सोमवार, 11 अक्तूबर 2010

दुर्नामी लहरें

 

आजकल मन में भावनाऒं का सैलाव उठा है। जब बात झकझोड़ती है तो मन उद्वेलित हो जाता है। फिर भावनाओं का आवेग सारे बांध तोड़ उमड़ पड़ता है। जैसे सुनामी!

प्राकृतिक आपदाओं में सुनामी अब बड़े पैमाने पर जान-माल की तबाही का पर्याय बनने लगी है। छह साल पहले 2004 में देश के पूर्वी तट पर आए सुनामी में लाखों लोगों की जिंदगी तबाह हो गई थी। लाखों लोगों ने अपना सब कुछ गंवा दिया था।

१४ अक्तूबर को वर्ल्ड डिजास्टर रिडक्शन डे (World Disaster Reduction Day) मनाया जाता है। उस दिन तो हम देसिल बयना लेकर आएंगे।  इसलिए आज ही उस पर विशेष प्रस्तुति करने का मन बन गया। सुनामी के कहर के बाद एक कविता लिखी थी। आज वही प्रस्तुत है।

दुर्नामी लहरें

IMG_0130मनोज कुमार

हुई पुलिन1 पर मौन,                                  1. पुलिन :: जल के हट जाने से निकली जमीन

उदधि की प्रबल तरंगे

           सिर धुनकर।

हतप्रभ है जग,

अब वसुधा की

विकल वेदना सुन-सुनकर।

 

अण्डमान की वह रसवन्ती,

देह हो गई क्षत-विक्षत।

ले अंतिम उच्छ्वास मौन है,

जड़-चेतन मय जीव-जगत।

लहरों के

घातक करघे से,

मौत गई बरबादी बुनकर।

 

थमी तरंगों पर पतवारें,

शिथिल हुई कमज़ोर मुट्ठियां।

शिशुओं के मुख, माताओं के

आंसू की भर गई घुट्टियां।

विधना ने खारा जल सींचा

सबकी

पलकों पर

                चुन-चुनकर।

 

आज नियति जीवन की,

टूटे नक्षत्रों जैसा भटकाव।

डोल रही धरती ख़बरों से,

आज यहां कल वहां पड़ाव।

उठे हाथ,

फिर गिरे जानु पर

अपना ही सिर धुन-धुनकर।

 

आशा जीवन की रही नहीं,

न साधन है न कोई साध्य।

पीड़ाओं के बस पहाड़,

नित नई मौत मरने को बाध्य।

बुझी हुई आंखों में सपने

मरते जाते

                घुन-घुनकर।

(चित्र आभार गूगल सर्च)

46 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभिधीयते।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
    नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    दुर्नामी लहरें, को याद करते हैं वर्ल्ड डिजास्टर रिडक्शन डे पर , मनोज कुमार, “मनोज” पर!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मर्मस्पर्शी रचना है ... प्राकृतिक आपदाओं से मुक्ति नहीं है ... इससे पता लगता है की जीव जगत के प्रभु इन्सान प्रकृति के सामने कितना बेबस है

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत संवेदनशील रचना ... मनुष्य ने प्रकृति के नियमों का इतना उलंघन कर दिया है की वो अपने आपको को संतुलित करने में लगी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आशा जीवन की रही नहीं,

    न साधन है न कोई साध्य।

    पीड़ाओं के बस पहाड़,

    नित नई मौत मरने को बाध्य।

    बुझी हुई आंखों में सपने

    मरते जाते

    घुन-घुनकर।

    बहुत संवेदनशील रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर, सरस और संवेदनशील कविता है। सुनामी की त्रासदी को आँखों के सामने फिर से चित्रित कर दिया इसने। चुन-चुन कर पिरोए गए शब्द और आद्योपांत प्रवाह कविता का सौन्दर्य है। अलग तरह के बिम्ब और शब्दों में भरे नए अर्थ इसे अप्रतिम आभा से सम्पन्न करते हैं। देखिए -

    'अण्डमान की वह रसवन्ती,

    देह हो गई क्षत-विक्षत।

    ले अंतिम उच्छ्वास मौन है,

    जड़-चेतन मय जीव-जगत।

    लहरों के

    घातक करघे से,

    मौत गई बरबादी बुनकर।'

    शुभकामनाएं।
    - हरीश

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज आपने अपनी रचना के माध्यम से फिर सुनामी के दृश्य को उजागर कर दिया है ....

    बहुत संवेदनशील रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. हम अंडमान में बैठकर इस विभिषका को समझ सकते हैं..शानदार पोस्ट.


    ____________________
    'शब्द-सृजन..." पर आज लोकनायक जे.पी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद मार्मिक चित्रण कर दिया सुनामी का जीवन्त चित्रण्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 12 -10 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थक शब्दों का बेहतरीन उपयोग कर आपने जैसे सुनामी का दृश्य फिर से जीवंत कर दिया .और तस्वीरों ने उसे और मर्मस्पर्शी बना दिया है.
    संवेदनशील रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  11. इसे विडंबना ही कहेंगे कि वे लोग भी प्रकृति के शिकार हो जाते हैं जिनका जीवन प्रकृति के सबसे निकट है!

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाव, प्रवाह व प्रंजलता के दृष्टिकोण से अत्यंत उच्च कोटि की रचना है। मनोज जी को इस उत्कृष्ट कविता के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  13. "आशा जीवन की रही नहीं,

    न साधन है न कोई साध्य।

    पीड़ाओं के बस पहाड़,

    नित नई मौत मरने को बाध्य।

    बुझी हुई आंखों में सपने

    मरते जाते

    घुन-घुनकर। "... आपने सुनमी की याद ताजा कर दी और ज़ख्म भी... विश्व त्रासदी दिवस ऐसा है जिसकी शुभकाम्ना नही दी जा सकती..काम्ना करें कि विश्व के किसी हिस्से मे ऐसी त्रसदी दोबारा ना हो...

    उत्तर देंहटाएं
  14. jo ghata tha sab aankho ke samne jeevant ho utha hai........
    Bahut hee samvedansheel rachana.........

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही भावपूर्ण और मार्मिक प्रस्तुती! सुन्दर और संवेदनशील रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  16. उफ़...... ! विभीषिका की भीषण पीड़ा और यह कोमल-कान्त शब्द..... लेकिन उस पहाड़ जैसी पीड़ा को भी लहर के साथ अभिव्यक्त करने में सक्षम ! वस्तुतः सामयिक रचनाये इतनी उच्चकोटि की बन जाए तो कवि को बरबस धन्यवाद देने का मन करता है ! अस्तु !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेहद संवेदनशील रचना, जिन्होने इस त्रासी को भुगता होगा उन पर क्या बीती होगी. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  18. आशा जीवन की रही नहीं,

    न साधन है न कोई साध्य।

    पीड़ाओं के बस पहाड़,

    नित नई मौत मरने को बाध्य।

    बुझी हुई आंखों में सपने

    मरते जाते

    घुन-घुनकर।
    --


    -------
    पीड़ा को भी शहनाई की भाति बजाया गया है!

    --
    बहुत ही हृदयस्पर्शी रचना रची है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुनामी का चित्रण प्रस्तुत करती उत्कृष्ट कविता के लिए बहुत बहुत आभार। - : VISIT MY BLOG :- मेरे ब्लोग पर पढ़िये इस बार........ जाने किस बात की सजा देती हो?..........गजल।

    उत्तर देंहटाएं
  20. एक एक शब्द दिल को बेंइन्तहा दुख की सुनामी से मिलवाता हुआ. सशक्त शब्दों, एहसासों से सृजित रचना उत्कृशट बन पड़ी है. और जो चित्र लगाए हैं रचना को और भी प्रभावशाली बना रहे हैं.

    एक उच्चकोटि की रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  21. मनोज बाबू,
    कम से कम तीन चार बार आपकी इस कविता का सस्वर पाठ करने के बाद जो उद्वेलन अनुभव किया शब्दों का, किंचित वही आघात रहा होगा उन सूनामी लहरों का...उन प्रचंड लहरों का वेग आपकी कविता में स्पष्ट चित्रित हो रहा है...

    उत्तर देंहटाएं
  22. मानवीय संवेदनाओं से परिपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  23. ये कविता तो ऐसी है कि जैसे आप तकली से सूत काढ रहे हों।
    और उस सूत से गढ दिया चित्र सुनामी के कहर का।

    उत्तर देंहटाएं
  24. अपकी यह पोस्ट अच्छी लगी।
    हज़ामत पर टिप्पणी के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  25. आशा जीवन की रही नहीं,

    न साधन है न कोई साध्य।

    पीड़ाओं के बस पहाड़,

    नित नई मौत मरने को बाध्य।

    बुझी हुई आंखों में सपने

    मरते जाते

    घुन-घुनकर।.....

    बहुत ही संवेदनशील प्रस्तुति....इतना सुन्दर शब्द चित्र है की सुनामी की तबाही आँखों के सामने नाचने लगी...बहुत सुन्दर...बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  26. dard ko vidhvans ko lay dekar aapne aapne samvedna ko chune kee kashamta ko aur badha diya hai ...behad umda rachna hai manoj jee

    उत्तर देंहटाएं
  27. बेहद संवेदनशील प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. मर्मस्पर्शी रचना है जीव जगत के प्रभु इन्सान प्रकृति के सामने कितना बेबस है

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत ही सुन्दर, सरस और संवेदनशील कविता है। सुनामी की त्रासदी को आँखों के सामने फिर से चित्रित कर दिया इसने।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है!
    या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
    नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  31. aadarniy sir,
    aaj aapki sunami par likhi gai kavita ne fir se us vibhats ghatna ki yaad dila di jo sabhi ke manas patal par apni amit chhap chhod gaya hai.bahut hi sanvedan shil v va aakhon ko nam kar gai aapki yah kavita.

    आशा जीवन की रही नहीं,

    न साधन है न कोई साध्य।

    पीड़ाओं के बस पहाड़,

    नित नई मौत मरने को बाध्य।

    बुझी हुई आंखों में सपने

    मरते जाते

    घुन-घुनकर।
    basab dil me aapki kavita ghar gai gai hai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत भाव पूर्ण रचना। मन को छू गई आपकी यह रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  33. दर्द और मानव कि विवश्ता का सटीक चित्रण किया है। पहली बार इस शब्द से परिचय उसी दिन हुआ था और उसकी विकरालता का अहसास भी।

    उत्तर देंहटाएं
  34. "आशा जीवन की रही नहीं,
    न साधन है न कोई साध्य।
    पीड़ाओं के बस पहाड़,
    नित नई मौत मरने को बाध्य।
    बुझी हुई आंखों में सपने
    मरते जाते घुन-घुनकर।"

    बेहद मार्मिक और ह्र्दय विदारक एवं संवेदनशील प्रस्तुति. उस घनीभूत पीड़ा संसार के चित्रों को देख उसके आगे कुछ कह पाने की गुंजाईश ही नहीं रह जाती.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  35. संवेदनशील मर्मस्पर्शी मार्मिक प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।