रविवार, 15 अगस्त 2010

स्वाधीनता दिवस पर … क्या यही है स्वतंत्रता!

स्वाधीनता दिवस पर …

क्या यही है स्वतंत्रता!

[12012010005[7].jpg]

मनोज कुमार

स्वतंत्रता की तिरसठवीं जयंती,

मना रहे हम भारतवासी।

सैंतालिस के मध्य निशा की,

क्या हमको है याद ज़रा सी।

ख़ुशियां ख़ूब मनाई सबने,

दुख का मौसम दूर किया था।

कुचला था एक सर्प, दर्प

अंगरेज़ों का चूर किया था।

हो तो गए स्वतंत्र, हमारी

क्या मिट सकी उदासी।

सैंतालिस के मध्य निशा की,

क्या हमको है याद ज़रा सी।

कैसे - कैसे बलिदान किए,

धन्य - धन्य बलिदानी।

काल - कोठरी अन्धकूप के,

पी गए कालापानी।

कितने कितने आदर्श दिए,

स्वीकारी हंस हंसकर फांसी।

सैंतालिस के मध्य निशा की,

क्या हमको है याद ज़रा सी।

बापू के सुन्दर सपनों का,

हमने ख़ूब किया अभिनंदन।

नाम कलंकित किया देश का,

टीक भाल पर ख़ूनी चंदन।

ज़ार - ज़ार रोता वृंदावन,

कलपे मथुरा, अयोध्या, काशी।

सैंतालिस के मध्य निशा की,

क्या हमको है याद ज़रा सी।

पृथ्वी, अग्नि, राकेट, अणुबम,

हमारा इतना हुआ विकास।

फिर भी इन भूलों का,

प्रतिपल होता है एहसास।

स्वाभिमान क्यों बिका हमारा,

अपनी वृत्ति बनी क्यों दासी।

सैंतालिस के मध्य निशा की,

क्या हमको है याद ज़रा सी।

एक और प्रस्तुति रात १०.०० बजे


हरीश प्रकाश द्वारा

27 टिप्‍पणियां:

  1. मार्मिक !

    क्या बात है ! बहुत खूब !

    अंग्रेजों से हासिल मुक्ति-पर्व मुबारक हो !
    समय हो तो अवश्य पढ़ें :

    आज शहीदों ने तुमको अहले वतन ललकारा : अज़ीमउल्लाह ख़ान जिन्होंने पहला झंडा गीत लिखा http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_14.html

    शहरोज़

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या कहें!

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

    सादर

    समीर लाल

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

    बहुत अच्छी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  5. एह अच्छी कविता प्रस्तुत करने के लिये आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  6. शहीदों को नमन, आपकी कविता के माथ्यम से।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सोचने पर मजबूर करती रचना

    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

    हैपी ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत चित्रण आज की दशा का.
    कुछ इस कलम का असर हो और कुछ बदलाव आये यही उम्मीद करती हूँ.
    बहुत सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बन्दी है आजादी अपनी, छल के कारागारों में।
    मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।
    --
    मेरी ओर से स्वतन्त्रता-दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें!
    --
    वन्दे मातरम्!

    उत्तर देंहटाएं
  10. *********--,_
    ********['****'*********\*******`''|
    *********|*********,]
    **********`._******].
    ************|***************__/*******-'*********,'**********,'
    *******_/'**********\*********************,....__
    **|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
    ***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
    ***`\*****************************\`-'\__****,|
    ,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
    \__************** DAY **********'|****_/**_/*
    **._/**_-,*************************_|***
    **\___/*_/************************,_/
    *******|**********************_/
    *******|********************,/
    *******\********************/
    ********|**************/.-'
    *********\***********_/
    **********|*********/
    ***********|********|
    ******.****|********|
    ******;*****\*******/
    ******'******|*****|
    *************\****_|
    **************\_,/

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर रचना, शहीदो को शत शत नमन

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सभी मित्रों का आभर।
    खास कर बबली जी की अद्भुत टिप्पणि के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  13. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!!


    http://iisanuii.blogspot.com/2010/08/blog-post_15.html

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर रचना! ६३ वर्ष में हम कहाँ पहुँच गए इसका मार्मिक चित्रण किया है आपने.. चित्रों से सजी कविता अलग प्रभाव छोडती है.. "सैंतालिस के मध्य निशा की, क्या हमको है याद ज़रा सी " ये पंक्तियों की पुनरावृति बहुत प्रभावित और प्रेरित करती है..

    उत्तर देंहटाएं
  15. स्वतंत्र दिवस की शुभकामना ! बहुत सुंदर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  16. मार्मिक चित्रण।
    सुंदर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत अच्छी और मार्मिक रचना।

    सभी सदस्यों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब !
    बेहद प्रभावशाली पोस्ट !
    samay हो तो अवश्य पढ़ें:

    पंद्रह अगस्त यानी किसानों के माथे पर पुलिस का डंडा
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_15.html

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर कविता.
    सोचने के लिए बाध्य करती.

    उत्तर देंहटाएं
  20. मंगलवार 17 अगस्त को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ....आपका इंतज़ार रहेगा ..आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है ... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  21. स्वाभिमान क्यों बिका हमारा,
    अपनी वृत्ति बनी क्यों दासी।

    बहुत सही कहा, सशक्त कविता. हालात बदतर और चिंतनीय.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खूब ... बेहद तीखा लिखा है पर सत्य लिखा है ... हम भूल गये हैं असल आज़ादी .....

    उत्तर देंहटाएं

आपका मूल्यांकन – हमारा पथ-प्रदर्शक होंगा।