन्न हो गया यह गीत पढ़ कर।

    उत्तर देंहटाएं
  21. शब्द योजना और प्रवाह का आकर्षण बरबस मन मोहता है। सुन्दर भाव से सम्पन्न नवगीत।

    शुभकामनाएँ,

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।