मंगलवार, 16 फ़रवरी 2010

किस अधर का गीत हूँ मैं

-- करण समस्तीपुरी


किस अधर का गीत हूँ मैं ?

जान पाया मैं नहीं,

किस साज का संगीत हूँ मैं??

किस अधर का गीत हूँ मैं ??

***

किस भाव की अभिव्यक्ति हूँ,

किस भाव में अनुरक्ति हूँ,

किसी तप्त उर का उच्छवास,

या तृषित मन की प्यास हूँ मैं!

जान पाया मैं नहीं,

किस हृदय का प्रीत हूँ मैं!!

किस अधर का गीत हूँ मैं ??

***

किस का स्वर-सन्धान हूँ,

अभिशाप या वरदान हूँ!

किस गिरा गह्वर से फुरित,

किस रागिनी का गान हूँ!

जान पाया मैं नहीं,

हूँ हार या कि जीत हूँ मैं!!

किस अधर का गीत हूँ मैं ??

***

क्रूर काल का ग्रास हूँ ,

किंतु अमिट प्रयास हूँ !

स्वर्ण पत्रों पर लिखा,

स्वर्णिम अमर इतिहास हूँ !!

भूल बैठे सब जिसे,

वह पूर्वजों की रीत हूँ मैं!

किस अधर का गीत हूँ मैं ??

***

21 टिप्‍पणियां:

  1. क्रूर काल का ग्रास हूँ ,
    किंतु अमिट प्रयास हूँ !
    स्वर्ण पत्रों पर लिखा,
    स्वर्णिम अमर इतिहास हूँ !!

    इतिहास की वीथियों को ज़ुबान से दी आपने ..... और तो पता नही पर भारत की आत्मा ज़रूर पूछती होगी भारतवासियों से ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. किस का स्वर-सन्धान हूँ,

    अभिशाप या वरदान हूँ!

    किस गिरा गह्वर से फुरित,

    किस रागिनी का गान हूँ!

    जान पाया मैं नहीं,

    हूँ हार या कि जीत हूँ मैं!!

    किस अधर का गीत हूँ मैं ??
    हर एक पँक्ति अद्भुत सुन्दर है बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. भूल बैठे सब जिसे,

    वह पूर्वजों की रीत हूँ मैं!
    ye do panktiya apane me bahut kuch samete hai........

    bahut sunder geet ................

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. किस का स्वर-सन्धान हूँ,

    अभिशाप या वरदान हूँ!

    किस गिरा गह्वर से फुरित,

    किस रागिनी का गान हूँ!

    जान पाया मैं नहीं,

    हूँ हार या कि जीत हूँ मैं!!

    किस अधर का गीत हूँ मैं ??

    बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  6. मनोज जी आपकी कई लाइनें बहुत ही उम्दा है,बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर पंक्तियों के साथ ....सुंदर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  8. जान पाया मैं नहीं,

    हूँ हार या कि जीत हूँ मैं!!

    किस अधर का गीत हूँ मैं ??
    Behad sundar rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  9. भूल बैठे सब जिसे,

    वह पूर्वजों की रीत हूँ मैं!


    किस अधर का गीत हूँ मैं ??

    बहुत सुन्दर भावों से सजी खूबसूरत रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  10. ***

    क्रूर काल का ग्रास हूँ ,

    किंतु अमिट प्रयास हूँ !

    स्वर्ण पत्रों पर लिखा,

    स्वर्णिम अमर इतिहास हूँ !!

    भूल बैठे सब जिसे,

    वह पूर्वजों की रीत हूँ मैं!


    किस अधर का गीत हूँ मैं ??
    aabhari hoon ,itni sundar rachna padhwane ke liye shukriyaan

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।