शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2010

अंक-13 :: स्वरोदय महिमा

अंक-13

स्वरोदय महिमा

आचार्य परशुराम राय

इस अंक में भगवान शिव ने माँ पार्वती को विभिन्न प्रकार से स्वर की महिमा समझाई है।

ब्रह्माण्ड-खण्ड-पिण्डाद्याः स्वरेणैव हि निर्मिताः।

सृष्टि संहारकर्त्ता च स्वर‑ साक्षान्महेश्वरः।।20।।

अन्वय -- स्वरेण एव हि ब्रह्माण्ड-खण्ड-पिण्डाद्या:

निर्मिता: स्वर: च सृष्टिसंहारकर्ता साक्षात् महेश्वर:।

भावार्थ -- ये विराट और लघु ब्रह्माण्ड और इनमें स्थित सभी वस्तुएं स्वर से निर्मित हैं और स्वर ही सृष्टि के संहारक साक्षात् महेश्वर (शिव) हैं।

English Translation:- These endless and small universes and each and every thing thereon are created by the Swara. And this very Swara itself is Lord Maheshwar, the destroyer of the creation.

स्वरज्ञानात्परं    गुह्मम्    स्वरज्ञनात्परं     धनम्।

स्वरज्ञानत्परं ज्ञानं नवा दृष्टं नवा श्रुतम्।।21।।

अन्वय -- स्वरज्ञानात् परं गुह्यं (ज्ञानं), स्वरज्ञानात् परं धन,

स्वरज्ञानात् परं ज्ञानं नवा दृष्टं नवा श्रुतम्।

भावार्थ& स्वर के ज्ञान से बढ़कर कोई गोपनीय ज्ञान, स्वर-ज्ञान से बढ़कर कोई धन और स्वर ज्ञान से बड़ा कोई दूसरा ज्ञान न देखा गया और न ही सुना गया है।

English Translation:- Knowledge of Swara is the most secret knowledge, the most precious wealth and the most advanced knowledge in the world. Such a knowledge and wealth other than the knowledge of Swara have been neither seen nor heard so far.

शत्रून्हन्यात्       स्वबले     तथा     मित्र     समागमः।

लक्ष्मीप्राप्तिः स्वरबले कीर्तिः स्वरबले सुखम्।।22।।

अन्वय -- स्वरबले शत्रून् हन्यात् तथा मित्रसमागम

स्वरबले लक्ष्मी-कीर्ति-सुखप्राप्ति:।

भावार्थ& -- स्वर की शक्ति से शत्रु पराजित हो जाता है, बिछुड़ा मित्र मिल जाता है। यहाँ तक कि माता लक्ष्मी की कृपा, यश और सुख, सब कुछ मिल जाता है।

English Translation:- An enemy is killed, a lost friend is reunited, wealth, fame, pleasure, every thing is obtained by the power acquired by practice of Swara Sadhana.

कन्याप्राप्ति      स्वरबले      स्वरतो      राजदर्शनम्।

स्वरेण देवतासिद्धिः स्वरेण क्षितिपो वशः।।23।।

अन्वय -- स्वरबले कन्याप्राप्ति:, स्वरतो राजदर्शनम् स्वरेण देवतासिद्धि: स्वरेण क्षितिपो वश:।

भावार्थ& -- स्वर ज्ञान द्वारा पत्नी की प्राप्ति, शासक से मिलन, देवताओं की सिद्धि मिल जाती है और राजा भी वश में हो जाता है।

English Translation:- By applying knowledge of Swara one can get married with a beautiful and well cultured bride, can see a highest administrator or King and can make gods and kings in favour.

स्वरेण गम्यते  देशो  भोज्यं स्वरबले    तथा।

लघुदीर्घं स्वरबले मलं चैव निवारयेत्।।24।।

अन्वय -- स्वरेण देश: गम्यते स्वरले भोज्यं तथा स्वरबले लघुदीर्घं

मलं च एव निवारयेत्।

भावार्थ& -- अनुकूल स्वर के समय यात्रा करनी चाहिए, स्वादिष्ट भोजन करना चाहिए तथा मल-मूत्र विसर्जन भी अनुकूल स्वर के काल में ही करना चाहिए।

English Translation:- Our all actions like traveling, taking food, passing stool and urine etc. should be done while suitable Swara is running i.e. Ida (left nostril breath) or Pingala (the right nostril breath).

सर्वशास्त्रपुराणादि                स्मृतिवेदांगपूर्वकम्।

स्वरज्ञानात्परं तत्त्वं नास्ति किंचिद्वरानने।।25।।

अन्वय -- हे वरानने, स्वर ज्ञानात्परं सर्वशास्त्रपुराणादिस्मृतिवेदांगपूर्वकं

तत्वं किंचिद् न अस्ति।

भावार्थ& -- हे वरानने, सभी शास्त्रों, वेदों, वेदान्तों, पुराणों और स्मृतियों द्वारा बताया गया कोई ज्ञान या तत्व स्वर ज्ञान से बढ़कर नहीं है।

English Translation:- O Beautiful Goddess all kinds of knowledge acquired by the study of different Shastras, Vedas. Vedantas, Puranas and Smritis cannot equate with the knowledge of Swara.

नामरूपादिकाः   सर्वे   मिथ्या   सर्वेषु     विभ्रमः।

अज्ञान मोहिता मूढ़ा यावत्तत्त्वे न विद्यते।।26।।

अन्वय -- यावत् तत्वे (पूर्णतया ज्ञानं) न विद्यते, (तावत्) अज्ञानमोहिता: मूढ़ा: सर्वेषु सर्वे नामादिका: मिथ्या विभ्रम: (जायते)।

भावार्थ& -- जब तक तत्वों का पूर्ण ज्ञान नहीं हो जाता, तब तक हम अज्ञान के वशीभूत होकर नाम आदि के मिथ्या भवजाल में फंसे रहते हैं।

English Translation:- Unless a man gets perfect knowledge of tattvas, he is hypnotized by name, fame etc. due to ignorance.

इदं    स्वरोदयं    शास्त्रं      सर्वशास्त्रोत्तमोत्तमम्।

आत्मघट प्रकाशार्थं प्रदीपकलिकोपमम्।।27।।

अन्वय -- सर्वशास्त्रोत्तमोत्तमम् इदं स्वरोदयं शास्त्रम् (यत्) आत्मघटं

प्रकाशार्थं प्रदीपकलिकोपमम्

भावार्थ& -- स्वरोदय शास्त्र सभी उत्तम शास्त्रों में श्रेष्ठ है जो हमारे आत्मारूपी घट (घर) को दीपक की ज्योति के रूप में आलोकित करता है।

English Translation:- Swarodaya Science is the most advanced science of all that are placed at the highest. It enlightens all dimensions of our being.

यस्मै    कस्मै    परस्मै    वा    न   प्रोक्तं    प्रश्नहेतवे।

तस्मादेतत्स्वयं ज्ञेयमात्मनोवाऽत्मनात्मनि।।28।।

अन्वय -- यस्मै, कस्मै, परस्मै वा प्रश्नहेतवे (मात्रमेव) न प्रोक्तं,

तस्माद् एतद् स्वयं आत्मना आत्मानि आत्मन: ज्ञेयम्।

भावार्थ& -- इस परम विद्या का उद्देश्य मात्र भौतिक जगत सम्बन्धी अथवा अन्य उपलब्धियों से जुड़े प्रश्नों के उत्तर पाना नहीं है। बल्कि आत्म-साक्षात्कार हेतु इस विद्या को स्वयं सीखना चाहिए और निष्ठापूर्वक इसका अभ्यास करना चाहिए।

English Translation:- This most secret knowledge is not meant for getting solutions of worldly problems or for removal of obstacles in our daily routine life. This should be learnt and practiced with devotion for self enlightenment.

न    तिथिर्न    च    नक्षत्रं    न    वारो    ग्रहदेवताः।

न च विष्टिर्व्यतीपातो वैधृत्याद्यास्तथैव च।।29।।

अन्वय -- न तिथि:, न नक्षत्रं न वार: (न) ग्रहदेवता:, न च विष्टि:,

व्यतीपात: वैधृति-आद्या: तथैव च।

भावार्थ& स्वरज्ञानी को किसी काम को प्रारम्भ करने के लिए ज्योतिषीय दृष्टिकोण से शुभ तिथि, नक्षत्र, दिन, ग्रहदेवता, भद्रा, व्यतिपात और योग (वैधृति आदि) आदि के विचार करने की आवश्यकता नहीं पड़ती। अर्थात् कार्य के अनुकूल स्वर और तत्व के उदय काल में कभी भी कार्य प्रारम्भ किया जा सकता है।

English Translation:- A person, who is well acquainted with the knowledge of Swara Science, including practices, needs not to wait for an auspicious moment like day Nakshatra, Tithi, planet swami, Yoga etc required from the astrological point of view to start a work. What he needs is to choose swara and rising of Tattavas therein suitable for the work in hand and that moment will be always auspicious only.

कुयोगो  नास्तिको  देवि  भविता   वा कदाचन।

प्राप्ते स्वरबले शुद्धे सर्वमेव शुभं फलम्।।30।।

अन्वय -- हे देवि, (कश्चित) कदाचन कुयोगो नास्तिको भविता, (अपि)

शुद्धे स्वरबले प्राप्ते (तस्मै) सर्वम् एवं शुभं फलम् प्राप्तम्।

भावार्थ& हे देवि, यदि कोई व्यक्ति दुर्भाग्य से कभी नास्तिक हो जाये, तो स्वरोदय ज्ञान प्राप्त कर लेने पर वह पुन: पावन हो जाता है और उसे भी शुभ फल ही मिलते हैं।

English Translation:- O Goddess, in case, a person becomes atheist due to one or the other reason, he can also be pious man and he will achieve all kinds of happiness and good fortune.

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपके इस ज्ञान बांटने के मुहिम को नमन। यह सिलसिला ज़ारी रखें, टिप्पणियों की परवाह किए बगैर। यहां, (अंतरजाल की दुनियां में) इसे टिपियाने कोई नहीं आएगा, पर जो आप ब्लॉगजगत और समाज को दे रहे हैं, वह अद्वितीय, असाधारण और अनुपम है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वर की महिमा से परिचित कराने के लिए आपका आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हास्यफुहार जी से पूरी तरह सहमत हूँ। सही है कि आपके इन गम्भीर आलेखों पर पाठकों और टिप्पणी कर्ताओं की कमी दिखती हो लेकिन आपका महती कार्य ब्लाग जगत और साहित्य जगत के लिए धरोहर है। आपका यह कार्य हमेशा स्मरण किया जाएगा।

    आभार सहित,

    हरीश

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ग्यानवर्द्धक आलेख। इस महिमा का वर्णन जारी रहे। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. aabhar is sankalan ko ham tak pahuchaane ke liye. lagta he ye gyanvardhak baate padh padh kar hi ham to paaanditye kuchh to pa hi lenge.

    puneh aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  6. उपयोगी एवं आध्यात्मिक जानकारी !
    ब्लॉग के सहयोगियों एवं सभी पाठकों को महाष्टमी की हार्दिक शुभ-कामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. हास्यफ़ुहार जी की टिप्पणी मेरी ही मानी जाए। और करण जी की बाते मेरी।

    बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    सर्वमंगलमंगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।
    शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोsस्तु ते॥
    महाअष्टमी के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    स्वरोदय महिमा, “मनोज” पर!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप के इन सभी रचनाओं से, हमें अपने ज्ञान कोस को बढाने में बहुत मदद मिल रही है|
    आप का बहुत - बहुत आभार, आप अपनी दया दृष्टी कभी लाल कलम पर भी पड़े
    हमारा पता है http://deep2087.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी जानकारी देती ज्ञानवर्द्धक पोस्ट ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. .

    Another beautiful post ! Interesting and informative as well.

    Thanks.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  11. मगर स्वर-विज्ञानियों की ज्योतिषीय आस्था आम आदमी से ज्यादा देखी गई है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही उपयोगी पोस्ट!
    श्लोकों का हिन्दी अनवाद स्वदेशियों के लिए और साथ में अंग्रेजी का अनुवाद विदेशियों को भी इनकी महत्ता समझाने में सहायक सिद्ध होगा!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ग्यानवर्द्धक आलेख।


    नवरात्र और दशहरा...धूमधाम वाले दिन आए...बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. अनूठे कार्य के लिए आपको बधाई भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं
  15. उम्दा और सराहनीय प्रस्तुती के लिए आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. हास्यफुहार से सहमत, मै आप के सारे लेख पढता हुं टिपण्णि भी देता हुं कभी कभी टिपण्णी देते वक्त आप का ब्लांग बहुत देर से भी नही खुलता, शायद तभी लोग भाग जाते होंगे, सब से अच्छा आप ज्यादा विजेट मत लगाये, जिस से ब्लांग जल्द खुले फ़िर देखे...

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह आज तो स्वर की महिमा का संपूर्ण कीर्तन हो गया आपका अनेक धन्यवाद । हमारे पार्वती परमेश्वर के संवाद में शायद कोई विषय छूटा न होगा ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।