सोमवार, 25 अक्तूबर 2010

कविता - पता पूछते हैं लोग

पता पूछते हैं लोग

 photo Gyan

ज्ञानचंद मर्मज्ञ

पानी   में   मछलियों का पता पूछते हैं लोग,

आंसू  से सिसकियों का पता पूछते हैं लोग !

 

बारूद   के   ईमान   पर    है  इतना  भरोसा,

माचिस की तीलियों का पता पूछते हैं लोग !!

 

अक्सर चमन में शाख से फूलों को तोड़ कर,

बेदर्द   आँधियों   का   पता   पूछते  हैं लोग !

 

पढ़ते   हैं   महज   खून  के  रंगों  की कहानी,

आदत  है  सुर्ख़ियों  का  पता पूछते हैं लोग !!

 

चिंगारियों    की    राख  संभाली   नहीं   गयी,

शोलों और बिजलियों का पता पूछते हैं लोग !

 

फूलों  ने  जब  से   छोड़ा   खिलना   बहार   में,

पत्थर  से  तितलियों का पता पूछते हैं लोग !!

 

उनके   घरों   से  देख  कर  उठता  हुआ  धुंआ,

विश्वास  के  दीयों  का  पता  पूछते  हैं   लोग !

 

जंगल  में  राम  भेज  कर  सीता  को जला कर,

मंदिर  की  सीढियों  का  पता  पूछते  हैं लोग !!

32 टिप्‍पणियां:

  1. उनके घरों से देख कर उठता हुआ धुंआ,

    विश्वास के दीयों का पता पूछते हैं लोग !
    एक से बढकर एक मोतियों से पिरोया यह हार बहुत बढिया लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. .

    अक्सर चमन में शाख से फूलों को तोड़ कर,

    बेदर्द आँधियों का पता पूछते हैं लोग !

    -----

    Beautiful creation !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने अन्दर तो झाँकते नहीं अब,
    अपने मन का ही पता पूछते हैं लोग।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहार खुद झुलसाने वाले , तितलियों का पता पूछते हैं
    जाने किस- किस का पता पूछते हैं लोंग ...

    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. जंगल में राम भेज कर सीता को जला कर,
    मंदिर की सीढियों का पता पूछते हैं लोग !!

    kya bat hai ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. जंगल में राम भेज कर सीता को जला कर,

    मंदिर की सीढियों का पता पूछते हैं लोग !!.... हिंदी में इतनी बढ़िया ग़ज़ल कम देखने को मिलती हैं.. हर शेर मोतियों के समान.. संग्रहनीय.. अंतिम पंक्तिया सबसे उम्दा..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हम कौन थे,क्या हो गए हैं और क्या होंगे अभी!

    उत्तर देंहटाएं
  8. उनके घरों से देख कर उठता हुआ धुंआ,

    विश्वास के दीयों का पता पूछते हैं लोग

    बहुत सुन्दर रचना प्रस्तुति... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सबकी टिप्पणियां मेरे मनोबल को ऊंचाई प्रदान करती हैं !
    आपके विचार मेरी कल्पना को नए आयाम देते हैं !
    कोटिशः धन्यवाद !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ
    www.marmagya.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज कल ब्लागजगत में यही हो रहा है:

    चिंगारियों की राख संभाली नहीं गयी,

    शोलों और बिजलियों का पता पूछते हैं लोग !

    बहुत ही प्रेरणादायक।

    उत्तर देंहटाएं
  11. जंगल में राम भेज कर सीता को जला कर,

    मंदिर की सीढियों का पता पूछते हैं लोग !

    गहरी पंक्तियाँ ..बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी कविता बहुत अच्छी लगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अक्सर चमन में शाख से फूलों को तोड़ कर,
    बेदर्द आँधियों का पता पूछते हैं लोग ......
    ...... क्या बात है !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस ग़ज़ल पर कहने के लिए कुछ शब्दों की तलाश है हर एक बात अन्दर जा कर इंसानियत को कचोटती है

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह ...वाह...वाह...
    क्या तारीफ करूँ...बेमिसाल लेखन है मर्मज्ञ जी का...अतिशय प्रभावित हुई हूँ मैं..

    हर शेर ने दाद निकलवा लिया मुंह से...
    बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर इस रचना को पढवाने के लिए आपका आभार !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बारूद के ईमान पर है इतना भरोसा,

    माचिस की तीलियों का पता पूछते हैं लोग !!

    वाह.... वाह.... ! बहुत खूब !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. उनके घरों से देख कर उठता हुआ धुंआ,
    विश्वास के दीयों का पता पूछते हैं लोग !


    -वाह!! बेहतरीन!

    उत्तर देंहटाएं
  18. A true reflection of human expression.It has touched the core of my heart.This post is true in spirit and letters in all respect. Thanks-Thanks and thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  19. खूबसूरत ग़ज़ल, हर शेर लाजवाब..एक से बढ़कर एक...वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  20. 6.5/10

    संजो के रखी जाने लायक ग़ज़ल
    हर शेर उम्दा भाव के साथ दिल को छूता है लेकिन आखिरी शेर तो मन को झकझोर ही देता है.
    मैं जनाब ज्ञान साहब को मुबारकबाद देता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत गजब की रचना जी , एक एक लाईन अपना अलग ही असर छोडती हे, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  22. !! सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा !!

    उत्तर देंहटाएं
  23. मेरी ग़ज़ल आप सबके दिल को छू सकी, मै इसे अपना सौभाग्य समझता हूँ ! मनोज जी और करण जी का विशेष आभारी हूँ जिनके कारण यह ग़ज़ल आप तक पहुंची ! आप सभी का मै तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ
    www.marmagya.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. पढ़ते हैं महज खून के रंगों की कहानी,

    आदत है सुर्ख़ियों का पता पूछते हैं लोग !!

    bahut khoobsurat rachna .... na jaane kitne sawaalon ke jawaab puchte hain log ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. चिंगारियों की राख संभाली नहीं गयी,
    शोलों और बिजलियों का पता पूछते हैं लोग ..
    उफ़ ... क्या शेर हैं ... एक से बढ़ कर एक आतिशी शेर ...
    कमाल की ग़ज़ल है .... बहुत बहुत बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  26. जंगल में राम भेज कर सीता को जला कर,
    मंदिर की सीढियों का पता पूछते हैं लोग !!
    satya sundarta se abhivyakt hua hai!
    sundar rachna!

    उत्तर देंहटाएं
  27. जंगल में राम भेज कर सीता को जला कर,
    मंदिर की सीढियों का पता पूछते हैं लोग !!
    satya sundarta se abhivyakt hua hai!
    sundar rachna!

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।